लॉक डाउन की उल्टी गिनती से पसोपेश में लोग

देश में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 4000 पार, 109 की मौत, बढ़ते आकड़ों के बीच लॉक डाउन की उल्टी गिनती से पसोपेश में लोग, निगाहें पीएमओ पर, 15 अप्रेल को लॉक डाउन का खुलना कही दिवास्वप्न तो नहीं होगा ?

 

 

The number of corona patients in the country has crossed 4000, 109 deaths, people in the neighborhood due to the countdown of lock down amid rising data, eyes on PMO, opening of lockdown on 15th april would not be a dream?

 

 

दिल्ली : लॉक डाउन की 14 अप्रेल की म्याद धीरे धीरे करीब आ रही है | इस बीच यह चर्चा जोरो पर है कि 15 अप्रेल से लॉक डाउन खुलने वाला है | रेलवे और कई निजी एयर लाइन्स ने टिकटों की बुकिंग भी शुरू कर दी है | उधर उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लॉक डाउन खोलने का प्लान अफसरों और जनप्रतिनिधियों से माँगा है |

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिख कर इंटर स्टेट आवागमन से उत्पन्न होने वाली समस्यायों पर चिंता जताते हुए, कोविड – 19 का प्रसार रोकने के ठोस उपाए किये जाने की मांग की गई है |
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने संशय जाहिर करते हुए कहा है कि 15 अप्रेल को क्या होगा वे नहीं जानते हालाँकि कि उन्होंने यह भी कहा कि लॉक डाउन का खुलना जनता के व्यवहार पर निर्भर होगा | जाहिर है राज्यों के मुख्यमंत्रियों के बीच भी असमंजस की स्थिति बनी हुई है |

 

उधर जानलेवा कोरोना वायरस का कहर देश में लगातार बढ़ता जा रहा है | सोमवार सुबह तक संक्रमित मरीजों की संख्या चार हजार के पार पहुंच गई है | स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, 4067 मामलों में से 3666 सक्रिय मामले हैं | इनमें से 291 लोग स्वस्थ हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और जबकि एक देश से बाहर जा चुका है | अबतक 109 लोगों की मौत हो चुकी है |

 

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, कोरोना वायरस के कारण अब तक महाराष्ट्र में सबसे अधिक 45 मौत हुई हैं | इसके बाद गुजरात में 11 , तेलंगाना में सात , मध्य प्रदेश में 9, दिल्ली में 7, पंजाब में पांच, कर्नाटक में चार, पश्चिम बंगाल में तीन हुई हैं, जबकि जम्मू कश्मीर, उत्तर प्रदेश और केरल में दो मौत हुईं | तमिलनाडु में तीन, आंध्र प्रदेश, बिहार और हिमाचल प्रदेश में एक-एक मौत हुई है |

 

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि अगर तब्लीगी जमात के मामले नहीं आए होते तो देश में कोरोना के हालात कुछ और होते | अकेले तब्लीगी के 21 राज्यों से कुल 1095 पॉजिटिव मामले अबतक सामने आए हैं | स्वास्थ्य मंत्रालय में जॉइंट सेक्रटरी लव अग्रवाल ने डेली ब्रीफिंग में बताया कि अब तक देश के 274 जिले कोरोना वायरस से प्रभावित हो चुके हैं | उन्होंने बताया कि तबलीगी जमात का मामला नहीं होता तो भारत में संक्रमण की दर काफी धीमी होती |

 

 

अग्रवाल ने कहा, ‘कोविड-19 के मामले वर्तमान में औसतन 4.1 दिन में दोगुने हो गए हैं, अगर तबलीगी जमात का मामला नहीं होता तो दोगुने होने में औसतन 7.4 दिन का समय लगता |

देश के तमाम राज्यों में कोरोना जोर मार रहा है | ऐसे में लॉक डाउन खोलना काफी चुनौती पूर्ण होगा | जनता के बीच लॉक डाउन की उल्टी गिनती चर्चा का विषय बनी हुई है | ज्यादातर लोग इस बात से डरे सहमे हुए है कि घर से बाहर निकलने पर कही वे कोरोना का शिकार ना हो जाये | फ़िलहाल तो लोगों को 15 अप्रेल को लॉक डाउन का खुलना दिवास्वप्न ही नज़र आ रहा है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *