AtalHind
क्राइम हरियाणा

 नौकरी अथवा लोन दिलवाने के नाम पर आर्थिक शोषण करने वाले अंतरराज्यीय जालसाज गिरोह का पर्दाफाश,

 नौकरी अथवा लोन दिलवाने के नाम पर आर्थिक शोषण करने वाले अंतरराज्यीय जालसाज गिरोह का पर्दाफाश,
कैथल, 25 जून (अटल हिन्द ब्यूरो   ) हरियाणा सहित विभिन्न राज्यों के बेरोजगार युवक-युवतियों को नौकरी अथवा लोन दिलवाने के नाम पर आर्थिक शोषण करने वाले अंतरराज्यीय जालसाजी गिरोह का स्पेशल साईबर अपराध शाखा कैथल पुलिस द्वारा पर्दाफाश करते हुए उल्लेखनीय सफलता हासिल की गई है। जिसके दौरान पुलिस द्वारा नोएडा यूपी सेक्टर 6 में दबिश देकर फर्जी कॉल सेंटर की मार्फत जालसाजी रैकेट चला रहे 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। जिनके कब्जे से वारदातों में प्रयुक्त किए जा रहे 32 मोबाइल फोन तथा अन्य बोगस दस्तावेज बरामद कर लिए गये। शातिर जालसाज रैकेट के सदस्य अपने शिकार को फर्जी ज्वाइनिंग लेटर देकर विभिन्न तरीकों द्वारा बरगलाते हुए निरंतर रूप से आर्थिक शोषण करते थे। व्यापक पूछताछ के लिए सभी आरोपियों का न्यायालय से 01 जुलाई तक 7 दिन का पुलिस रिमांड हासिल कर लिया गया, जिनसे गहन पूछताछ की जा रही है।

कार्यालय पुलिस अधीक्षक में आयोजित प्रेस वार्ता दौरान एसपी लोकेंद्र सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि राकेश कुमार निवासी माता गेट कैथल की शिकायत पर थाना शहर में 07 मई को दर्ज मामले अनुसार उसने कावेरी बिजनेस सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड देहरादून, उत्तराखंड ऑनलाइन पोर्टल पर नौकरी के लिए आवेदन किया था। कंपनी ने ज्वाइनिंग के समय 30 हजार रुपए सैलरी देने की बात कही थी जिसके दौरान 10 फाइल ओपन करवाने का टारगेट दिया गया। राकेश कुमार द्वारा कंपनी की शर्त अनुसार 10 फाईले ओपन करवा दी गई, जो उसके द्वारा प्रत्येक फाइल की फीस 4100 रुपए ओनलाईन अमेजन की माध्यम से ट्रांसफर कर दी गई। इसके उपरांत कथित कंपनी द्वारा उसे कोई सैलरी नहीं दी गई तथा ना कोई लोन उपलब्ध करवाया गया और उसके द्वारा ट्रांसफर की गई नकदी उक्त फर्जी कंपनी द्वारा हडप ली गई।

एसपी ने बताया कि पुलिस द्वारा अभियोग का संजीदगी पूर्वक संज्ञान लेते हुए मामला स्पेशल साईबर अपराध शाखा कैथल पुलिस के सुपूर्द करके जल्द से जल्द अपराधियों को गिरफ्तार करने के आदेश दिए गये थे। मामले की जांच डीएसपी विवेक चौधरी की अगुवाई में स्पेशल साईबर अपराध शाखा प्रभारी इंस्पेक्टर मुकेश कुमार, पी/एसआई सुभ्रांशु, एसआई सुरेंद्र कुमार, हेड कांस्टेबल रविंद्र कुमार, एचसी कुलदीप सिंह तथा एचसी संदीप सिंह की टीम द्वारा करते हुए 23 जून की शाम नोएडा सेक्टर 6 में दबिश देकर करीब 24 वर्षीय आरोपी आसमऊ उर्फ आशु, 21 वर्षीय सलमान तथा 21 वर्षीय आवेज सभी निवासी गांव रसूलपुर औरंगाबाद जिला मेरठ उत्तर प्रदेश को काबू करके गिरफतार कर लिया गया। जिनके कब्जे से वारदातों में प्रयुक्त किए गये 32 मोबाइल फोन तथा बोगस कंपनी से संबंधित अन्य जाली दस्तावेज बरामद किए गये है।
सभी आरोपियों का वारदात में प्रयुक्त लैपटॉप, मोबाईल फोन, फर्जी कंपनी की मोहरें व दस्तावेजों की बरामदगी व अब तक कितने व्यक्तियों के साथ तथा कितने रुपए की ठगी की जा चुकी है कि जानकारी सहित व्यापक पूछताछ के लिए 01 जुलाई तक 7 दिन के लिए पुलिस रिमांड हासिल किया गया है। जिनसे गहनता पूर्वक व्यापक पूछताछ की जा रही है।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि आरोपियों द्वारा पूछताछ के दौरान कबूला गया की वे सितंबर 2020 से सेक्टर 6 नोएडा में तीन फर्जी कंपनियों कावेरी बिजनेस सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटिड, अपोलो बिजनैस सोल्युशन तथा इंटरनेशनल बिजनैस सॉल्यूशन के नाम से फर्जी कॉल सेंटर चलाये हुये थे। कंपनी मे नौकरी देने के लिये वे ऑनलाईन साईटों से डेटा उठाकर विभिन्न व्यक्तियों को कॉल करके आनलाईन पोर्टल पर नौकरी हासिल करने के लिए अप्लाई करवाते थे।
जब फोन पर बात करने वाला व्यक्ति उनकी झांसे मे आ जाता था तो वे उसे कंपनी में ज्वाइनिंग करवाकर फर्जी ज्वाइनिंग लेटर भी मेल या व्हाट्सएप के माध्यम से ऑनलाइन भेज देते, जिसके दौरान जब व्यक्ति समझता कि वह नौकरी पर है तो ये सभी आरोपी उक्त व्यक्ति को दस फाइले ओपन करवाने का टारगेट देते थे और एक फाइल की 4100 रुपए फीस ऑनलाईन हासिल कर लेते। जालसाजी पूर्वक ऐंठी गई नकदी को वे आपस में बांटकर बाद में पीड़ित व्यक्ति का फोन उठाना बंद कर देते। तथा अन्य बोगस कंपनी के नाम अपना गोरखधंधा चालू रखते हुए युवाओं को फांसने के धंधे में लिप्त रहते थे। आरोपियों द्वारा कबूला गया कि उनके द्वारा इस तरह हरियाणा सहित विभिन्न राज्यों से सैकड़ों लोगों को टारगेट बनाकर जालसाजी पूर्वक लाखों रुपए नकदी ऐंठी जा चुकी है।
आरोपियों की गिरफ्तारी बारे कैथल पुलिस द्वारा हरियाणा सहित विभिन्न राज्यों की पुलिस को सुचित कर दिया गया है।
Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

कैथल पोलिस ने एटीएम कार्ड का क्लोन बना जालसाजी करने वाले 2 शातिर अपराधी गिरफ्तार किये 

admin

पुण्डरी में दोस्त बन व्यापारी दोस्त की  अश्लील फाेटोे ली, फिर शुरू हुआ ब्लैकमेल का सिलसिला ,मामला दर्ज 

atalhind

राहुल गांधी ने कुलदीप बिश्नोई से  मुलाकात ना कर भजन लाल परिवार को नकारा 

atalhind

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL