दुनिया को और कितना बड़ा और लोकप्रिय नेता चाहिए?

 दुनिया को और कितना बड़ा और लोकप्रिय नेता चाहिए?

—-राजकुमार  अग्रवाल —
22 मार्च को सायं पांच बजे बाद से ही लोगों ने सोशल मीडिया पर थाली बजाते अपने परिवार के वीडियो और फोटो पोस्ट कर दिए। न्यूज चैनलों ने भी सुपर स्टार अमिताभ बच्चन से लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के वीडियो बार- बार दिखाए। 23 मार्च को सभी अखबारों ने प्रधानमंत्री के आव्हान को सफल बताते हुए प्रशंसा की। असल में 20 मार्च को अपने संबोधन में नरेन्द्र मोदी ने कहा था कि जो सफाई, चिकित्सक, पुलिस, मीडिया आदि कर्मी कोरोना वायरस के प्रकोप में भी अपनी ड्यूटी कर रहे हैं उनकी हौंसला अफाजई के लिए जनता कफ्र्यू के दौरान सायं पांच बजे घरों की छत पर खड़े होकर थालियां बजाई जाएं। सब जानते है कि जनता कफ्र्यू से लेकर अनेक पाबंदियों की वजह से देश का आम नागरिक पहले ही मुसीबत के दौर से गुजर रहा है।

 

 

 ऐसे माहौल में परेशान व्यक्ति यदि अपने परिवार के साथ थालियां बजाएं तो इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि लोग अपने नेता को कितना मानते हैं। थालियां बजा कर जहां नागरिकों ने कोरोना वायरस को भगाने का संकल्प लिया, वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रति अपनी आस्था भी प्रकट की। भारत जैसे विशाल देश में जिसमें पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, अफगानिस्तान, इजरायल जैसे कई देश समा जाएं। यानि इन देशों से भी ज्यादा जमीन और आबादी हमारे पास है। इसलिए यह सवाल उठा है कि दुनिया को और कितना बड़ा लोकप्रिय नेता चाहिए। राष्ट्रभक्ति में प्रथम माने जाने वाले अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी यदि कोई आव्हान करे तो इतना सफल नहीं होगा। 22 मार्च को देशवासियों ने बताया दिया कि वे अपने नेता का कितना सम्मान करते हैं। मुसीबत के दौर में यदि इतना उत्साह दिखाया जा सकता है तो फिर सामान्य स्थिति में उत्साह दिखाने का अंदाजा लगाया जा सकता है। यह तब है जब हमारे देश में अभिव्यक्ति के नाम पर कुछ भी बोलने की आजादी है। पिछले छह वर्षों विरोधियों ने कोई कसर नहीं छोड़ी। यहां तक कि देश के प्रधानमंत्री को चोर तक कहा, लेकिन 22 मार्च को देशवासियों ने जता दिया कि वे अपने नेता के आव्हान का कितना आदर करते हैं। नि:संदेह अब पूरी दुनिया में कोरोना के खिलाफ भारत के संकल्प का स्वागत होगा। दुनिया को मानना पड़ेगा कि नरेन्द्र मोदी एक शक्तिशाली नेता हैं जो दुनिया को एक नई राह दिखा सकते हैं। भारत ही नहीं बल्कि दुनिया को नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में आगे बढऩे का संकल्प लेना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *