कौन कौन जिम्मेदार है जांच करेंगे।

सरकारी जमीन से अतिक्रमण हटाना पड़ा पुलिस प्रशासन को महंगा
कार्यवाही पड़ी जिले के अफसरों पर भारी,रातों-रात बदले जिले के कलेक्टर एसपी,6 पुलिसकर्मी सस्पेंड

गुना (ईएमएस)। कॉलेज के लिए आवंटित सरकारी जमीन से पुलिस प्रशासनिक अफसरों को कब्जा हटाना महंगा साबित हो गया कब्जा हटाने के दौरान अफसरों को रोकने के लिए पहले गाली गलौज झगड़े पर उतारू दंपति ने बाद में कीटनाशक पीकर अफसरों पर दबाव डालने का प्रयास किया। जहर पीने के बाद दंपत्ति अस्पताल जाने को भी तैयार नहीं थे,उनके परिजन भी लड़ाई झगड़े पर आमादा रहे।हालांकि बच्चों के रोते बिलखते व पुलिस की बर्बरता पूर्ण पिटाई के फोटो वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद प्रदेश के सीएम ने मामले को गंभीरता से लेते हुए आधी रात्रि को जिले के कलेक्टर एसपी का तबादला कर दिया।
बताया जाता है कि गुना के कैंट थाना क्षेत्र के जगनपुर में सरकारी जमीन मॉडल कॉलेज बनाने के लिए शिक्षा विभाग को आवंटित की गई थी पूर्व में इस जमीन पर दो बार कब्जा हटाने का प्रयास किया गया लेकिन सफलता हाथ नहीं लगी।

,सूत्र बताते हैं कि भू-माफिया डॉन गब्बू पारदी का इस भूमि पर बरसों से कब्जा है,उसके द्वारा एक अहिरवार परिवार को बटाई पर यह भूमि दे दी गई थी विगत दिवस जब पुलिस प्रशासन की टीम मौके पर कब्जा हटाने पहुंची तो विवाद उत्पन्न हो गया इसी के चलते दंपत्ति ने जहर खा लिया हालांकि उनकी हालत में काफी सुधार है और वह जिला चिकित्सालय में भर्ती है गुना पुलिस अधीक्षक द्वारा उक्त दंपती सहित भू माफिया डॉन गब्बू पारदी सहित अन्य पर शासकीय कार्य में बाधा वअन्य धाराओं में मामला दर्ज किया है।
पुलिस की बर्बरता पूर्ण पिटाई व कीटनाशक पीने की खबरों ने शासन को हिला दिया रातों रात कलेक्टर एसपी का तबादला भोपाल लूप लाइन कर 26 वीं वाहिनी कमांडेंट राजेश सिंह को गुना एसपी बनाया है।

 

बच्चों के रोते बिलखते व पुलिस की बर्बरता पूर्ण पिटाई के फोटो वीडियो

कौन कौन जिम्मेदार है पर जांच करेंगे।बच्चों के रोते बिलखते व पुलिस की बर्बरता पूर्ण पिटाई के फोटो वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल

Posted by Kaithal Atal Hind News on Thursday, 16 July 2020

 

जिला दण्डाधिकारी द्वारा दिए गए आदेश, होगी मजिस्ट्रियल जांच
कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी एस.विश्वनाथन द्वारा 14 जुलाई 2020 को जगनपुर चक में शासकीय आदर्श महाविद्यालय के लिए आवंटित भूमि से अतिक्रमण मुक्त कराने के दौरान उत्पन्न हुई अप्रिय घटना की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए गए हैं। उन्होंने इस हेतु जांच के बिन्दु तय करते हुए अनुविभागीय दण्डाधिकारी आरोन के.एल. यादव को जांच उपरांत 30 दिवस में प्रतिवेदन देने के आदेश दिए हैं।
इस आशय की जानकारी में जिला दण्डाधिकारी विश्वनाथन ने बताया कि पुलिस अधीक्षक जिला गुना द्वारा 15 जुलाई 2020 अवगत कराया गया था कि गुना में जगनपुर चक में नवीन शासकीय आदर्श महाविद्यालय के लिए आवंटित भूमि पर गब्बू पारदी द्वारा अतिक्रमण कर राजकुमार अहिरवार को खेती हेतु बटाई पर दी गयी थी। इस अतिकमण को 14 जुलाई 2020 को राजस्व एवं पुलिस विभाग के संयुक्त दल द्वारा हटाए जाने के दौरान राजकुमार अहिरवार एवं उसकी पत्नि सावित्रीबाई द्वारा कीटनाशक पीने के कारण उत्पन्न अप्रिय स्थिति के फलस्वरूप मजिस्ट्रियल जाँच किए जाने का अनुरोध किया है। उन्होंने बताया कि उक्त घटना के संबंध में सोशल मीडिया पर भी कुछ क्लिप्स देखे गये है तथा पूर्व में भी उक्त भूमि पर अतिक्रमण एवं विवाद पाये जाने के कारण स्थिति की गंभीरता को दृष्टिगत रखते हुए दण्ड प्रकिया संहिता की धारा 176 के तहत उक्त घटना की दण्डाधिकारी जांच कराये जाने हेतु के.एल. यादव, अनुविभागीय दण्डाधिकारी आरोन को जांच अधिकारी नियुक्त किया गया है। अनुविभागीय दण्डाधिकारी आरोन को 14 जुलाई 2020 को उपरोक्त घटना किन परिस्थितियों में हुई, ऐसे कौन से कारण थे जिससे उक्त घटना घटित हुई भूमि के इतिहास में क्या पृष्ठभूमि रही है पूर्व में उक्त भूमि से अतिकमण हटाने के संबंध में क्या कार्यवाही की गई इस घटना हेतु प्रथम दृष्टया कौन कौन जिम्मेदार है पर जांच करेंगे। इस प्रकार की घटना पुनः घटित न हो, के संबंध में सुझाव भी देने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही जिला दण्डाधिकारी विश्वनाथन द्वारा अनुविभागीय दण्डाधिकारी यादव निर्धारित बिन्दुओं पर जांचकर 30 दिवस में प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के आदेश दिए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Our COVID-19 India Official Data
Translate »
error: Content is protected !! Contact ATAL HIND for more Info.
%d bloggers like this: