Atal hind
टॉप न्यूज़ बिहार

ज्योति के पिता की हार्ट अटैक से मौत, गांव में पसरा सन्नाटा

गुड़गांव से दरभंगा तक साइकिल चलाकर पहुंचने वाली ज्योति के पिता की हार्ट अटैक से मौत, गांव में पसरा सन्नाटा

बिहार में दरभंगा जिले में रहने वाली साइकिल गर्ल के नाम से मशहूर ज्योति पासवान के पिता मोहन पासवान के पिता की मौत हो गई है. फिलहाल शुरुआती जानकारी अनुसार ज्योति के पिता की मौत हार्ट अटैक से आज सुबह हुई. बता दें कि ज्योति पिछले साल कोरोना संकट के दौरान लाकडाउन लगने के बाद अपने पिता को साइकिल में बैठाकर गुड़गांव से दरभंगा पहुंची थी.

अपने बीमार पिता मोहन पासवान को 1200 किलोमीटर साइकिल पर पीछे बिठा कर अपने गांव पहुंची थी ज्योति. बता दें कि जोति ने इस दौरान आठ दिन तक लगातार साइकिल चलाई. साइकिल गर्ल के नाम से मशहूर ज्योति को देश विदेश में काफी सराहना मिली थी. ज्योति के पिता के असामयिक मृत्यु से गांव मे चारो तरफ मातम पसरा है.


जानकारी के अनुसार ज्योति के पिता मोहन पासवान के चाचा की मौत लगभग 10 दिन पहले हुई थी. उनके श्राद्ध कार्यक्रम की तैयारी को लेकर वे लोगों के साथ बातचीत कर रहे थे. इसके बाद वे जैसे ही खड़े हुए तो नीचे गिर पड़े और उनकी मौत हो गई. पिता की मौत के बाद ज्योति के परिवार में कोहराम मचा हुआ है.

बता दें कि मोहन पासवान दिल्ली एनसीआर में ऑटो चलाकर अपने परिवार का पालन पोषण करते थे. 2020 जनवरी में उनका एक्सीडेंट हो गया था इसी के बाद ज्योति उनके पास चली गई थी. मार्च में कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण देशभर में लॉकडाउन घोषित कर दिया गया और ज्योति अपने पिता से साथ गुड़गांव में ही फस गई. इसके बाद ज्योतिन 400 रुपये में एक साइकिल खरीदी और उसमें अपने पिता को बैठाकर दरभंगा पहुंची थी. उसके इस बहादुरी भरे काम के बाद देशभर में साइकिल गर्ल के नाम से पहचाना जाने लगा.

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

मोदी सरकार को कड़ी फटकार एससी बोला न्यायाधिकरणों में अधिकारियों की नियुक्ति न करके अर्द्ध न्यायिक संस्थाओं को ‘शक्तिहीन’ कर रहा है केंद्र

atalhind

गुजरात का सियासी फेरबदल क्या भाजपा की चुनाव-पूर्व असुरक्षा का सूचक है

atalhind

किसान आंदोलन के 300 दिन पूरे

atalhind

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL