Atal hind
टॉप न्यूज़ राजनीति सोनीपत हरियाणा

किस बीजेपी नेता ने कहां किया संवाद,बरोदा जीत  के लिए पूरी हरियाणा बीजेपी आई सड़कों पर 

किस बीजेपी नेता ने कहां किया संवाद,बरोदा जीत  के लिए पूरी हरियाणा बीजेपी आई सड़कों पर

 

भाजपा ने चुनाव रणनीति को अमलीजामा पहनाया

कॉरपेट बॉम्बिंग अंदाज में धुआंधार प्रचार

28 नेताओं ने 54 गांव में किसानों से संवाद किया

–atal hind)

गोहाना। बरोदा उपचुनाव को जीतने की दिशा में आगे बढ़ते हुए भारतीय जनता पार्टी ने (Carpet Bombing) कॉरपेट बॉम्बिंग के अंदाज में 28 नेताओं के साथ 54 गांव में एक साथ चौतरफा धुआंधार चुनाव प्रचार अभियान का बिगुल फूंक दिया। बरोदा उपचुनाव को रसूख का सवाल बना चुकी भारतीय जनता पार्टी ने आज 28 नेताओं के साथ चौतरफा धुआंधार चुनाव प्रचार का बिगुल फूंक दिया।

Gohana Moving towards winning the Baroda by-election, the Bharatiya Janata Party (Carpet Bombing), along with 28 leaders in the form of corporate bombing, burnt the trumpet campaign in an all-out campaign in 54 villages. The Bharatiya Janata Party, which has made the Baroda by-election a question of influence, today blew up all round election campaign with 28 leaders.

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला के अगुवाई में बरोदा गांव से शुरू हुए चुनाव प्रचार में एक ही दिन में हलके के सभी 54 गांवों में भाजपा ने जोरदार प्रचार अभियान शुरू कर दिया। पार्टी के सभी टिकट दावेदारों के अलावा सभी स्थानीय नेताओं को चुनाव प्रचार में झौंक दिया है। भाजपा ने बड़ी चुनावी रणनीति को अमलीजामा पहनाते हुए एक ही दिन में पूरे हलके को चुनाव की सरगर्मी चकाचौंध करते हुए चुनाव जीतने के बुलंद इरादों को जाहिर कर दिया। भाजपा ने आज हलके के सभी गांव में एकसाथ अपने नेताओं की भारी-भरकम टीम उतार कर खुद को प्रचार अभियान में फ्रंट फुट पर मजबूती से खड़ा कर कांग्रेस को कहीं पीछे धकेल दिया है। गौरतलब है कि इससे पहले पार्टी की ट्रैक्टर धन्यवाद यात्रा,जेपी दलाल (कृषि मंत्री हरियाणा) समेत आधा दर्जन मंत्रियों का क्षेत्र में लगातार लोगों से जनसंपर्क अभियान व खुद मुख्यमंत्री मनोहर लाल का पत्रकार वार्ता के माध्यम से बरोदा क्षेत्र की जनता से संवाद करना,भाजपा की चुनावी जमीन को मजबूत कर चुका हैं,ऐसे में पार्टी ने कृषि अध्यादेश पर किसानों के संशय को दूर करने के लिए इस तरह के बड़े कार्यक्रम का आयोजन कर एक तीर से कई निशाने लगाए हैं। आत्मविश्वास से “लबरेज” पार्टी के चुनावी रणनीति चाणक्य कहे जाने वाले सांसद संजय भाटिया दावा करते हैं कि हम बरोदा उपचुनाव जीतकर इतिहास रचाएंगे।

किस नेता ने कहां किया संवाद
कृषि मंत्री जेपी दलाल कहल्पा व कथुरा,राज्य मंत्री कमलेश ढांडा छिछड़ाना व मिर्जापुर खेड़ी,राज्यसभा सांसद रामचंद्र जांगड़ा सिकंदरपुर माजरा व बाली,रोहतक से लोकसभा सांसद अरविंद शर्मा ने मदीना व ठसका,दादरी से विधायक सोमवीर सांगवान रामगढ़ व रिंढाणा,सिरसा के जिला अध्यक्ष आदित्य चौटाला ढुराना व मुंडलाना,सुभाष बराला बरोदा व भैंसवाल कला,कृष्ण लाल पंवार बिचपड़ी व छतहैरा में,शमशेर खरकड़ा पुट्ठी व मोई,सुरेंद्र पूनिया जसराना व गुमाना,सतीश नांदल आहुलाना व भैसवान खुर्द,विक्रम कादयान गंगाना व भावड़,जसवीर देशवाल बुटाना व कोहला,डी पी वत्स भंडेरी व छपरा,आजाद नेहरा आंवली व रभडा़,राजु मोर रिवाडा़ व मातंड, सुरेंद्र अहलावत राणा खेड़ी व जागसी,वेदपाल एडवोकेट भाडौती खास व जवाहरा,रणबीर ढाका बुसाना व शामडी़,कैप्टन भूपेंद्र रामगढ़ महमूदपुर व सिवानका,बलवान दौलतपुरिया सिरसाढ़ व अहमदपुर माजरा,बच्चन सिंह आर्य बनवासा व ईशापुर खेड़ी,डॉ घिलौड बिलबिलान व नुरन खेड़ा,महिपाल ढांडा घड़वाल व निजामपुर,डॉ पहल छिडा़ना व माहरा,सुनीता दुग्गल वे तीर्थ राणा रुखी,धर्मपाल मकडौली व तीर्थ राणा कटवाल में,धर्मपाल मकडौली खानपुर खुर्द और सुनीता दुग्गल धनाना मंण जाकर किसानों को अध्यादेशों के प्रति किसानों को जागरूक किया।

किसान और अधिक खुशहाल व उन्नत होगा-दलाल
कृषि मंत्री जेपी दलाल ने कथुरा में किसानों से संवाद करते हुए कहा कि तीनों अध्यादेशों से प्रदेश का किसान और अधिक खुशहाल व उन्नत होगा। किसान अपनी मर्जी से अपनी फसल बेच सकेगा। किसान पर किसी प्रकार की कोई पाबंदी नहीं होगी। अध्यादेशों में किसानों को अपनी फसल बिक्री के लिए छूट दी गई है और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) खत्म नहीं होगा व अनुबंध खेती में ई- रजिस्ट्री में सारा लेखा-जोखा होगा। इसके अलावा किसानों को नवीनतम खेती की जानकारी मिल सकेगी। देश के किसानों के लिए उत्पाद बेचने को अन्य विकल्पों का प्रावधान किया है,जो वास्तव में किसानों को आर्थिक रूप से मजबूत करने का काम करेगा। पूंजीपति किसान का शोषण करता था,इन विधेयकों से किसानों को उस शोषण से मुक्ति मिलेगी और किसान की किस्मत बदलेगी।

किसान की आत्मनिर्भरता के लिए ऐतिहासिक क़दम-बराला
भाजपा के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला ने कहा कि असल में इन तीनों विधेयकों को देखा जाए तो इनका लाभ किसानों को ही मिलेगा। किसान की स्वेच्छा और उसकी आत्मनिर्भरता के लिए यह ऐतिहासिक क़दम है। यह कदम फसल की बुवाई से पहले किसान को अपनी फसल को तय मानकों और तय कीमत के अनुसार बेचने का अनुबंध करने की सुविधा प्रदान करता है। कृषि अध्यादेशों के बारे में लोगों को बताया और कहा कि ये मंडी यूं हीं चलेगी और किसाना की फसल यूं हीं एमएसपी रेट पर बिकेगी। विरोधी सिर्फ ढोंग रचकर किसानों को बरगला रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के घोषणा पत्र में कृषि संबंधी अधिनियमों में बदलाव का वादा किया गया था। मगर हैरानी की बात है कि अब जब हम इन अधिनियमों में सुधार कर रहे तो कांग्रेसियों को दिक्कत क्यों हो रही है। इन अध्यादेशों से किसानों के लिए एक दूसरी राह खुली है न कि पहली राह बंद हुई है। दिक्कत तो तब होती जब पहली राह बंद होती। उन्होंने कहा कि नए विधेयक कृषि क्षेत्र में केंद्र सरकार का क्रांतिकारी कदम है। देश के किसान के लिए उत्पाद बेचने को अन्य विकल्पों का प्रावधान किया है,जो वास्तव में किसानों को आर्थिक रूप से मजबूत करने का काम करेगा।

अध्यादेशों की सच्चाई से अवगत कराने आई हूं-ढांडा
छिछड़ाना में किसानों को संबोधित करते हुए कमलेश ढांडा ने कहा कि सबसे पहले किसानों को इन अध्यादेशों की सच्चाई को जानना होगा। विपक्षी पार्टियां अध्यादेश में लिखे तथ्यों को किसानों के सामने अर्थ का अनर्थ बनाकर पेश कर रही हैं इसलिए आज मैं आपके बीच इन अध्यादेशों की सच्चाई से अवगत कराने आई हूं। इस अध्यादेश से किसान अपनी उपज देश में कहीं भी, किसी भी व्यक्ति या संस्था को बेच सकते हैं। इस अध्यादेश में कृषि उपज विपणन समितियों (एपीएमसी मंडियों) के बाहर भी कृषि उत्पाद बेचने और खरीदने की व्यवस्था पुरे देश में तैयार करना है। उन्होंने किसानों से अपील करते हुए कहा कि इन अध्यादेशों को अच्छे से समझें और सरकार का सहयोग करें। यह उनके लिए उनकी खेती को फायदे का सौदा बनाने वाले हैं।

मंडियां पहले की तरह रहेंगी-सांगवान
रिंढाणा गांव में किसानों को संबोधित करते हुए सोमवीर सांगवान ने कहा कि आप की फसल पर केवल आपका अधिकार है,आप इसे जहां चाहे वहां बेच सकते हैं। पहले आपके हाथ बंधे हुए थे कि आप फसल को केवल मंडी में ही बेच सकते हैं परंतु इन अध्यादेशों के आने के बाद आज आप देश में किसी भी जगह अपनी फसल को किसी भी दाम में बेच सकते हो। इससे आप लोगों को फायदा भी होगा और देश का किसान उन्नति के रास्ते पर चलेगा। मोदी सरकार निरंतर किसानों को उन्नति के रास्ते पर लाने के लिए तत्पर है।असल में इन तीनों विधेयकों को देखा जाए तो इनका लाभ किसानों को ही मिलेगा। यह कदम फसल की बुवाई से पहले किसान को अपनी फसल को तय मानकों और तय कीमत के अनुसार बेचने का अनुबंध करने की सुविधा प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि इसके साथ कृषि उपज के निर्यात और दूसरे राज्यों में व्यापार पर लगे सभी प्रतिबंधो को समाप्त किया जाएगा पर जब आज ये काम हो रहे हैं तो इनका विरोध कर रही है। कांग्रेस द्वारा एक माहौल बनाया जा रहा है कि मंडियां बंद हो जाएंगी,एमएसपी को खत्म कर देंगे, किसान की जमीन को बड़े बड़े कारपोरेट घरानों को बेच देंगे।जबकि,ऐसा कुछ नहीं होना है। मंडियां पहले की तरह रहेंगी, फसलों का एमएसपी पहले की तरह ही मिलेगा। किसानों को गुमराह होने की जरूरत नहीं, वे कांग्रेस के भ्रम में ना आएं। उन्होंने कहा कि किसानों को पीछे रखना कांग्रेस की फितरत है। कांग्रेस कभी नहीं चाहती कि देश का किसान भी खुशहाल हो समृद्ध हो।

कांग्रेस ने हमेशा किसानों को छला- सांसद जांगड़ा
हरियाणा से राज्यसभा सांसद रामचंद्र जांगड़ा ने सिकंदरपुर माजरा में किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि आप की फसल पर केवल और केवल आपका अधिकार है और इसे आप अब मनचाहे दामों में देश के किसी भी कोने में बेच सकते हो। पहले के किसान पर पाबंदी थी कि उसे केवल अपनी फसल मंडी में ही बेचनी है लेकिन आज का किसान समझदार हो गया है उसी को देखते हुए मोदी सरकार आपके हित में तीन अध्यादेश लेकर आई है। जिसका आपको सीधा सीधा फायदा होगा अब आप अपनी फसल को मंडियों में एमएसपी पर भी बेच सकते हो और अगर आपको कोई और उस फसल के ज्यादा रुपए देता है तो आप उसे वहां भी बेच सकते हो। जब फसल किसान की है तो उसको बेचने का अधिकार भी किसान का ही होना चाहिए इसी के संदर्भ में यह तीन अध्यादेश लाए गए हैं जो किसानों को प्रगति के रास्ते पर ले जाएंगे। उन्होंने कहा कि कहा कि देश के किसान को यह समझना होगा कि आज कौन उसके हितों को सुरक्षित कर रहा है। भाजपा की ही सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के समय में किसान के लिए क्रेडिट कार्ड तक की योजना बनाई। किसान आयोग बना और भी बहुत सारे काम किसानों को केंद्र में रखकर किए गए पर कांग्रेस ने किसान को इस्तेमाल करने के अतिरिक्त कभी कुछ और नहीं किया। कांग्रेस सरकार ने हमेशा किसानों को छला है।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

चौटाला का सीएम को सीधा-सीधा चैलेंज बरोदा विधानसभा चुनाव में मेरे सामने लड़ें

Sarvekash Aggarwal

दुर्घटना कहीं भी हो ,पीड़ित जहाँ का निवासी वहीँ कोर्ट में कर सकता है केस 

Sarvekash Aggarwal

कलायत नगर पालिका चेयरपर्सन के विरोध में उतरे 9 पार्षद

admin

Leave a Comment

URL