कोरोना वायरस- कैसे होगा परास्त … अब और  बदतर हालात में पहुंची पटौदी सब्जीमंडी

कोरोना वायरस- कैसे होगा परास्त


… अब और  बदतर हालात में पहुंची पटौदी सब्जीमंडी 

न मास्क, न सोशल डिस्टेंस, न सेनेटाइजेशन, बढ़ रही टेंशन

 

रामलीला मैदान पटौदी में अस्थाई सब्जीमंडी में नहीं सुविधा

 

Corona virus – how it will be defeated

… Pataudi Subzi Mandi reached worse condition

Neither mask, nor social distance, nor sanitization, increasing tension

No facility in temporary vegetable market at Ramlila Maidan Pataudi

फतह सिंह उजाला

पटौदी। 
सावधानी हटी और दुर्घटना घटी, जल्दी का काम-शैतान का काम, इन कहावत के पीछे बड़ा गहरा और दूरदर्शी संदेश चेतावनी के साथ ही आगाह करने वाला छिपा है। पटौदी शहर में फूटे कोरोना कोविड 19 के संक्रमण औैर यहां सब्जीमंडी में जुटने वाली भीड़ को देखते हुए ही सब्जीमंडी को जाटौली अनाजमंडी में शिफ्ट किया गया।
लेेकिन यहां अनाज की आवक सहित स्टोरेजे को देखते हुए सब्जीमंडी को फिर से शिफ्ट करने बस अड्डा परिसर में लगानें का फरमान जारी हो गया। यहां जगह को टोेटा देखकर सब्जीमंडी वैलफेयर एसोसिएशन और आढतियों ने मौखिक बातकर पटौदी रामलीला मैदान में सोमवार से सब्जी की खरीद-फरोख्त का काम आरंभ कर दिया। लेकिन कथित रूप से इस बारे में पटौदी पालिका प्रशासन सहित मार्केट कमेटी पटौदी कार्यालय को विश्वास में नहीं लिया गया। इसके बाद में अंततः मार्केट कमेटी पटौदी के द्वारा रामलीला कमेटी को प़त्र लिखकर अब आग्रह किया गया है कि, बिना किसी शुल्क /प्रभार के रामलीला मैदान को सब्जीमंडी लगाने के लिए उपलब्ध कराया जाए।

रिस्क नहीं लेगी HARYANA सरकार,3 मई के बाद हरियाणा में  कुछ और उद्योगों को  मिल सकती है छूट

लेकिन समस्या और चुनौती भी वहीं की वहीं पर ही बनी हैं, जिनसे बचनें के लिए यह सारी कसरत की गई। पटौदी रामलीला मैदान में जहां सब्जीमंडी में बेहिसाब भीड़ उमड़ रही है, यह स्थान पटौदी शहर में कोविड 19 संक्रमित सील किये क्षेत्र से अधिक दूरी पर नहीं हैं। यहां भीड़ में कौन कहां से आ और जा रहा है, कुछ भी भेद लगाना असान काम नहीं।

बड़ा सवाल यही है कि एक तरफ रमजान-रोजा आरंभ हो चुके हैं, रोजा रखने वाले सहरी के साथ ही इफ्तारी के लिए खरीददारी करने भी पहुंच रहे हैं। इससे बड़ा और गंभीर सवाल यह है कि जब रामलीला मैदान में सब्जीमंडी लगाने का मन बना ही लिया गया और स्थानीय प्रशासन के संज्ञान में आ चुका है तो पटौदी शहर में कोविड 19 संक्रमण की सवेंदनशीलता को देखते हुए रामलीला मैदान को सेनेटाइज करने से कैसे भूला दिया गया। सब्जी और फल-फू्रट की आवक अन्य प्रदेशों के अलावा खरीद-फरोख्त के लिए मेवात, गुरूग्राम, मानेसर, धारूहेड़ा, भिवाड़ी, राजस्थान सहित अन्य स्थानों से भी वाहन और वाहनों में लोगों के आने-जानेे का सिलसिला बना है।

अब भी यही कथित लापरवाही बरती जा रही हैं, जब कि साथ लगते जिलो की सब्जीमंडी के हालात किसी से छिपे भी नहीं है। यहां आने वाले वाहनों को सेनेटाइज नहीें किया जा रहा। अधिकांश लोगों के मास्क नहीं लगे होते हैं, सोशल डिस्टेंस तो जैसे यहां मजाक बनकर रह गया है। सब्जी बेचने की कोई भी व्यवस्थित व्यवस्था नहीं है। रामलीला मैदान सब्जीमंडी परिसर में न तो पीने-हाथ धोने का पानी, न ही शौचालय की व्यवस्था की जा सकी है।

पास में सब्जी लगे खेतों को यहां देर रात को ही पहुंचने अथवा मंडी परिसर में ठहरने वालों के द्वारा शौच निवृति के लिए इस्तेमाल किया जाने से खुले में शौच मुक्त अभियान को भी पलीता लगाया जा रहा है। कथित रूप से रामलीला मैदान के कोनों को ओपन शौचालय बना देने से आसपास के लोग दुर्गंध – बदबू से परेशान होने लगे है। इन हालात में प्रशासन और सब्जी आढ़तियों सहित विक्रेताओं ने कोई समाधान नहीं निकाला तो भगवान ही रक्षक है।

पटौदी पालिका ने मांगे सुझााव
पटौदी रामलीला मैदान में सब्जीमंडी में अव्यवस्था को लेकर पटौदी पालिका प्रशासन के द्वारा रामलीला कमेटी के ही सदस्य से सुझाव भी मांगे। इसके जवाब में बताया गया कि रामलीली मैदान में दो गेट हैं, यहां जितनी भी गाडियां आती है, उन्हें मैदान से बाहर ही रखा जावे । दोनो गेटो पर सेनेटाईज का इन्तजाम हो । यहां पर पोर्टेबल लेटरिन का इन्तजाम किया जाये। प्रत्येक दुकान संचालक को लिखित में आदेश देने चाहिए कि जिस किसी भी दुकान पर सोशल डिस्टेंस का अनुसरण नही होगा, उसें दुकान नहीं लगाने दी जाएगी । जो भी व्यक्ति खुले में शौच करता पाया गया, उसके खिलाफ एफ. आई. आर. दर्ज कराई जाएगी। सबसे अहम और जरूरी है कि यहां पर पानी के टेंकर की व्यवस्था की जाए।

सब्जीमंडी का जायजा ही नहीं लिया  
मंडी संचालको को तुरन्त प्रभाव से टेम्प्रेरी बिजली मीटर लगाने के आदेश दिये जाये । ताकि तारों की सपार्किग से कोई दुर्घटना नहीं हो।  महामारी सहित अन्य परेशानियों  से काफी हद तक बचाव कर सकते हैं । इसमे जयादातर काम मार्केट कमेटी के अधीन का है, जिसके द्वारा आज तक सब्जीमंडी का जायजा ही नहीं लिया.गया। इस प्रकार की अनदेखी आम जनता के साथ खिलवाड़ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *