Atal hind
जींद टॉप न्यूज़ हरियाणा

कोरोना से भी ज्यादा खतरनाक है -मोदी व भाजपा : डॉ. तंवर

कोरोना से भी ज्यादा खतरनाक है -मोदी व भाजपा : डॉ. तंवर
किसान आंदोलन का किया समर्थन, तीनों कृषि कानून रद्द करे सरकार
जींद (अटल हिन्द ब्यूरो )
पूर्व सांसद डॉ. अशोक तंवर ने कहा कि जिनता कोरोना खतरनाक है उतना ही मोदी व भाजपा भी खतरनाक है। देशभर में फैले कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार अपने घरों में बंद हो गई है और नेताओं को कोरोना से डर लगता है। होना तो यह चाहिए कि वो जनता के बीच में रहें और अधिकारियों का मनोबल बढाएं लेकिन उन्हें जनता से ज्यादा स्वयं की जान प्यारी है।
अपना भारत मोर्चा के संयोजक एवं पूर्व सांसद डॉ. अशोक तंवर शनिवार को पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए कहा कि किसान कृषि कानूनों को रद्द करवाने के लिए लंबे समय से आंदोलनरत हैं।

 

सरकार को चाहिए कि वो किसानों के हक में इन कृषि कानूनों को रद्द करे। जब किसान काले कानूनों को नहीं मानते तो इन्हें वापस लेना चाहिए। प्रदेश में बार-बार अहिंसा फैलाने की कोशिश सरकार को नहीं करनी चाहिए। सरकार के विधायक, सांसद, नेताओं का सब जगह उनका घेराव हो रहा है तो यह कब तक चलेगा। यह स्थिति लोकतंत्र व हरियाणा के लिए ठीक नहीं है। वो सरकार से यही कहेंगे कि वार्ता के माध्यम से इस आंदोलन को समाप्त करें और कोरोना के खिलाफ जंग लड़ें ताकि  देश की अर्थव्यवस्था बहाल हो। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में फैक्ट्रियां, उद्योग धंधे बंद हुई हैं और मजदूरों को काम नहीं मिल रहा है। सरकार को चाहिए कि उनके रोजगार व पैकेज के बारे में सोचे।

 

फिलहाल उनका मोर्चा कोरोना के खिलाफ जंग में जुटी है। उन्होंने कहा कि भारत वर्ष में जान बहुत सस्ती है। इसलिए हर भारतवासी को बचाना जरूरी है। भारतवासी जब बचेंगे जब निशुल्क वैक्सीनेशन होगी और निशुल्क इलाज होगा। जब तक भारत में कोरोना रहेगा तब तक दुनिया में कोरोना खत्म नहीं हो सकता है। क्योंकि आबादी के मामले में भारत दूसरे नंबर हैं। सरकार ने वैक्सीन पहले बाहर भेज दी, अब वैक्सीन के लिए कोशिश कर रहे हैं जो इतना आसान नहीं है।

सरकार द्वारा मृतकों को लेकर डाटा भी छुपाया जा रहा है ताकि सरकार की फेलियर का लोगों को पता न चल सकें। इस समय सरकारी डाटा से 10 गुणा से ज्यादा मौत कोरोना से हुई हैं। सरकार अगर समय रहते प्रबंध करती तो इतनी मौतें नहीं होती। ये उन लोगों की हत्या हुई है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार महा पूंजपतियों के हाथों की कठपुतली बन चुकी है। सरकारों की गलत नीतियों का खामियाजा हर भारतवासी भुगत रहा है। कोरोना महामारी के दौरान जिन बच्चों ने अपने अभिभावकों को खो दिया, उनके जीवन यापन का प्रबंध सरकार को करना चाहिए। जिस तरह की घोषणा सरकार ने की है उसमें न तो उनकी शिक्षा के बंदोबस्त का जिक्र है और न ही उनके पेट भरने का। ऐसे में सरकार को ऐसी नीति बनानी चाहिए कि उसका जमीनी स्तर पर फायदा मिल सके।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

क्या नरेंद्र मोदी को हीरो मानने वाले लोगों की संख्या में बड़ी गिरावट आई है?

admin

नरवाना के पास यात्री बस पलटी ज्यादा नहीं 75 यात्री सवार थे,2 मरे 14 घायल 

admin

किसान आंदोलन की खबर चलाने पर यूट्यूब चैनल बंद करने को लेकर भारत सरकार के इलैक्ट्रोनिक और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय व गूगल को नोटिस*: सुप्रीम कोर्ट ऐडवोकेट प्रदीप रापड़िया ने भेजा नोटिस!

atalhind

Leave a Comment

URL