जेके लोन अस्पताल में 28 दिन में 77 बच्चों की मौत। सीएम गहलोत और लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने चिंता जताई।

जेके लोन अस्पताल में 28 दिन में 77 बच्चों की मौत। सीएम गहलोत और लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने चिंता जताई।

कोटा (अटल हिन्द ब्यूरो )राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा इन दिनों परिवार के साथ दुबई के दौरे पर हैं। यही वजह रही कि 28 दिसम्बर को शर्मा ने दुबई से ही कोटा के जेके लोन अस्पताल के हालातों का जायजा लिया। शर्मा ने अस्पताल की व्यवस्थाओं को तत्काल सुधारने के निर्देश भी दिए। चिकित्सा मंत्री ने जानना चाहा कि अस्पताल में प्रतिदिन बच्चों की मौत क्यों हो रही है? मालूम हो कि कोटा के अस्पताल में दिसम्बर माह में अब तक 77 बच्चों की मौत हो चुकी है। रोजाना हो रही मौतों से अस्पताल में हड़कंप मचा हुआ है। बच्चों की मौत पर चिंता जताते हुए कोटा के सांसद और लोकसभा के अध्यक्ष ओम बिरला ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखा है। चिकित्सा मंत्री की गैर मौजूदगी में मुख्यमंत्री गहलोत ने प्रदेश के स्वास्थ सचिव शिक्षा वैभव गालरिया की अध्यक्षता में एक कमेटी गठित कर कोटा भेजा है। अब यह कमेटी मौत के कारणों का पता लगा रही है।

 

 

प्राथमिक जांच पड़ताल के अनुसार बच्चों की मौत का कारण बच्चा वार्ड में इंफेक्शन बताया जा रहा है। कोटा के जेके लोन अस्पताल में बच्चों की मौत इन दिनों मीडिया में सुर्खियां बनी हुई है। आरोप है कि सरकारी अस्पताल में डॉक्टरों एवं चिकित्सा कर्मियों की लापरवाही और समुचित देखभाल नहीं होने की वजह से भी बच्चों की मौत हो रही है। रोजाना हो रही बच्चों की मौत से अभिभावकों में भी दहशत का माहौल है। धनाढ्य परिवार तो प्राइवेट अस्पताल में डिलीवरी करवा लेते हैें, लेकिन आर्थिक दृष्टि से कमजोर परिवर की महिलाएं तो सरकारी अस्पताल पर ही निर्भर रहती हैं। सरकारी अस्पताल में सुरक्षित डिलीवरी के लिए केन्द्र और राज्य सरकार करोड़ों रुपए खर्च करती है, लेकिन इसके बावजूद भी संभाग स्तरीय कोटा के अस्पताल में एक माह में 77 बच्चों की मौत होना बताना है कि सरकार की सुविधाओं का लाभ महिलाओं को नहीं मिल रहा है। जब संभाग स्तरीय अस्पताल के हालात ऐसे हैं तो उपखंड स्तरीय और ग्रामीण क्षेत्र के सरकारी अस्पतालों के हालातों का अंदाजा लगाया जा सकता है।

 

सरकारी अस्पताल में बच्चों की मौत अस्वीकार्य-सचिन पायलट।
28 दिसम्बर को प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने कोटा के जेके लोन अस्पताल में दिसम्बर माह में 77 मौतों पर तीखी प्रतिक्रिया दी है। पायलट ने कहा कि सरकारी अस्पताल  में बच्चों की मौत अस्वीकार्य है। उन्होंने उम्मीद जताई कि मुख्यमंत्री ने जो जांच कमेटी बैठाई है वह जल्द ही अपनी रिपोर्ट देगी और दोषियों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जाएगी। पायलट ने कहा कि इस मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।

 

कांग्रेस के फ्लैग मार्च में भी शामिल नहीं रघु शर्मा:
केन्द्र सरकार की नीतियों के विरोध में कांग्रेस के स्थापना दिवस 28 दिसम्बर को देश में कांग्रेस की ओर से फ्लैग मार्च का आयोजन किया गया। राजस्थान में जयपुर में प्रदेश स्तरीय फ्लैग मार्च में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव अविनाश पांडे, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष व डिप्टी सीएम सचिन पायलट सहित मंत्रिमंडल के तमाम सदस्य एवं कांग्रेस के पदाधिकारी शामिल हुए। लेकिन कांग्रेस के इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम में प्रदेश के चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा भाग नहीं ले सके। सूत्रों के अनुसार रघु शर्मा ने सीएम और प्रदेशाध्यक्ष को पहले ही अपने दुबई दौरे के बरे में बता दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *