पहला राफेल विमान हिलाल अहमद लेकर आएंगे।

पहला राफेल विमान हिलाल अहमद लेकर आएंगे।

===राजकुमार अग्रवाल  ===========

The first Rafale aircraft will be brought by Hilal Ahmed.

अधिकांश न्यूज चैनलों पर ईद पर बकरे की कुर्बानी को लेकर चर्चा हो रही है। चांद दिखने पर एक अगस्त को ईद मनाई जाएगी। कोरोना

काल में ईद पर बकरे की कुर्बानी को लेकर चैनलों पर भले ही बहस होती रहे, लेकिन इसे भारत की खूबसूरती ही कहा जाएगा कि देश की

हिफाजत में कोई नागरिक पीछे नहीं  है। भारतीय वायुसेना के जाबाज पायलट कमांडर हिलाल अहमद उन 12 पायलटों में शामिल हैं,

जिन्होंने फ्रांस में राफेल विमान उड़ानो का प्रशिक्षण लिया है। अब जब 29 जुलाई को अंबाला एयरबेस पर फ्रांस से पांच राफेल विमान पहुंचेंगे

तो पहला विमान कमोडोर हिलाल अहमद ही लैंड करवाएंगे। यानि भारत की धरती पर सबसे पहले कमोडोर हिलाल का राफेल ही उतरेगा।

सेना में भर्ती होने पर हर कैडेट अपनी मातृभूमि की रक्षा करने का संकल् लेता है। कमोडोर हिलाल ने भी ऐसेा ही संकल्प लिया है, इसलिए

देशवासियों को उनकी वीरता पर भरोसा है। कहा जा रहा है कि पांचों राफेल विमानों की तैनाती चीन और पाकिस्तान की सीमा पर की

जाएगी। यानि कमोडोर हिलाल भारत पहुंचते ही अपनी मातृभूमि की रक्षा में जुट जाएंगे। आधुनिक मिसाइलों से लैस राफेल विमान तब आ

रहे हैं, जब चीन सीमा पर तनाव बना हुआ है। राफेल भारतीय सीमा पर उडान भरते हुए ही चीन और पाकिस्तान के अंडर मिसाइल दाग

सकता है। राफेल के आने से भारतीय सैन्य ताकत बढ़ेगी। राफेल के मुकाबले का विमान चीन के भी पास नहीं है। देशवासियों को हिलाल

अहमद जैसे पायलट की जाबाजी पर गर्व है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: