Atal hind
Uncategorized

गैंगरेप-मर्डर केस : रेप पीड़ित महिला डॉक्टर को पुलिस ने दिया नया नाम ‘दिशा”

गैंगरेप-मर्डर केस : रेप पीड़ित महिला डॉक्टर को पुलिस ने दिया नया नाम ‘दिशा”
साइबराबाद के पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जानर (VC Sajjanar) ने रविवार को मीडिया से अपील कि है कि वे रेप पीड़िता महिला डॉक्टर को असली नाम से नहीं, बल्कि ‘दिशा’ कहकर पुकारें.

हैदराबाद. महिला डॉक्टर के साथ गैंगरेप और मर्डर (Gang Rape and Murder) ने पूरे देश को हिला कर रख दिया है. हैदराबाद (Hyderabad) के साथ-साथ देश के कई शहरों में लगातार विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. लोग आरोपी को तुरंत सज़ा देने की मांग कर रहे हैं. इस बीच हैदराबाद की पुलिस ने महिला डॉक्टर को एक नया नाम दिया है. पुलिस ने लोगों से अपील की है कि वे उन्हें ‘दिशा’ कहकर बुलाये. कहा जा रहा है कि पुलिस अधिकारियों ने परिवारवालों को ये नाम सुझाया, जिस पर वो राजी हो गए.

‘जस्टिस फॉर दिशा’

साइबराबाद के पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जानर ने रविवार को मीडिया से अपील कि है कि वह उन्हें असली नाम से न बुलाये, बल्कि उन्हें ‘दिशा’ कहकर पुकारें. देशभर में इन दिनों महिला डॉक्टर को न्याय दिलाने के लिए एक मुहिम चलाई जा रही है. पुलिस का कहना है कि इस मुहिम को अब ‘जस्टिस फॉर दिशा’ के नाम से चलाया जाए.

असली नाम का इस्तेमाल नहीं होता

बता दें कि रेप से जुड़े मामलों में पीड़िता का नाम उजागर प्रतिबंधित है. मीडिया में इनका बदला हुआ नाम इस्तेमाल होता है. इसके अलावा पीड़िता की फोटो भी नहीं लगाई जाती. हालांकि पिछले कुछ दिनों से आम लोग न्याय के लिए चलाए जा रहे मुहिम में उनका असली नाम का ही इस्तेमाल कर रहे थे. अब पुलिस ने इन सबसे अनुरोध किया है कि वो ‘जस्टिस फॉर दिशा’ नाम से कैंपेन चलाये.

फर्जी मैसेज की बाढ़

इस बीच इस मामले को लेकर कुछ ऐसे फर्जी मैसेज वायरल किए जा रहे हैं, जिसका इस घटना से कोई संबंध नहीं है. एक वायरल मैसेज में कहा जा रहा है कि किसी भी इमरजेंसी की हालत में महिलाएं 9833312222 नंबर पर मिस कॉल दें. मिस कॉल करते ही पुलिस, महिला के पास पहुंच जाएगी. इस वायरल मैसेज की जांच करने के बाद सामने आया कि यह पूरी तरह से फर्जी है.

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Leave a Comment

URL