जिला परिषद के माध्यम से गांव सीवन में हुए लगभग 53 लाख से विकास कार्य : रति राम

जिला परिषद के माध्यम से गांव सीवन में हुए लगभग 53 लाख से विकास कार्य : रति राम
अनेक विकास कार्य सम्पन्न, कुछ पर चल रहा है कार्य, पूरी पारदर्शिता से हुए संपन्न : पार्षद
कैथल/सीवन, 25 सितम्बर (कृष्ण प्रजापति): जिला परिषद के माध्यम से अकेले सीवन कस्बे में ही जिला परिषद के माध्यम से अनेक समुदायों की चौपालों, श्मशान घाटों और अन्य विकास कार्यों पर 53 लाख रुपए की लागत से खर्च किए जा चुके हैं, सभी विकास कार्यों में पूरी पारदर्शिता बरती गई है, यह कहना है, जिला पार्षद मास्टर रतिराम सीवन का, वे उनके द्वारा किए गए विकास कार्यो को लेकर चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वह समय अब बीते दिनों की बात हो गई है कि कोई जिला परिषद को जानता तक नहीं था और लोगों को पता नहीं था कि जिला परिषद के माध्यम से भी लाखों व करोड़ों रुपये के काम हो सकते हैं। जब प्रदेश में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कमान संभाली और भाजपा ने पूर्ण पारदर्शी तरीके से विकास कार्य करवाए, जिला परिषद को सभी अधिकार दिए और विकास कार्यों को लेकर ग्रांट मिलनी हुई शुरू हुई तब से लेकर अब तक अकेले हमारे वार्ड में ही करोड़ों रुपए के विकास कार्य हो चुके हैं, जिसका श्रेय प्रदेश के यशस्वी मनोहर सरकार को जाता है। उन्होंने कहा कि जिला परिषद की चेयरपर्सन सुखविंदर कौर आंधली के सहयोग से उनके वार्ड में जो भी ग्रांट दी गई हैं, उनके तहत विकास कार्य करवाए जा रहे हैं। रति राम सीवन ने बताया कि कुछ विकास कार्य संपन्न भी हुए हैं और कुछ विकास कार्यों पर कार्य चल रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के साथ साथ गुहला हल्के का हर वर्ग, हर तबका भाजपा सरकार के कुशल नेतृत्व से खुश है। बातचीत के दौरान जिला पार्षद एवं भाजपा एससी मोर्चा के जिला अध्यक्ष मास्टर रतिराम सीवन ने कहा कि विकास कार्यों के लिए कभी भी धन की कमी नहीं आने दी और सभी वर्गों के लिए समान रूप से ग्रांट देने का कार्य किया है क्योंकि भारतीय जनता पार्टी की नीति भी है सबका साथ सबका विकास। उन्होंने बताया कि निर्माण कार्य भी बिना किसी भेदभाव के पारदर्शी तरीके से करवाए गए हैं।
बॉक्स– सीवन कस्बे में जिला पार्षद मा० रति राम द्वारा करवाये गए विकास कार्य
सीवन की सैनी समाज के श्मशान घाट पर 4 लाख 75 हजार रुपये खर्च।
सैंसी समाज के शमशान घाट पर 3 लाख 60 हजार रुपये खर्च।
रविदासिया शमशान घाट के लिए 2 लाख 75 हजार रुपये खर्च
अंबेडकर भवन के लिए 5 लाख 50 हजार रुपये खर्च।
प्रजापति धर्मशाला 2 लाख रुपये खर्च।
कश्यप धर्मशाला के लिए 2 लाख रुपये खर्च।
वाल्मीकि धर्मशाला के लिए 2 लाख रुपये खर्च।
ब्राह्मण धर्मशाला के लिए 2 लाख रुपये खर्च।
राजकीय सीनियर सकैंडरी स्कूल के शैड निर्माण हेतु साढ़े 3 लाख रुपये खर्च।
रविदासिया चौपाल के लिए अढ़ाई लाख रुपये खर्च।
पंजाबी धर्मशाला नजदीक सांई मंदिर हेतु 3 लाख 50 हजार रुपये खर्च।
ब्राह्मण धर्मशाला भौ पट्टी के लिए 2 लाख रुपये मंजूर
आर्य मेघ चौपाल के लिए 1लाख 80 हजार रुपये मंजूर।
पंजाबी धर्मशाला नजदीक सनातन धर्म मंदिर हेतु 1 लाख रुपये खर्च।
गांव से डेरों को जाने वाले रास्ते को पक्का करने के लिए लगभग 12 लाख रुपए की राशि खर्च।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: