कैथल जिला प्रशासन के नियमों के आदेशों की उड़ाई जा रही हैं सरेआम धज्जियां !मार्किट कमेटी सचिव फोन नहीं उठा रहा है। .

कैथल जिला प्रशासन के नियमों के आदेशों की उड़ाई जा रही हैं सरेआम धज्जियां !मार्किट कमेटी सचिव फोन नहीं उठा रहा है। .

दुकानदार कर रहे कालाबाजारी, खाद्य पदार्थों के वसूले जा रहे मनमाने दाम !

कैथल, 31 मार्च (कृष्ण प्रजापति): प्रधानमंत्री द्वारा देश में 21 दिन के लिए लॉक डाऊन कर दिया गया है, जिससे जनता घर से बाहर नहीं निकल सकते हैं। इसी मजबूरी का फायदा उठाकर शहरों व ग्रामीण क्षेत्र में दुकानदार चांदी कमा रहे हैं। हालांकि जिला प्रशासन इस बारे में लोगों को सोशल साइट्स के माध्यम से जागरूक कर कर रहा है। गांवो में दुकानदार भी सब्जियों को मनमाने दामों पर बेच कर प्रशासन के नियमों की धज्जियां उड़ा रहें हैं। ऐसा ही एक उदाहरण आज सिणद गांव मेेंं देखने को मिला। गांव धनौरी से एक पिक-अप गाड़ी आकर सिर्फ दुकानदारों को ही सब्जी बेच रही थी। गाड़ी वाले के पास गांव में प्रवेश करके सब्जी बेचने के लिए प्रशासन द्वारा कोई अधिकार पत्र भी जारी नहीं किया गया था। जब उनसे इस बारे में पूछा गया तो जवाब दिया कि बनवाने के लिए दिया हुआ है। ग्रामीणों ने यह भी आरोप लगाए कि दुकानदारों ने सब्जी की गाड़ी के मालिक से सांठ-गांछ कर रखी थी, जिस कारण गाड़ी सिर्फ दुकानदारों को ही सब्जी बेच रही थी। ग्रामीणों ने गाड़ी वाले को उचित कीमत पर सब्जी बेचने की विनती भी की, लेकिन इसका विरोध गांव के दुकानदारों व सब्जी की गाड़ी वाले ने किया, जिसके बाद ग्रामीणों ने मजबूर होकर दुकानदारों से मनमाने दामों पर ही सब्जी खरीदनी पड़ी। देखा गया कि जिस सब्जी की कीमत जिला उपायुक्त द्वारा पोर्टल पर डाली गई, उस कीमत में जमीन आसमान का फर्क था। ग्रामीणों पवन कुमार, राममेहर, नरेश व सुनील आदि यह भी आरोप लगाया कि दुकानदार हरि मिर्च 80 रूपये प्रति किलो खरीदकर 200 रूपये प्रति किलो के हिसाब से मनमानी कीमत पर बेच रहे हैं। इसी प्रकार से अन्य सब्जियां भी मनमाने दामों पर बेची जा रही हैं। लेकिन इस बात से पता चलता है कि प्रशासन द्वारा इस पर कोई ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे हैं।

वर्जन – जब इस बारे में गांव सिणद के सरपंच को जानकारी दी गई, तो सरपंच ने ऐसे लोगों पर प्रशासन के आदेशानुसार उचित कार्यवाही करने की बात कही।

बॉक्स–इन कीमतों पर बेची जा रही हैं सब्जियां –

सब्जी कीमत प्रतिकिलो
मटर ————50
आलू ————30
टमाटर——- –20
प्याज———- -40
हरि मिर्च——200
फूल गोभी—– 30
पत्ता गोभी —–30
टिण्डा ———40
घिया ———-40
कद्दू ———40
अदरक—– 130

 

सचिव मार्किट कमेटी कैथल

कैथल मार्किट कमेटी सचिव  से जब हमने जिला कैथल में खुदरा बिकने वाली सब्जी और फ्रूट(फल ) के भाव तय की गई लिस्ट 11. 29  बजे मांगी तो एक बार तो उन्होंने कहा की देता हूँ उसके बाद समाचार लिखे जाने तक हमने उनको कई बार फोन मिलाया जिस पर घंटी जा रही है लेकिन मार्किट कमेटी सचिव फोन नहीं उठा रहा है।

.
डीएमईओ क्या कहते है

फल व सब्जियों की सप्लाई को देखने  के लिए नियुक्त किये डीएमईओ अजय श्योरण से जब हमने इस संबध में बात की तो उन्होंने कहा की फल व सब्जी की खुदरा बिक्री के क्या भाव है उन्हें नहीं मालूम उनके पास थोक भाव की लिस्ट है। खुदरा भाव क्या है यह मार्किट कमेटी सचिव ही बता सकता है।

एसडीएम कैथल ने क्या कहा
फल व सब्जी की खुदरा बिक्री के भाव को लेकर जब हमने कैथल एसडीएम कमलप्रीत कौर से बात की और यह मामला उनके संज्ञान में लाया तो उन्होंने तुरंत मार्किट कमेटी सचिव से बात करके मामले का पता करने की बात की और कहा की आम जनता को किसी प्रकार की कठिनाई नहीं आने दी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *