Atal hind
कुरुक्षेत्र कैथल टॉप न्यूज़ राजनीति शिक्षा हरियाणा

गुहला चीका के एमएलए ईश्वर सिंह ने दी एमए की प्रथम वर्ष की परीक्षा

एमए कर रहे हैं जेजेपी विधायक ईश्वर सिंह, ऑनलाइन दी परीक्षा
कुरुक्षेत्र/चंडीगढ़, 4 अक्तूबर(अटल हिन्द ब्यूरो )
पढ़ाई करने और सीखने की कोई उम्र नहीं होती। खुद को निरंतर बेहतर बनाने की सोच हो तो इन्सान किसी भी उम्र में और कैसे भी हालात में कुछ ना कुछ अच्छा कर सकता है। गुहला से जेजेपी विधायक ईश्वर सिंह ने कोरोना काल में कुछ ऐसा किया है जो हर किसी को प्रेरित करने लायक है। 72 वर्षीय ईश्वर सिंह ने कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से राजनीतिक विज्ञान की एमए की प्रथम वर्ष की परीक्षा दी है और वो भी ऑनलाइन तरीके से।
निजी छात्र के तौर पर केयू के साथ खुद को रजिस्टर कर विधायक ईश्वर सिंह ने लॉकडाउन के समय का सदुपयोग कर पढ़ाई की और घर पर ही ऑनलाइन परीक्षाएं दी। शनिवार को उनका आखिरी एग्जाम था और उनका कहना है कि सभी पेपर अच्छे हुए हैं। ईश्वर सिंह ने इससे पहले पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन और इतिहास में भी एमए की है। यही नहीं, वे एलएलबी और एलएलएम भी कर चुके हैं। कमाल की बात ये है कि उन्होंने ये सभी डिग्रियां जीवन के उस पड़ाव में की जब आमतौर पर इन्सान पढ़ाई लिखाई से निपट कर पूरी तरह कामकाजी हो जाता है। ये सभी डिग्रियां करने से पहले ईश्वर सिंह 1977 में हरियाणा विधानसभा के सदस्य बन चुके थे और उस वक्त वे सिर्फ दसवीं पास थे। दसवीं के बाद जेबीटी कर वे कुछ समय अध्यापक रहे और एमरजेंसी के वक्त राजनीति में आ गए।
ईश्वर सिंह बताते हैं कि दसवीं पास विधायक तो वे बन गए लेकिन राजनीतिक उठापठक के बीच उसी कार्यकाल के दौरान उन्हें हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड का चेयरमैन बनने का भी अवसर मिल गया। यह थी तो एक उपलब्धि लेकिन ईश्वर सिंह के मन के भीतर ये बात चुभने लगी कि वे राज्य के बारहवीं तक के बच्चों के लिए नीतियां बनाने जा रहे हैं जबकि वे खुद दसवीं पास ही हैं। बोर्ड की दूसरी मीटिंग के बाद ही उन्होंने इस्तीफा दे दिया और निश्चय किया कि अपने जीवन के इस अधूरेपन को पूरा करेंगे।
विधायक का कार्यकाल समाप्त होते ही उन्होंने आगे की पढ़ाई शुरू कर दी। 27 साल की उम्र में विधायक बने ईश्वर सिंह ने जीवन के 34वें साल में 12वीं और 37 वर्ष की उम्र में स्नातक की डिग्री ली। इसके तुरंत बाद उन्होंने इतिहास से एमए की। एमए की परीक्षा देते समय उस वक्त के कुुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर ने उन्हें एलएलबी करने की सलाह दी। 42 वर्ष की उम्र में ईश्वर सिंह ने एलएलबी भी कर ली और 6 महीने तक कुरुक्षेत्र मं् वकालत की। वे आज भी कुरुक्षेत्र बार एसोसिएशन के सदस्य हैं। बाद में उन्होंने पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन में भी एमए की।
ईश्वर सिंह ने हाल की परीक्षा ऑनलाइन माध्यम से दी है। वे कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय की वेबसाइट से तय समय पर परीक्षा पत्र डाउनलोड करते हैं और फिर उसके जवाब तैयार करते हैं। उत्तर पुस्तिका को स्कैन कर वे इमेल के जरिये तीन घंटे के तय समय में विश्वविद्यालय की दी हुई इमेल पर भेज देते हैं। उनका कहना है कि तकनीक नई जरूर है लेकिन परीक्षा का महत्व जीवन में इतना अधिक है कि उन्होंने इस तकनीक को भी सीख लिया।
ईश्वर सिंह कहते हैं कि उनके राजनीतिक जीवन में उनकी पढ़ाई लिखाई और शिक्षा से जुड़े रहने का बहुत सहयोग मिला है। इसी लगन की बदौलत वे देश की सबसे बड़ी पंचायत संसद के ऊपरी सदन राज्यसभा पहुंचे और फिर देश के अनुसूचित जाति आयोग में सदस्य बनने का भी उन्हें अवसर मिला। इस वक्त हरियाणा विधानसभा में जननायक जनता पार्टी के विधायक के तौर पर वे विधानसभा की महत्वपूर्ण समिति के चेयरमैन हैं और वहां भी अपना काम पूरी सजगता के साथ करते हैं। ईश्वर सिंह का कहना है कि इन्सान को जीवन में जब भी कुछ सीखने का अवसर मिले, तभी उसे ग्रहण कर लेना चाहिए और आगे बढ़ते रहना चाहिए।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

लिंग जांच करने का धंधा मोबाइल वैन के जरिए करते थे ,पकड़े गए 

admin

न मंडियों में भटकेंगे,न रेट पिटेगा रोज 100 टन टमाटर अब सीधे खेत से उठेगा

Sarvekash Aggarwal

कैथल में स्कूल संचालक ने नाबालिग छात्रा से की छेड़छाड़

admin

Leave a Comment

URL