कैथल में तख्तापलट की तैयारी जिला परिषद चेयर पर्सन की कुर्सी खतरे में

कैथल जिला परिषद चैयरपर्सन की कुर्सी पर मंडराए खतरे के बादल

कई पार्षदों ने अपनाए भगावत के तेवर, तख्ता पलट की तैयारी बना रहे हैं कई जिला पार्षद

अविश्वास प्रस्ताव लाकर कर सकते हैं उलट फेर, एडीसी को मिले पार्षद

कैथल, 18 नवम्बर (कृष्ण प्रजापति): कैथल जिला परिषद की चेयरपर्सन की कुर्सी पर खतरे के बादल मंडरा चुके हैं जिला परिषद जयकिशन के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने के उद्देश्य से कई जिला पार्षदों ने बगावत के तेवर अपना लिए हैं और जिला पार्षद तख्तापलट की तैयारी योजना बना रहे हैं बगावती सुर में बोलते हुए कई जिला पार्षदों ने कहा कि वे अब अविश्वास प्रस्ताव लाकर ही दम लेंगे इसके लिए उन्होंने आज कैथल अतिरिक्त उपायुक्त राहुल हुड्डा को अपने अपने हस्ताक्षर करके एक चेयरमैन के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए डेट देने की मांग की एडीसी से मिलने वालों में 14 पार्षद शामिल थे लेकिन बगावती सुर में आए पार्षदों का दावा है कि उनके साथ चेयरमैन चेयरपर्सन और वाइस चेयरमैन को छोड़कर सभी उनके संपर्क में है और अब की बार जिला परिषद की कुर्सी अवश्य गिर जाएगी आपको बता दें कि जिला परिषद के चेयर पर्सन के खिलाफ कई बार अविश्वास प्रस्ताव लाने की प्रयास यह पार्षद कर चुके थे लेकिन पिछले प्रयासों में इन्हें सफलता नहीं मिली अब जिन पार्षदों ने चेयर पर्सन के खिलाफ अविश्वास लाने की योजना बनाई है उनमें से कई पार्षदों ने तो भाजपा का दामन भी थामा हुआ है लेकिन चेयरपर्सन का नेतृत्व इन्हें शायद मंजूर नहीं है और यह अब तख्तापलट की तैयारी में है कई राजनीतिक विश्लेषकों का दावा है कि कुछ जिला पार्षद राजनीति का शिकार हो रहे हैं और जिले के ही कई भाजपा नेताओं द्वारा भ्रमित किए हुए हैं अभी हाल ही में जेजेपी छोड़कर भाजपा में शामिल हुई अंजू जागलान सहित सभी पार्षद अविश्वास लाने को लेकर एकत्रित हो चुके हैं लेकिन अंजू जागरण को छोड़कर जिला परिषद की बैठकों में कोई भी पार्षद विरोध नहीं जाता था जिसको देखकर अनुमान लगाया जा रहा था कि जिला परिषद के सभी पार्षदों को चेयर पर्सन ने मना लिया है और केवल अंजू जागरण ही विपक्ष में रहेंगी लेकिन आज जिस प्रकार से एडीसी को मिलने वाले पार्षदों की संख्या 14 हो गई और कई अन्य पार्षदों का संपर्क में होना के दावे के बाद चेयर पर्सन की कुर्सी पर संकट के बादल मंडराते नजर आ रहे हैं वहीं जिला पार्षद पार्षदों द्वारा चेयरपर्सन के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के बाद जिले में अनेक चर्चाओं का दौर भी शुरू हो गया है कई लोगों की कहना है कि जिला उपायुक्त का छुट्टी पर जाना पार्षदों के लिए सिर दर्दी खड़ा कर सकता है और इस पूरे प्रकरण में लगभग 8 से 10 दिन का समय लग सकता है जब तक जिला प्रशासन भागी पार्षदों को बहुमत साबित करने के लिए तारीख देगा तब तक बहुत से षडयंत्र रचे जा सकते हैं और बागी तेवर अपनाने वाले पार्षदों को मुंह की खानी भी पड़ सकती है।

बॉक्स– परिवार में मन मुटाव चलता है कोई भी पार्षद नहीं है हमसे नांराज : आंधली

उधर इस बारे में बातचीत करते हुए जिला परिषद चेयरपर्सन सुखविंदर कौर आंधली व चेयरमैन प्रतिनिधि हरदीप आंधली ने बताया कि जिला परिषद हमारा एक परिवार है, परिवार में मनमुटाव चलता रहता है, सभी पार्षद उनके साथ है। अगर राजनीतिक दृष्टि से किसी पार्षद को बहकाया गया होगा तो उसे भी मना लिया जाएगा। जिला परिषद में किसी भी पार्षद के साथ विकास कार्यों या अन्य किसी मामले में कोई भेदभाव नहीं किया जाता, हर मामले में प्रत्येक पार्षद की राय जानी जाती है और प्रयास रहता है कि सभी वार्डों में समान रूप से विकास के कार्य हो और जोकि पिछले लंबे समय से चल भी रहे हैं। उन्होंने बताया कि जिला परिषद के प्रत्येक वार्ड में समान रूप से हमने विकास के काम करवाए हैं, कोई भी जिला पार्षद इस बात से इंकार नहीं कर सकता। जल्द ही हमारा जिला परिषद का परिवार एक मंच पर दिखेगा।

बॉक्स– ये जिला परिषद मिले एडीसी से
अविश्वास प्रस्ताव लाने को लेकर एडीसी से मिलने वाले जिला पार्षदों में वार्ड नंबर 1 से पार्षद सुदेश करोड़ा, 2 से अंजू जागलान, 3 से संदीप कोटड़ा, 4 से पतासो मटौर, 5 से सुमन कुराड़, 6 से शकुंतला वजीरखेड़ा,7 से सुदेश बबली, 8 से डॉ मुसिया, 10 से रेनू खानपुर, 12 से भाग सिंह खनौदा,13 से सुरजीत पबनावा, 14 से नीलम सिरसल,19 से मंजू बाला व वार्ड 20 से कमलेश बलबेहड़ा शामिल रहीं।

  1. फोटो– एडीसी राहुल हुड्डा को अविश्वास प्रस्ताव को लेकर मिलते अनेक जिला पार्षद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *