कुछ नी, बाजार का माहौल देखण आए थे…..

कुछ नी, बाजार का माहौल देखण आए थे…..
दूसरे दिन बाजार की भीड़ देखकर सड़कों पर उतरे अधिकारी
लॉक डाऊन के तीसरे चरण में चौपट हो गई थी व्यवस्था

Some people came to see the market environment…

Seeing the crowd of the market on the second day, the officers took to the streets
The system was destroyed in the third phase of lock-down

तरावड़ी, 5 मई (रोहित लामसर)। कोरोना संक्रमण के बचाव के चलते लॉक डाऊन के तीसरे चरण के दूसरे दिन बाजारों की भीड़ देखकर अधिकारियों को सड़कों पर उतरना पड़ा। अधिकारियों ने एक किलोमीटर बाजार में पैदल चलकर न केवल दुकानदारों को लॉक डाऊन के नियमों की पालना करने के बारे में समझाया, बल्कि बिना जरूरत के घर से बाजार में पहुंचे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें भी वापिस भेजा। आपको बता दें कि तरावड़ी के बाजार में मंगलवार को पूरी तरह से भीड़ जमा हुई थी।
अधिकतर लोग बिना मास्क के ही बाजारों में पहुंच रहे थे और पूरी तरह से सोशल डिस्टैंस का उल्लंघन हो रहा था। बाजारों में भीड़ पर काबू पाने के लिए डयूटी मैजिस्ट्रेट सवित पानू, नगरपालिका सचिव बलबीर रोहिल्ला व तरावड़ी थाना प्रभारी सचिन समेत अन्य अधिकारी बाजार में आए और पैदल मार्च करते हुए बाजारों में वाहन लेकर आए लोगों पर कार्रवाई की गई।
लॉक डाऊन की उल्लंघना करने वाले वाहन चालकों के साथ-साथ नियमों का पालन न करने वाले दुकानदारों को सख्ती से नियम भी समझाए गए। इस दौरान दुकानदारों द्वारा अतिक्रमण किया हुआ था। ऐसे दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें चेतावनी दी गई कि यदि फिर से दुकानों का सामान बाहर रखा हुआ मिला तो दुकानों को सील कर दिया जाऐगा। नगरपालिका व पुलिस की टीम को देखकर दुकानदार अपना सामान समेटते हुए दिखाई दिए और जो लोग बिना जरूरत के घरों से बाहर निकल रहे थे, ऐसे ग्राहक भी पुलिस को देखकर रफूचक्कर होते दिखाई दिए।

बाक्स
बाजार में वाहनों की आवाजाही हुई बंद :- बाजार में भीड़ पर काबू पाने के लिए वाहनों की आवाजाही बंद कर दी गई है। तरावड़ी नगरपालिका की टीम ने तरावड़ी के मेन बाजार में कई जगहों पर बांस गाड़कर रास्ते को ब्लाक् कर दिया है, ताकि कोई भी बड़ा-छोटा वाहन बाजार में न आ सके।

बाक्स
जब अधिकारी सड़कों पर पैदल मार्च कर रहे थे तो कई लोगों से जब अधिकारियों ने पूछा कि आप इतनी ज्यादा संख्या में बाजार में क्यों आए हैं, इस पर लोगों ने भी जवाब देते हुए कहा कि कुछ नी…हम तो बाजार का माहौल देखण आए थे….कहने का मतलब यह है कि लोग बिना जरूरत के सड़कों पर निकल रहे हैं और  बाजार की भीड़ देखकर नही लग रहा था तो किसी को कोरोना संक्रमण का डर हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *