Atal hind
टॉप न्यूज़ रोहतक हरियाणा

नहीं देखा जाता किसानों का दर्द और फेसबुक पर लाइव होकर खा लिया जहर 

नहीं देखा जाता किसानों का दर्द और फेसबुक पर लाइव होकर खा लिया जहर
Rohtak news(Atal Hind)। खेती कानूनों के विरोध में जहां पिछले 128 दिन से चल रहा धरने-प्रदर्शन का दौर खत्म नहीं हो रहा, वहीं हक की जंग में हार मानकर जान देने का सिलसिला भी जारी है। मंगलवार को एक और किसान ने आत्महत्या कर ली। हालांकि इन दिनों यह शख्स एक निजी स्कूल का संचालक था।
आज उसने अपने आपको अपने सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर लाइव वीडियो में दिखाते हुए जहर खा लिया। मरने से पहले उसने यह भी कहा है कि किसानों का दर्द अब और नहीं देखा जाता। हालांकि इस दौरान उससे जुड़े काफी लोगों ने कमेंट करके समझाने की कोशिश की, लेकिन उसने अपना फैसला नहीं बदला। मृतक की पहचान रोहतक शहर के रैनकपुरा मोहल्ले में रह रहे 50 वर्षीय मुकेश डागर के रूप में हुई है। वह बालक नाथ कॉलोनी में एक निजी स्कूल चलाते थे। मंगलवार को उन्‍होंने अपने सोशल मीडिया पेज पर लाइव होकर कहा, ‘लॉकडाउन के चलते काफी समय से स्कूल बंद हैं। पिछले तीन माह से अधिक समय से किसान आंदोलन कर रहे हैं,लेकिन उनकी कोई सुध लेने वाला नहीं है। आए दिन किसानों की मौत भी हो रही है। फिर भी सरकार गंभीरता नहीं दिखा रही है। इस वजह से वह काफी परेशान हूं। किसानों का दर्द अब और नहीं देखा जाता’। मुकेश डागर ने अपने परिचितों और दोस्तों से कहा, ‘यह मेरी आखिरी मुलाकात होगी। इसके बाद मैं इस दुनिया से चला जाऊंगा’। हालांकि इस दौरान काफी लोगों ने कमेंट कर समझा रहे थे कि इस तरह का कोई कदम ना उठाए,लेकिन मुकेश डागर नहीं रुके। उन्होंने जहर खा लिया। सूचना के बाद थाना सिटी प्रभारी राकेश सैनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस ने मौके से अनाज के कीड़े मारने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक खतरनाक किस्म के जहर का पैकेट बरामद किया है। फिलहाल शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजने के साथ ही परिवार के लोगों से बात की जा रही है कि क्‍या मुकेश पहले से ही परेशान थे। क्‍या कोई और भी ऐसी वजह थी।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

खट्टर साहब लॉकडाउन के समय आप हाथ जोड़कर प्रवासी मजदूरों को रोक रहे थे अब किस मुंह से उन्हें भगाएंगे?

admin

पत्रकार के साथ गुंडागर्दी पर उतरी हिसार पुलिस,  रातभर चली छापेमारी,खीझ मिटाने के लिए कैमरामैन को जबरन उठाया

admin

हरियाणा में बड़ा कारनामा मुर्दों के खिलाफ भी कराये मुकदमें दर्ज !

admin

Leave a Comment

URL