Atal hind
कैथल टॉप न्यूज़ हरियाणा

कैथल पुलिस जी आम जन के जबरदस्ती वाहन चालान काटने से पहले खुद के वाहन  भी देख लिया करो 

कैथल पुलिस जी आम जन के जबरदस्ती वाहन चालान काटने से पहले खुद के वाहन  भी देख लिया करो

क्या कैथल पुलिस के सभी कर्मियों के पास डिजिटल नम्बर प्लेट लगे वाहन है अगर हाँ तो ये क्या है

बिना डिजिटल नम्बर प्लेट लगी बाईक चला रहे पुलिस अधिकारी

की फ़ोटो ट्रैफिक एसएचओ को दिखाकर कटवाया 500 रुपये का चालान

लोगों को नसीहत देने वाले पुलिस अधिकारी खुद ही नहीं करते कानून की पालना : गुरदीप सिंह


कैथल, 20 सितंबर (कृष्ण प्रजापति): कानून सबके लिए बराबर है, इसी बात को चरितार्थ करते हुए अधिवक्ता गुरदीप सिंह व

उनके साथी आरटीआई एक्टिविस्ट जयपाल रसूलपुर ने आज ट्रैफिक एसएचओ मुख्त्यार सिंह को ट्रैफिक पुलिस में कार्यरत

एएसआई राजेंद्र सिंह द्वारा बाइक पर बिना डिजिटल नंबर प्लेट लगाने की शिकायत की और उपरोक्त एएसआई की बाइक समेत

फोटो भी दिखाई जिसमें राजेंद्र सिंह की बाइक पर डिजिटल नंबर प्लेट नहीं लगी हुई थी। फोटो देखने के बाद ट्रैफिक एसएचओ

मुख्तयार सिंह ने इसकी पुष्टि की जो शिकायत सही पाई गई और एसएचओ ट्रैफिक ने उक्त एएसआई राजेंद्र सिंह की बाईक का

बिना डिजिटल नंबर प्लेट का 500 रुपये का चालान कटवाया।आपको बता दें कि गत 16 सितम्बर को अधिवक्ता गुरदीप सिंह व

उसका भाई किसी काम से अपने गांव जा रहे थे। कैथल के ही एक चौक पर ट्रैफिक पुलिस में कार्यरत एएसआई राजेंद्र सिंह ने

डिजिटल नंबर प्लेट होते हुए भी गुरदीप सिंह का डिजिटल नंबर प्लेट न होने का 500 रुपये का चालान काट दिया था जिसकी

शिकायत सीएम विंडो व एसपी को भी की गई थी। आज गुरदीप सिंह और उसके साथी जयपाल रसूलपुर ने एसएचओ ट्रैफिक

मुख्त्यार सिंह को उसी एएसआई राजेंद्र की बाइक की फोटो दिखाई जिन पर डिजिटल नंबर प्लेट नहीं लगी हुई थी, पूरी बात सुनने

के बाद एसएचओ ट्रैफिक ने इस बात की पुष्टि करके और उपरोक्त पुलिस अधिकारी के डिजिटल नंबर प्लेट न लगे होने का चालान

कटवाया कर पुलिस अधिकारी को दिया। इस बात को लेकर जब एडवोकेट गुरदीप से बात की गई तो उन्होंने बताया कि इस संघर्ष

के पीछे उनके दोस्त जयपाल रसुलपुर का अहम योगदान रहा है। अगर वो मुझे गाईड नही करते तो शायद मैं अकेला ऐसा नही

कर पाता, आज हमने पुलिस अधिकारी का वही चलाना कटवा कर ये साबित कर दिया है कि कानून सबके लिए बराबर है चाहे वो

कोई पुलिस अधिकारी हो या आम जनता।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

पटौदी-कूड़े करकट के ढेर में आग लगी या फिर लगवाई गई !

admin

इतनी भी बेरुख़ी से विदा न कीजिए 2020 को, जाने वाला नहीं है

admin

सुरजेवाला हर रोज देश के खिलाफ बोलता है: लीला राम

Sarvekash Aggarwal

Leave a Comment

URL