Atal hind
जींद टॉप न्यूज़ हरियाणा

जींद के DC आफिस में वसीका की नकल की एवज में 400 रूपये रिश्वत लेते सरकारी कर्मियो का वीडियो हुआ वायरल।

JIND का DC आफिस बना भरष्टाचार और ब्लैकमेलिंग का अडडा।
जींद के DC आफिस में वसीका की नकल की एवज में 400 रूपये रिश्वत लेते सरकारी कर्मियो का वीडियो हुआ वायरल।
#डीआईजी_औमप्रकाश_नरवाल : भृष्टाचार और ब्लैकमेलिंग बारे सुनील नामक युवक ने शिकायत और सीडी दी है जांच के लिए सिविल लाईन थाना जींद को भेजी गई है। जल्द उचित कार्यवाही की जायेगी
सोजन्य से- शिकायतकर्ता सुनील कपूर
सेवा में
ग्रहमंत्री साहब- हरियाणा सरकार (श्री अनिल विज जी) DGP साहब- हरियाणा पुलिस (श्री मनोज यादव जी) DIG कम पुलिस अधीक्षक साहब- जिला जीन्द (श्री ओमप्रकाश नरवाल जी) उपायुक्त महोदय- जिला जीन्द (श्री आदित्य दहिया जी) SHO साहब- थाना सिविल लाईन जीन्द
विषय:- भारतभूषन पुत्र सोमदत शर्मा द्वारा जीन्द डी.सी आफिस में कार्यरत कर्मचारी ईश्वर व गोपाल को ब्लेकमेल कर उनसे मोटी रकम वसूलने की नीयत से किन्ही अनजान व्यक्तियो की प्रोपर्टी के वसीका की नक़ल तुरंत लेने की एवज में 400 रूपये रिश्वत देने और ईश्वर व गोपाल द्वारा उक्त वसीका की नक़ल हाथो हाथ देने की एवज में 100 रूपये प्रति नकल के हिसाब से कुल 400 रूपये की रिश्वत भारतभूषन से लेने व भारतभूषन द्वारा प्रार्थी सुनील कपूर का नाम लेकर ईश्वर व गोपाल को उक्त वीडियो का डर दिखाकर उन दोनों सरकारी कर्मियों को ब्लेकमेल करके उनसे 3.60.000 (तीन लाख साथ हजार) रूपये की फिरोती वसूलने पर उक्त तीनो के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम की धारा 7/13(B)/8 व IPC की धारा 384/419 व अन्य धाराओं के तहत कानूनन मुकदमा दर्ज कर आरोपी ईश्वर व गोपाल से रिश्वत के रूपये 400 की रिकवरी व भारतभूषन से ब्लेकमेलिंग के 3.60.000 रूपये की रिकवरी व दोषी का मोबाईल बरामद करने बारे प्रार्थना, उक्त तीनो मुलजिमो द्वारा रिश्वत लेने व रिश्वत देने की वीडियो की CD व ईश्वर-गोपाल द्वारा रिश्वत की एवज में तुरंत दिए गए दस्तावेजो की फोटो कापी साथ लफ़ है…

 

https://www.facebook.com/100895688458609/videos/779784579588466

 

प्रार्थी:- सुनील कपूर पुत्र श्री ओमप्रकाश कपूर निवासी बाजरान महोल्ला, आसरी गेट जीन्द का स्थाई निवासी हूँ, यहकि प्रार्थी हीरे-जवाहरात व् सोने-चांदी का कार्य करता है व सुनार मार्किट जीन्द में दूकान है, व प्रार्थी हरियाणा सरकार व भारत सरकार द्वारा भ्रष्टाचार को रोकने की मुहीम में सरकार का सहयोग करने के लिए जनहित में रिश्वतखोरों व समाज में नशा बेचने वालो के खिलाफ समय समय पर सबूतों सहित शिकायत करता रहता है, व प्रार्थी द्वारा कई सरकारी कर्मियों पर भ्रष्टाचार के मुकदमे दर्ज करवाए हुए है व भ्रष्टाचार की काफी शिकायते हाई कोर्ट व जिला जीन्द प्रशासन में अभी भी विचाराधीन है।
निवेदन है कि:- भारतभूषन उर्फ रिंकू पंडित पुत्र सोमदत शर्मा, संचालक- “सर्वदेव पूजा भण्डार” हनुमानगली जीन्द, निवासी- सैनी महोल्ला जीन्द को सिविल लाईन थाना पुलिस जीन्द ने उत्त थाना में दर्ज मुकदमा नम्बर 006 धारा 384 दिनांक 06-01-2020 में भारतभूषण को डीसी आफिस जीन्द के कमरा नम्बर 418 में RC क्लर्क पूनम सैनी व उसके सहयोगी दरियाव सिंह की वीडियो बनाकर उनके खिलाफ लिखित शिकायत व ब्यान ना देने की एवज में उनसे 5 लाख रूपये की ब्लेकमेलिंग में रंगेहाथ पूनम सैनी के घर से गिरफ्तार किया गया था जोकि उक्त मुकदमा में लगभग 84 दिन जीन्द जेल में रहकर अब जमानत पर बाहर है, यहकि उक्त मुकदमाहजा में सिविल लाईन थाना पुलिस जीन्द ने उक्त दोषी का माननीय अदालत से रिमांड लिया था व रिमांड दौरान आरोपी भारतभूषन के घर से उसके कम्प्यूटर का CPU बरामद किया था जिसके अन्दर सरकारी कर्मचारियों को रिश्वत देने की दर्जनों वीडियो पुलिस ने उक्त मुलजिम के कम्प्यूटर के CPU से बरामद की थी, जिनकी बरामदगी के फर्द इंसाफ उक्त मुकदमाहजा की फाईल में मौजूद है।
यहकि जीन्द पुलिस में मेरे ख़ास मुखबर ने उसका नाम ना बताने की शर्त पर मुझे ऐसे कई सरकारी कर्मचारियों की वीडियो व दस्तावेज दिए है जिनकी भारतभूषन ने स्वय वीडियो बनाकर उनसे भी ब्लेकमेलिंग कर प्रार्थी सुनील कपूर के नाम पर रूपये ऐंठे है और मुझे मौखिक तौर पर बताया कि जब पुलिस ने भारतभूषन का रिमांड लिया था तो उसने पुलिस को बताया था कि सुनील कपूर का शहर में बहुत नाम है और रिश्वत लेने वाले सरकारी कर्मी उसके नाम का खौफ खाते है जिस कारण भारतभूषन ने सुनील कपूर के नाम का फायदा उठाना शुरू कर दिया और दर्जनों सरकारी कर्मचारियों को पहले स्वय रिश्वत देता था और उनकी वीडियो बनाकर उन्हें सुनील कपूर के नाम का डर दिखाकर उन सरकारी कर्मचारियों को ब्लेकमेल कर उनसे लाखो रूपये ऐठा करता था, जो कर्मचारी उसे रूपये दे देता उसकी वह शिकायत नहीं करता था और जो रूपये नही देता था वह उसकी शिकायत कर देता था और इस बार वह अपने ही जाल में स्वय फस गया और पकड़ा गया, यहकि रिमांड दौरान आरोपी भारतभूषण ने पुलिस को मौखिक तौर पर सब बताया कि उसने किस किस सरकारी कर्मचारी की वीडियो बनाकर उन्हें सुनील कपूर के नाम का डर दिखाकर उन्हें ब्लेकमेल कर लाखो रूपये ऐठे है, यहकि जीन्द पुलिस विभाग में मेरे ख़ास मुखबर ने उन सब कर्मचारियों की डिटेल व वीडियो व सम्बन्धित दस्तावेज उपलब्ध करवाए है, जिनमे से एक मामला इस प्रकार से है।
यहकि भारतभूषन ने दिनांक 22-05-2019 को डीसी आफिस जीन्द के कमरा नम्बर 418 में कार्यरत सरकारी कर्मचारी ईश्वर व गोपाल को ब्लेकमेल करने के इरादे से कुछ अनजान व्यक्तियों के नाम की प्रोपर्टी के वसीका की कुल-4 नक़ल अप्लाई की थी, यहकि उक्त नक़ल की सरकारी फीस के तौर पर एप्लीकेशन के साथ 10 रूपये का स्टाम पेपर लगता है इसके अलावा किसी प्रकार से नगद रूपये लेने का प्रावधान ही नहीं है, यहकि भारतभूषन ने उक्त नक़ल तुरंत देने के लिए कहा जिसपर कर्मचारी गोपाल ने अर्जंट फीस के तौर पर प्रति नकल 150 रूपये की मांग की जिसपर भारतभूषन ने रूपये देने की हाँ भर ली, जिसपर कर्मचारी गोपाल उक्त दस्तावेज निकालने में लग गए इस दौरान ईश्वर व भारतभूषन बातचीत करने दौरान और वो एक दूसरे के जानकार निकल आये व दस्तावेज तैयार होने पर भारतभूषन ने कर्मचारी ईश्वर को 500 रूपये दिए तो ईश्वर ने भाईचारे की बात कहते हुए 150 की जगह 100 रूपये प्रति नकल के हिसाब से कुल रूपये 400 काट कर 100 रूपये भारतभूषन को वापिस दे दिए, और मौखिक तौर पर भी कहा कि अर्जेंट की जगह वैसे ही निकाल दी मैंने और कल की डेट में दिखा देंगे, अर्जेंट ना दिखाके… यहकि रिश्वत लेने व रिश्वत देने के इस मामले की वीडियो भारतभूषन ने ही अपने मोबाईल के कैमरे से बना ली थी और उसके बाद भारतभूषन ने उक्त दोनों कर्मचारियों के खिलाफ लिखित शिकायत ना करके उक्त दोनों कर्मचारियों को प्रार्थी सुनील कपूर के नाम का डर दिखाया कि सुनील कपूर ने तुम्हारी वीडियो बना रखी है और वह तुम्हारे खिलाफ शिकायत करेगा और उनसे प्रार्थी सुनील कपूर के नाम पर 3.60.000 (तीन लाख साथ हजार रूपये) ब्लेकमेल करके ऐठ लिए जबकि प्रार्थी को उक्त मामले की खबर तक ना थी. यहके प्रार्थी को पुलिस विभाग में अपने मुखबर से इस प्रकरण के बारे में अब पता चला है, यहकि रिश्वत लेने देने के उक्त मामले में भारतभूषन ने मेरे नाम पर ईश्वर व गोपाल को ब्लेकमेल कर लाखो रूपये ऐठे है जिससे पुलिस विभाग व समाज में मेरी छवि काफी खराब हुई है।
:- यहकि भारतभूषन ने वर्ष 2020 में भी फिर से डीसी आफिस जीन्द के इसी कमरा नम्बर 418 में पुनम सैनी वू दरियाव सिंह की भी इसी प्रकार से रिश्वत देते हुए की वीडियो बनाई और फिर उनसे व् भी प्रार्थी सुनील कपूर के नाम पर 5 लाख रूपये ब्लेकमेलिंग के जुर्म में रंगेहाथ गिरफ्तार होकर 84 दिन जेल काटकर जमानत में बाहर आया हुआ है… यहकि भारतभूषन व पूनम सैनी/दरियाव सिंह/विजय सैनी पर पहले भी एक मुकदमा नम्बर 008 दिनांक 07-01-2020 रिश्वत लेने व रिश्वत देने बारे सिविल लाईन थाना जीन्द में धारा 7 /13(D)/120-B में प्रार्थी सुनील कपूर की शिकायत पर दर्ज है, जिसकी तफ्तीश जारी है…
:- इसी प्रकार भारतभूषन ने जीन्द के पी.ओ स्टाफ में कार्यरत E/ASI राजेन्द्र डांगी बेल्ट नम्बर 299/J को भी दिनांक 24-12-2019 को 2000 रूपये की रिश्वत दी थी जिसकी शिकायत भी प्रार्थी सुनील कपूर ने एस.पी जीन्द को डायरी नम्बर 134-P दिनांक 09-01-2020 दी हुई है, व सीएम विंडो पर CMOFF/N/2020/022798 दी हुई है, जिसपर उक्त पुलिसकर्मी दिनांक 16-01-2020 को सस्पेंड हुआ जिसकी विभागीय जांच अभी तक पेंडिंग है…
:- यहकि भारतभूषन एक फ्राड किस्म का व्यक्ति भी है जिसपर चैक बाऊंस के भी काफी मुकदमे कोर्ट में विचाराधीन है व एक चैक बाऊंस में भारतभूषन सजायाफ्ता मुजरिम भी है…
:- यहकि पुलिस विभाग में मेरे ख़ास मुखबर द्वारा मुझे दिए गए अन्य वीडियो सबूत व पुख्ता सबूत जो मैं जल्द सरकार के समक्ष पेश करने वाला हूँ जो साबित करेंगे कि भारतभूषन इसी प्रकार से सरकारी कर्मचारियों को पहले रिश्वत देता है और फिर लिखित शिकायत का डर दिखाकर उनसे ब्लेकमेलिंग कर रूपये ऐंठता है, यहकि उक्त व्यक्ति ने समाज में रूपये कमाने का यह आसान सा धंधा बनाया हुआ है।
अत:- मेरी आपसे प्रार्थना है कि भारतभूषन उर्फ रिंकू पंडित द्वारा डीसी आफिस जीन्द के कमरा नम्बर 418 में कार्यरत कर्मचारी ईश्वर व गोपाल को ब्लेकमेलिंग के इरादे से उन्हें 400 रूपये की रिश्वत देकर उनकी वीडियो बनाने और फिर प्रार्थी सुनील के नाम का डर दिखाकर उनके खिलाफ शिकायत ना कर उनसे 3.60.000 रूपये ब्लेकमेलिंग करने और ईश्वर व गोपाल द्वारा एक सरकारी कर्मचारी होने के बावजूद भी कार्य करने की एवज में 400 रूपये की रिश्वत लेने के जुर्म में उक्त तीनो के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम की धारा 7/13(B)/8 व IPC की धारा 384/419 व अन्य धाराओं के तहत कानूनन मुकदमा दर्ज कर आरोपियों से रिश्वत के रूपये 400 की रिकवरी व भारतभूषन से ब्लेकमेलिंग में लिए गए 3.60.000 रूपये की रिकवरी व दोषी का मोबाईल बरामद कर कानूनी कार्यवाही की जाए… यहकि भारतभूषन एक तेज- तर्रार और शातिर किस्म का व्यक्ति है जिसके सम्पर्क बड़े बड़े बदमाशो के साथ है, अगर मुझे या मेरे परिवार के साथ कोई भी अप्रीय घटना हुई तो उसका जिम्मेवार भारतभूषन व अन्य दोषीगण होंगे।(साभार विश्वप्रेम )

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

अधिकारी लोगों की समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर निपटाए :  लीलाराम

admin

एक थी काँग्रेस ,सोनिया गांधी को पत्र लिखा था तो रातों रात भाजपाई हो गए

admin

भिवानी नगर परिषद ने मांगी सुरक्षा और और कहा मौजूद रहे ड्यूटी मजिस्ट्रेट 

admin

Leave a Comment

URL