Atal hind
कैथल क्राइम टॉप न्यूज़ राष्ट्रीय हरियाणा

कैथल एसपी बोले  नहीं होंगे शिकार और खाते में भी सेफ रहेगी नकदी,

कैथल एसपी बोले  नहीं होंगे शिकार और खाते में भी सेफ रहेगी नकदी,

जिला पुलिस की तरफ से ऑनलाइन ठगी से बचने के लिए एडवाइजरी जारी:-

कैथल (अटल हिन्द/राजकुमार अग्रवाल )

पिछले कुछ दिनों में बडी तेजी से बढे ऑनलाइन ठगी के मामले को रोकने के लिए पुलिस ने रास्ता ढूंढ निकाला है। पुलिस ठगी

करने वाले शातिरों की तो सरगर्मी से तलाश कर ही रही है। साथ ही पुलिस ने इस तरह की ठगी से बचाने के लिए लोगों को टिप्स

भी सुझाये है। इन टिप्सों को फॉलो कर लोग ठगी से बच सकते है। पुलिस अधीक्षक कैथल शशांक कुमार सावन ने जानकारी देते

हुए बताया कि पुलिस की तरफ से आम लोगों को बताया गया कि अगर कोई व्यक्ति उनसे फेसबुक के जरिए मदद मांगे तो

फेसबुक चलाने वाले व्यक्ति से पहले मोबाइल पर संपर्क कर ले, उसके बाद ही किसी तरह की मदद करें, क्योंकि फेसबुक आईडी

हैक करने के साथ-साथ फर्जी आईडी के जरिए भी इस तरह की ठगी की जा रही है। शातिर ठग लिंक के जरिए भी ठगी कर रहे

है। मोबाइल पर भी प्रलोभन का मैसेज भेजते है और उस लिंक को क्लीक करते ही खाते से नकदी साफ होने लग जाती है। ऐसे

लिंक को पूरी तरह इग्नोर कर दें। साथ ही ओएलएक्स पर सामान बेचने के बहाने भी लिंक भेजे जाते है। उस पर भी क्लीक ना करें।

कुछ लोग फर्जी बैंक अधिकारी बनकर भोले भाले लोगों से खाते से संबंधित जानकारी व ओटीपी लेकर ठगी करते है। आम लोग

उनके पास खाते से संबंधित आने वाली कॉल को इग्नोर करें, अगर फिर भी किसी प्रकार की खाता से संबंधित शंका हो तो बैंक में

जाकर जानकारी ले सकते है। इससे उनके खाते से नकदी साफ नहीं होगी।

एसपी ने उन सभी डेबिट, क्रेडिट व एटीएम कार्ड धारकों व नेट बैंकिंग करने वाले ग्राहकों को अगाह करते हुए कहा कि वे अपना

कार्ड किसी के हाथ में ना दें, साथ ही खरीददारी के वक्त खुद के सामने ही कार्ड स्वाइप करें। पिन खुद गुप्त तरीके से डाले,

एसएमएस अलर्ट हमेशा चालू रखें, ट्रांजेक्शन लिमिट कम रखे, ट्रांजेक्शन गडबडी पर बैंक को शिकायत दें, हर तीन महीनें में

स्टेटमेंट चैक करें, कार्ड के जरिए पेमेंट सिर्फ एचटीटीपीएस वेबसाइट पर ही करें, साइबर कैफे पर कार्ड का प्रयोग करने से बचे

इसके अलावा साइबर सिक्योरिटी चालू रखें। ऑनलाइन ठगी से बचने के लिए सोशल मीडिया का प्रयोग करने वाले व्यक्ति सबसे

पहले फालतू के ग्रुप को ज्वाइन करने से बचे। अक्सर लोग 123,123456789, नाम या फिर जन्म तिथि जैसे पासवर्ड बना लेते है,

ऑनलाइन ठगी के लिए खतरनाक है, जिससे हैकर ठगी कर लेते है। ऐसे में मजबूत व टिकाऊ पासवर्ड बनाए, जिससे हैकर

कामयाब ना हो सके। मजबूत पासवर्ड आठ अक्षरों में होना चाहिए, पासवर्ड में अंग्रेजी के बडे और छोटे दोनों तरह के शब्द हो।

एसपी ने कहा कि ठगी से बचने के लिए कभी भी सोशल मीडिया पर अपनी पर्सनल इंफॉर्मेशन मोबाइल नंबर, घर का पता, जन्म

तिथि और पहचान पत्र जैसे संवेदनशील जानकारी फेसबुक, इंस्टाग्राम, व्हाट्सअप पर ना डाले। इसके अलावा मेसैजिंग साइट पर

हमेशा प्राइवेशी चालू रखे। वरना कोई भी जानकारी का गलत प्रयोग कर सकता है। बहुत सारे स्मार्टफोन यूजर सार्वजनिक

वाईफाई, हॉटस्पॉट का उपयोग करते हैं। सार्वजनिक वाईफाई के माध्यम से भेजे गए डेटा को आसानी से हैक किया जा सकता है

जैसे की रेलवे स्टेशन, कॉलेज, हॉस्पिटल व अन्य सार्वजनिक वाइफाई यूज करने से हैकर आईडी व पासवर्ड असानी से चुरा सकता

है। इसके जरिए हैकर अपने कंप्यूटर से ही आपके कंप्यूटर और मोबाइल की सारी चीजे चैक कर सकते है। अगर आप अपने

मोबाइल में भीम एप या ऑनलाइन बैंक से संबंधित ऑनलाइन एप चलाने वाले भूल कर भी फ्री वाइफाई अपने मोबाइल या

कंप्यूटर को कनेक्ट न करें। ऑनलाइन साइटों के जरिए शॉपिंग करने वाले भी सावधान हो जाए। डिस्काउंट के चक्कर में पडने

की बजाए पहले वेबसाइट पर यह जरूर जांच ले कि बेवबाइस के आगे एचटीटीपीएस जरूर देख ले, उसके बाद ही शॉपिंग करें।

उन्होने कहा कि फेसबुक पर संवेदनशील फोटो-वीडियो और कोई टैक्सट मैसेज पोस्ट न करें और किसी दूसरे के पोस्ट या टेक्स

मेसेज को शेयर करने से पहले उसकी सच्चाई अच्छे से जान लें। एंटीवायरस खतरनाक वायरस को आपके सिस्टम से रिमूव करता

है। अपने कंप्यूटर और मोबाइल के एंटीवायरस के साथ-साथ सारे सॉफ्टवेयर को समय-समय पर अपडेट करते रहे। इंटरनेट

दुनिया में रोज नए-नए तरह के खरतनाक वायरस आते रहते है। एंटीवायरस को अपडेट करने से कंप्यूटर को वायरस खत्म करने

के लिए नई ताकत मिल जाती है। एसपी शशांक कुमार सावन ने कहा कि कैथल पुलिस द्वारा साइबर क्राइम को रोकने के लिये

जारी की एडवाइजरी को फॉलो कर आम लोग होने वाले साइबर क्राइम से काफी हद बच सकते है

 

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

कैथल ब्रेकिंग – कैथल के हुडा-19 पार्ट-2 में चली गोली !रणदीप सुरजेवाला मौके पर पहुंचे

सांसद नायब सैनी को दिखाए काले झंडे, किया विरोध, गाड़ी पर कर दिया हमला

admin

साढ़े तीन करोड़ की कारों की लूट का मामला मेवात पुलिस ने 4 घंटे में सुलझाया,

admin

Leave a Comment

URL