Atal hind
टॉप न्यूज़ विचार /लेख /साक्षात्कार

जब भारतेन्दु हरिश्चन्द्र ने बनाया लाखों लोगों को ‘मूर्ख’

मूर्ख दिवस पर विशेष
जब भारतेन्दु हरिश्चन्द्र ने बनाया लाखों लोगों को ‘मूर्ख’


– श्वेता गोयल

दुनियाभर में एक अप्रैल का दिन ‘मूर्ख दिवस’ के रूप में मनाया जाता है और इस दिन हल्के-फुल्के हंसी-मजाक के सहारे लोग एक-दूसरे को ‘मूर्ख’ बनाकर माहौल को मनोरंजक बनाने का प्रयास करते देखे जाते हैं। बहुत बार ऐसे वाकये भी सामने आते रहे हैं, जब दूसरों को मूर्ख बनाने की कोशिश में कुछ लोग स्वयं ही मूर्ख बन गए। कभी-कभार ऐसे मनोरंजक अवसर भी देखे गए हैं, जब मूर्ख दिवस के अवसर पर एक साथ हजारों की संख्या में लोग ‘मूर्ख’ बन गए और वास्तविकता जानने के बाद हंसते हुए अपने-अपने घर लौट गए। सामूहिक तौर पर लोगों को मूर्ख बनाने या लोगों का मनोरंजन करने के लिए कभी-कभार दुनिया के विभिन्न हिस्सों में कुछ अखबारों तथा अन्य संचार माध्यमों के जरिये भी अनोखे तरीके अपनाए जाते रहे हैं।
मूर्ख दिवस दुनियाभर में हंसने-हंसाने और हल्के-फुल्के मजाक के जरिये लोगों को बेवकूफ बनाने के दिन के रूप में सदियों से मनाया जाता रहा है लेकिन दावे के साथ यह नहीं कहा जा सकता कि मूर्ख दिवस मनाए जाने की कब और कैसे शुरू हुई थी। हालांकि माना यही जाता है कि इस दिवस को मनाने की शुरूआत फ्रांस में 1 अप्रैल 1564 से शुरू हुई थी, जब वहां के राजा ने चटपटी और मनोरंजक बातों के माध्यम से लोगों के बीच मित्रता और प्रेम भाव की स्थापना के लिए एक अनोखी सभा का आयोजन कराया था। राजा द्वारा उस अनोखी सभा के बाद अनोखा फैसला लिया गया कि अगले साल से ऐसी ही सभा का आयोजन एक अप्रैल के ही दिन प्रतिवर्ष होगा, जिसमें सबसे ज्यादा मूर्खतापूर्ण हरकतें करने वाले शख्स को ‘मास्टर ऑफ फूल’ की उपाधि से सम्मानित किया जाएगा।
बहरहाल, समय-समय पर अनेक ऐसे प्रसंग सामने आते रहे हैं, जब दुनिया की कुछ बड़ी-बड़ी शख्सियतें भी इस दिन लोगों को मूर्ख बनाने का प्रयास करती देखी गई। ऐसा ही एक दिलचस्प वाकया आधुनिक हिन्दी साहित्य के जनक भारतेन्दु हरिश्चन्द्र के साथ भी जुड़ा हुआ है। दरअसल उन्होंने एक बार ऐसी अनोखी घोषणा की कि अनायास ही उनकी बातों पर विश्वास कर लाखों लोग एक साथ मूर्ख बन गए। अब भारतेन्दु हरिश्चन्द्र ने अगर कोई घोषणा की थी तो लोगों का उनकी बातों पर आंख मूंदकर भरोसा करना भी स्वाभाविक ही था लेकिन लोगों को क्या पता था कि वे उनके साथ मजाक कर उन्हें अप्रैल फूल रूपी हंसी-मजाक भरा तोहफा दे रहे हैं। भारतेन्दु ने घोषणा करते हुए कहा कि पहली अप्रैल के दिन एक बहुत ही पहुंचे हुए सिद्ध महात्मा काशी में गंगा नदी को पैदल ही पार करेंगे। अब ऐसी चमत्कारिक घटना को भला कौन व्यक्ति को अपनी आंखों से देखने का मौका गंवाना चाहता, इसीलिए काशी में गंगा के तट पर उनके द्वारा बताए गए दिन और नियत समय पर कई वरिष्ठ ब्रिटिश अधिकारियों सहित लाखों लोगों की भीड़ एकत्रित हो गई।
बताए गए समय पर भारतेन्दु हरिश्चन्द्र बनारस के घाट पर पहुंच गए। उनके साथ भगवा वस्त्र धारी एक महात्मा भी थे, जो चेहरे से कोई सिद्धपुरूष ही प्रतीत हो रहे थे। भारतेन्दु ने उन महात्मा के साथ घाट पर पहुंचकर वहां उपस्थित लाखों लोगों की भीड़ का अभिवादन किया और घोषणा की कि महात्मा जी की तबीयत अभी कुछ खराब है, इसलिए वे गंगा नदी के उस पार जाने के लिए तो नाव का सहारा लेंगे लेकिन वहां से वापस लौटते समय गंगा नदी को पैदल पार करके ही इस तरफ तट तक आएंगे। अब भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की बात पर भला कौन अविश्वास करता, इसलिए लोग दम साधे उस पल की प्रतीक्षा करने लगे, जब उन्हें पैदल नदी पार करते उन अलौकिक सिद्ध महात्मा के दर्शन होते।
आखिरकार भारतेन्दु हरिश्चन्द्र सन्यासी के साथ एक नाव में सवार होकर गंगा नदी में दूसरे छोर की ओर जाने के लिए निकल पड़े लेकिन यह क्या! अचानक वहां एकत्रित लोगों के साथ कुछ ऐसा हुआ, जब उन्होंने स्वयं को ठगा सा महसूस किया और वे हंसते-खिलखिलाते वापस लौट गए। दरअसल गंगा में थोड़ा आगे बढ़ने पर भारतेन्दु हरिश्चन्द्र ने नाव से ही ‘मूर्ख दिवस’ का एक बड़ा सा बैनर हवा में लहरा दिया और ब्रिटिश अधिकारियों सहित लाखों लोगों को यह समझते देर नहीं लगी कि भारतेन्दु ने पहली अप्रैल के दिन उन्हें सामूहिक रूप से ‘मूर्ख’ बनाने के लिए उनके साथ यह मजाक किया था।
(लेखिका शिक्षिका हैं)

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

दो बच्चों के शव चारपाई पर टांग दिए और एक शव को पंखे की हुक से लटका दिया।

admin

अर्जुन मार्क-1ए: बेहद शक्तिशाली, घातक और विध्वंसक टैंक

admin

म्हारी भाजपा की खीर भी चाख के देख ल्यो बरोदा आलयो

admin

Leave a Comment

URL