Atal hind
Uncategorized

नायक की तरह दुष्यंत का हुआ चौटाला में स्वागत-

नायक की तरह दुष्यंत का हुआ चौटाला में स्वागत-
चौटाला/ सिरसा।पंजाब एवं राजस्थान की सीमा से सटा हरियाणा का गांव चौटाला। रविवार को इस गांव ने एक और इतिहास लिख दिया। गांव का छोरा एवं प्रदेश का डिप्टी सीएम दुष्यंत का जो स्वागत गांव में किया गया, अब तक ऐसा कभी नहीं हुआ था। गांव की हर-गली एवं चौक पर सिर्फ दुष्यंत के ही चर्चे थे। ग्रामीणों ने अपने लाडले दुष्यंत के स्वागत में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी थी। गांव के मुख्य द्वार पर पहुंचने पर दुष्यंत पर फूल बरसाए गए। दुष्यंत को ऊंट पर बैठाया और समस्त ग्राम वासी नाचते-गाते हुए दुष्यंत को सभा स्थल तक लेकर गए। ठेठ ग्रामीण गाजे-बाजे के साथ दुष्यंत का स्वागत ऐसे किया जा रहा था कि मानो कोई नायक आया हो। गांव के मुख्य द्वार से सभा तक पहुंचने में दुष्यंत को करीब 85 मिनट लगे। महिलाओं ने जहां मंगलगीत गा कर अपने लाडले के माथे को चूम कर आशीर्वाद दिया, वहीं दूध पिला कर आगे बढऩे का हौसला दिया। एक अनुमान के अनुसार दुष्यंत को करीब 107 जगह पर रोकर दूध का गिलास पीने के लिए दिए गए।

….धरा को चूम, परदादा को नमन कर दुष्यंत ने गांव में रखे कदम

डिप्टी सीएम बनने के बाद पहली बार गांव में पहुंचे दुष्यंत ने अपने पैतृक गांव चौटाला की धरा को चूमा और फिर आसमान की तरफ देख भगवान कर शुक्रिया अदा किया। इसके बाद वे गांव में बनी पूर्व उपप्रधानमंंत्री स्व. चौ. देवीलाल की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया तो बरबस ही उनकी आंखे नम हो गई। दुष्यंत ने कुछ पल चौ. देवीलाल की प्रतिमा को निहारा और फिर नमन कर आगे बढ़ गए। इस दौरान वहां उपस्थित ग्रामीणों ने चौ. देवीलाल अमर रहे के नारे लगाए।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Leave a Comment

URL