Atal hind
टॉप न्यूज़ राजनीति राष्ट्रीय विचार /लेख /साक्षात्कार

जिन सांसदों ने बेईज्जती की उन्हीं के लिए उपसभापति रघुवंश चाय लेकर पहुंचे।

जिन सांसदों ने बेईज्जती की उन्हीं के लिए उपसभापति रघुवंश चाय लेकर पहुंचे।

लोकतंत्र का ऐसा उजला चेहरा सिर्फ भारत में ही देखने को मिलेगा।

कृषि सुधार बिल का विरोध करने वाले सांसद पहले कपिल सिब्बल का बयान सुने। विरोध करने वाले नेता किसानों के साथ है या दलालों के?
====राजकुमार अग्रवाल ========
राज्यसभा में विपक्ष के आठ सांसदों ने उपसभापति रघुवंश नारायण सिंह के सामने कृषि सुधार बिल की प्रतियाँ फाड़ी, माइक तोड़ा, ऊंची आवाज में

असंसदीय भाषा का प्रयोग किया। रघुवंश के साथ जो कुछ भी हुआ उससे वे बेहद आहत हैं। रघुवंश ने अपनी पीड़ा से राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को भी अवगत
कराया है। हालांकि सभापति वैकेंया नायडू ने आरोपी आठों सांसदों को सदन से मानसून सत्र तक के लिए सस्पेंड कर दिया है। इसके विरोध में 21 सितम्बर
से आठों सांसद संसद भवन परिसर में धरने पर बैठ गए। जिन सांसदों ने उपसभापति रघुवंश की बेईज्जती की उन्हीं सांसदों के लिए 22 सितम्बर को सुबह
रघुवंश चाय लेकर पहुंच गए। रघुवंश का कहना रहा कि वे अपने शिष्टाचार में कोई कमी नहीं रखना चाहते हैं। चूंकि आठों सांसद उनके अपने हैं, इसलिए
चाय लेकर आए हैं। रघुवंश के इस शिष्टाचार से आठों सांसद असमंजस में पड़ गए। सांसदों के पास कहने को कुछ नहीं था। लोकतंत्र की ऐसी उजली तस्वीर
सिर्फ भारत में ही देखने को मिल सकती है। मालूम हो कि दो दिन पहले ही रघुवंश को राज्यसभा का दोबारा से सभापति चुना गया है। रघुवंश जेडीयू के
सांसद है। जबकि हंगामा करने वाले डेरेक ब्राउन व डोला सेन टीएमसी, रिपुन बोरा, राजीव सातव व नजीर हुसैन कांग्रेस, केके रागेश व इलायारन सीपीएम
तथा संजय सिंह आम आदमी पार्टी के हैं। रघुवंश ने जे शिष्टाचार निभाया, उसी का परिणाम रहा कि आठों सांसदों ने अपना धरना समाप्त कर दिया है। हो
सकता है कि सांसदों का निलंबन भी खत्म हो जाए। लेकिन रघुवंश के शिष्टाचार की देशभर में प्रशंसा हो रही है। अपमान करने वालों के प्रति यदि कोई
व्यक्ति इतना शिष्टाचार दिखाता है तो यह बहुत बड़ी बात है। कायदे से तो लोकतंत्र का मजाक उड़ाने वालों पर कार्यवाही होनी चाहिए थी, लेकिन रघुवंश ने
इसके उलट किया। रघुवंश के इस व्यवहार की जितनी प्रशंसा की जाए उतनी कम है।

==निलंबित सांसदों को चाय पिलाने पहुंचे हरिवंश===

सिब्बल का बयान:

https://twitter.com/jilajeetbjp/status/1308024874317705216?s=20
संसद और सड़क पर जो सांसद और नेता कृषि सुधार बिल का विरोध कर रहे हैं, उन्हें पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल का बयान सुन लेना चाहिए।
सिब्बल का यह वीडियो  देखा जा सकता है। यह वीडियो 4 दिसम्बर, 2012 की लोकसभा की कार्यवाही का है। तब सिब्बल केन्द्र में मंत्री थे। तब डॉ. मनमोहन
सिंह के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार भी ऐसे ही सुधर करना चाहती थी, तब लोकसभा में सरकार की ओर से पक्ष रखते हुए सिब्बल ने कहा कि किसान जब
अपने खेत से फसल को मंडी तक ले जाता है, तब 35 से 40 प्रतिशत तक फसल खराब हो जाती है। मंडी में किसान को बिचौलियों के शोषण का शिकार
होना पड़ता है। इन बिचौलियों की वजह से ही किसान को फसल की बाजार कीमत की मात्र 17 प्रतिशत राशि ही मिलती है। अब यह विपक्ष को तय करना है
कि वह किसानों के साथ है या बिचौलियों के। वर्ष 2012 में सिब्बल ने जो बयान दिया उसका जवाब कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों को देना है। 2012 में
कांग्रेस स्वयं मान रही थी कि मंडी में दलालों का साम्राज्य है। यदि किसान अपनी फसल खुले बाजार में बेचे तो उसे ज्यादा मुनाफा मिलेगा। सवाल उठता है
कि जब कांग्रेस की मंशा के अनुरूप ही कृषि क्षेत्र में सुधार किए जा रहे हैं तो फिर कांग्रेस आंदोलन क्यों कर रही है?

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

खतरे में है हरियाणा की बीजेपी-जेजेपी सरकार!

admin

कितने दूध के धुले हैं उमर खालिद

admin

भंडाफोड़ः हरियाणा सरकार की नकली वेबसाइट बनाकर निकालीं भर्तियां

admin

Leave a Comment

URL