AtalHind
जींदटॉप न्यूज़हरियाणा

ना हरयाणा सरकार ना 112 काम आया ,जीन्द विकास संगठन मौके पर पहुंचा,यात्रियों को बाहर निकाला,खाने पीने का सामान दिलाया

ना हरयाणा सरकार ना 112 काम आया ,जीन्द विकास संगठन मौके पर पहुंचा,यात्रियों को बाहर निकाला,खाने पीने का सामान दिलाया।

 

बस को निकलवाने की पूरी कोशिश कर रहे है भाई जी।….
क्या करें चुने हुए प्रतिनिधियों ने तो सारे जींद शहर ही डूबो कर रख दिया। …..
जींद के भिवानी रोड पर पिछले दो घंटे से पानी में फंसी बस को निकालना का काम जारी।……

Advertisement
चारो तरफ पानी पानी,  बीच अधर फंसी बस
जीन्द विकास संगठन मौके पर पहुंचा,
यात्रियों का हौसला बढाया,
बच्चों को खाने पीने का सामान दिलाया।
एक एक करके यात्रियों को बाहर निकाला,
बच्चों को कंधे पर बैठा बैठा कर दूसरी बस तक पहुंचाया।
जीन्द (अटल हिन्द ब्यूरो )जो काम हरयाणा सरकार और उसके सरकारी अमले को करना चाहिए था और जिस 112 नबर का ढिंढोरा हरयाणा के गृह मंत्री अनिल विज पीटते आ रहे है वक्त पड़ने पर  दूर दूर तक नज़र नहीं आये फिर क्या फायदा ऐसी सरकार और सरकारी अमले का जो आम जन को विपदा से बाहर ही ना निकाल सके जी हाँ  जीन्द में यात्रियों से भरी रोडवेज की एक बस भिवानी रोड पर 3 फीट गहरी नहर बनी सड़क के मैन होल में 3 घण्टे तक धंस कर रह गई जिसके चलते करीबन 3 घण्टे तक यात्री परेशान रहे। बस में बैठे बच्चों का तो रो रो कर बुरा हाल था। प्रशासन के सभी विभागों को सूचित करने के बाद भी किसी भी विभाग ने मौके पर आकर सुध नही ली। इतना ही नही मौके पर न ही 100 नम्बर नजर आया और न ही सरकार का नया नम्बर 112 नजर आया। ऐसे में जीन्द विकास संगठन मौके पर पहुंचा और यात्रियों का हौसला बढाया। बच्चों को खाने पीने का सामान दिलाया। एक एक करके यात्रियों को बाहर निकाला। बच्चों को कंधे पर उठाकर दुसरी बस तक पहुंचाया। जीन्द विकास संगठन के अध्यक्ष राजकुमार गोयल व अन्य पदाधिकारियों की इस काम के लिए चारों और प्रशंसा हो रही है।

जीन्द से भिवानी जा रही सरकारी रोडवेज की एक बस आज भिवानी रोड पर 3 फीट गहरी नहर बनी सड़क के एक खुले पड़े मैन होल में धंस गई। बस के ड्राईवर ने बस को निकालने की बहुत कोशिश की लेकिन बस एक तरफ से मैन होल में पूरी तरह धंस चुकी थी। बस एक तरफ से झुक गई थी और बस के चारों तरफ पानी ही पानी था। पानी ज्यादा होने की वजह से यात्री बाहर नहीं निकल पा रहे थे ऐसे में यात्री परेशान होकर रह गए। बस में बैठे बच्चों का तो और भी बुरा हाल था। कई बच्चे घबरा गए थे। आस पास के लोगों ने प्रशासन को इस घटना की सूचना दी लेकिन किसी ने भी मौके पर आकर सुध नही ली। सूचना जीन्द विकास संगठन तक पहंुची। जीन्द विकास संगठन के अध्यक्ष राजकुमार गोयल, सुनील जैन व अन्य पदाधिकारी पानी में से होते हुए मौके पर पहुंचे। यहां उन्होंने  यात्रियों से बातचीत की। उनकी हौसला अफजाई की। प्रशासन के आला अधिकारियों से बात की।

जब तक अधिकारी मौके पर नहीं आए तब तक बस में बैठे बच्चों को पानी, चिप्स और बिस्कुट दिए गए। काफी देर के बाद क्रेन मौके पर पहुंची। क्रेन के माध्यम से बस को बाहर निकालने के कई प्रयास हुए लेकिन कामयाबी नहीं मिली। ऐसे में बस में बैठे बच्चों को बाहर निकालने का प्लान बनाया गया। खुद जीन्द विकास संगठन के अध्यक्ष राजकुमार गोयल, सुनील जैन व अन्य पदाधिकारी बच्चों को अपने कंधो पर बैठाकर बाहर निकालते हुए नजर आए इस दौरान उनके बैंग इत्यादि सामान भी खुद संगठन के पदाधिकारियों के द्वारा ही निकाला गया। क्रेन के माध्यम से बस को निकालने के फिर प्रयास हुए। कई घंटों के बाद जाकर धंसी बस को बाहर निकालने में कामयाबी मिली।

जीन्द विकास संगठन के अध्यक्ष राजकुमार गोयल का कहना है कि बड़े शर्म की बात है कि 3 घण्टे तक बस धंसी रही लेकिन प्रशासन का कोई अधिकारी और कर्मचारी मौके पर नहीं पहुंचा  । न तो रोडवेज का कोई अधिकारी और कर्मचारी मौके पर पहुंचा  और न ही नगर परिषद का। सेवा सुरक्षा और सहयोग का दावा करने वाली 100 नंबर वाली पुलिस भी कहीं नजर नहीं आई। 112 नंबर के भी सरकार द्वारा खुब दावे किए गए थे लेकिन 112 नम्बर की सहायता भी कहीं नजर नहीं आई। 3 घंटे तक एक भी अधिकारी और कर्मचारी का मौके पर न पहुंचना जता रहा है कि शायद प्रशासन का जींद की जनता से कोई लेना देना नहीं रहा। चुने हुए प्रतिनिधि भी इस घटना में कही सहायता करते नजर नहीं आए। वे भी शायद लगातार कुंभकर्णी सोए हुए हैं।
Advertisement

Related posts

नूरपुर एसटीपी प्लांट  शिफ्टिंग  कहीं पावर पॉलिटिक्स का गेम तो नहीं !

atalhind

घमंडी नरेंद्र मोदी बोले 600 किसान मेरे लिए थोड़े ही मरे है –सत्यपाल मलिक

admin

शरजील इमाम ने भाषण में हिंसा करने को नहीं कहा, राजद्रोह का मामला नहीं बनता-अदालत

atalhind

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL