Atal hind
कैथल टॉप न्यूज़ राजनीति हरियाणा

गुहला -चीका विधायक के नखरे तो देखो ,सवाल क्या पूछा  आग बबूला हो गए।

गुहला -चीका विधायक के नखरे तो देखो ,सवाल क्या पूछा  आग बबूला हो गए।
किसी विषय को लेकर स्थानीय जनता ने किया विधायक को सवाल तो भड़क गए गुहला विधायक ईश्वर सिंह !
कैथल/चीका, 09 अक्टूबर (कृष्ण प्रजापति): चीका अनाज मंडी का दौरा करने पहुंचे स्थानीय विधायक चौधरी ईश्वर सिंह से वहां के कई लोगों ने सरकारी स्कूल में किसी महापुरुष के नाम पर अवैध तरीके से निर्माण करवाए जाने को लेकर सवाल किया तो विधायक महोदय उन पर भड़क गए और उनसे सवाल पूछने की हैसियत पूछने लगे।
इस पर सवालकर्ता ने कहा कि वह एक आम जनता की हैसियत से सवाल कर रहे हैं तो विधायक ने कहा कि अगर आपको किसी भी प्रकार की समस्या है तो आप लिखित में दें तो ही वे लिखित में जवाब देंगे। शिकायतकर्ता जगजीत सिंह ने कहा कि इसमें लिखित वाली कौन सी बात हो गई विधायक महोदय, चीका का पूरा मीडिया यहां मौजूद है, अधिकारी मौजूद हैं, आप मौजूद हैं और मैं सार्वजनिक तौर पर यह बात रख रहा हूं तो विधायक ईश्वर सिंह उक्त व्यक्ति पर आग बबूला हो गए। पूरे शहर में उनके इस तू तू मैं मैं का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।
जहां कई लोगों ने इस मामले को राजनीतिक प्रकरण करार दिया तो कुछ लोगों ने सरकारी स्कूल पर इसी प्रकार के निर्माण होने को गलत बताया। स्थानीय जनता ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि महापुरुष सबके आदरणीय होते हैं लेकिन स्कूल जैसी जगहों पर राजनीति करना अच्छी बात नहीं है, हमें स्कूल जैसी धरोहर की रक्षा करनी चाहिए।
बॉक्स- सरकारी स्कूल चीका
चीका गांव मे केसर गिरी बाबा के पास एक स्थान था जिसको आसन कहते थे। किसी समय इस आसन पर संत महात्मा का एक विशाल भवन हुआ करता था, समय के साथ आसन ख़त्म हो गया, जिसके कारण बहुत थे। लगभग 5 के दशक मे सरकारी हाई स्कूल का निर्माण किया जा रहा था। सरकार के पास प्रयाप्त साधन ना के कारण चीका गांव  के लोगों ने इसी आसन से ईंट और मलबा उठाकर स्कूल के कमरो का निर्माण करवाया था।
कालांतर में नगर पालिका अस्तित्व मे आने पर कुछ ताकतवर लोगों ने दुकानें बनाकर  कब्जा करना चाहा फ़िर समय  समय पर स्थानीय विधायको द्वारा भी स्कूल मे कब्जा या छेडखानी  की गई परन्तु उन सब को मुंह की खानी पडी थी। आज भी वही दोहराया जा रहा है।
ये स्कूल   चीका की आस्था का केन्द्र है, 50 के दशक के लोगों से और आज के लोग भी इस से भावनात्मक  रुप से जुड़े है। चाहे 15 अगस्त या 26 जनवरी अथवा गुगा नवमी मेला की बात हो, सब का कुछ ना कुछ जुडाव इस स्कूल भूमि से रहा है। स्थानीय जनता ने कहा कि राजनेताओ से अपील है कि इसको स्कूल ही रहने दो  राजनिति मंच ना बनाये। बाबा साहब का भवन बने या कोचिंग सैन्टर, लाईब्रेरी बने परन्तु स्कूल  को छोडकर बनाये कल को और चारो कोने पर मुर्तियो ही देखने को मिलेगी।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

पीटीआई बोले: गोली मरवा दो  ,हरियाणा बीजेपी मंत्री बोले: गनमैन इनको हटाओ,

admin

किसान के गुम हुए 90,000 ,कुलविंदर सहारण ने मिशाल कायम की 

admin

Sheridan City Council in Colorado to open with Hindu mantras on September 28 

admin

Leave a Comment

URL