पाठशाला में परिंदों का सोशल डिस्टेंस का पाठ !हो रहा है वायरल फोटो

पाठशाला में परिंदों का सोशल डिस्टेंस का पाठ !


Reading of social distance of birds in school

सोशल मीडिया पर हो रहा है वायरल फोटो

 

गांव पथरेड़ी के सरकारी स्कूल की है घटना

 

फतह सिंह उजाला
पटौदी।
 कहा गया है कि, कुछ परिंदे और जानवर, आने वाले खतरों को भांपकर पहले ही आगाह कर देते है। यह बात अक्सर नोट भी की जाती है और घटना के बाद इसकी चर्चा भी होती है। इन दिनों कोरोना कोविड 19 संक्रमण की बनी महामारी से बचाव के लिए लाॅक डाउन के साथ-साथ सोशल सहित फिजिकल डिस्टेंस की गाइड लाइन सरकार के द्वारा जनहित में जारी की गई है।

पटौदी हलके के गांव पथरेड़ी के सरकारी स्कूल में देखा गया कि, तपती दोपहरी में स्कूल परिसर के बरामदे में करीब आधा दर्जन मोर इस प्रकार से बैठे आराम कर रहे थे कि, सभी के बीच में एक बराबर  दूरी बनी हुई थी। मोर राष्ट्रीय पक्षी भी घोषित है, तो यह भी महसूस किया गया कि आज राष्ट्रीय आपदा बने काविड 19 संक्रमण के बीच में पक्षी मोर भी राष्ट्रीय धर्म निभाते सोशल डिस्टेंस मेन्टेन करने का संदेश दे रहे है। आधा दर्जन से अधिक मोर स्कूल के बरामदे में अपने पंजों को मोड़कर आरम अथवा सोने  की मुद्रा में बेफिक्री से घंटो यहीं पर ही बैठे रहे।

जो बात आम आदमी के जेहन में बारंबार बताने के बाद भी नहीं बैठ रही, कोविड 19 के संक्रमण कर सवंेदनशीलता सहित संभावित खतरें को भांप कर मोरो ने उस बात पर बिना किसी गाइड लाइन मथा संस्थान में गए ही अपने जीवन में अमल भी कर लिया। स्कूल के बरामदे में बैठे सोशल डिस्टेंस बनाये इन मोरों का फोटो गांव के ही सरपंच कपिल पुनिया के द्वारा खीेचकर सोशल मीडिया पर शेयर करके आम आदमी को जागरूक करने के साथ ही राष्ट्रीय पक्षी मोर से बहुत कुछ सीखने का भी संदेश सार्वजिक किया है। बताया गया है कि गांव पथरेड़ी के लाॅक डाउन में बंद स्कूल के बरामदे में इसी प्रकार से यहां आकर मोरों के बैठकर तपती गरमी में आराम करनें का सिलसिला बना हुआ है। इससे समाज के प्रत्येंक व्सक्ति को सीख लेनी होगी कि, कोविड 19 को हराना है तो अब सोशल डिस्टेस बनाकर रखना ही होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *