AtalHind
टॉप न्यूज़

पानीपत की तीसरी लड़ाई के आज 14 -01 -2022 को 261 साल :

panipat

 मराठा सेना के सेनापति विश्वास राव व इसके संरक्षक व पेशवा के चचेरे भाई सदाशिव राव भाऊ युद्ध में शहीद हो गए।

 

Advertisement

पानीपत की तीसरी लड़ाई के आज 14 -01 -2022  को 261 साल :

 इस युद्ध में मिली हार को अब तक नहीं भूल नहीं पाया मराठा समाज, इतना हुआ था जान-माल का नुकसान

पानीपत (Atal Hind )पानीपत की धरती पर 14 जनवरी 1761 को मराठा सेना व अफगानिस्तान के अक्रांता अहमद शाह अब्दाली की सेनाओं के बीच हुए लड़े गए युद्ध की आज 261वीं बरसी है। वहीं 18वीं शताब्दी का यह सबसे खतरनाक युद्ध था। युद्ध में मराठा व अब्दाली की सेनाओं का जान-माल का भीषण नुकसान हुआ था। युद्ध में 30 हजार मराठा शहीद हुए थे, जबकि 22 हजार पठान भी मारे गए थे। पशु धन को भी अपार क्षति हुई थी। वहीं 261 साल बाद भी मराठा समाज पानीपत की धरती पर हुई हार को अभी तक भुला नहीं पाया। महाराष्ट्र में चुनाव हो या खेल या फिर अन्य कोई क्षेत्र हार होने पर यह नहीं कहा जाता कि हार गए, कहा जाता है ये तो पानीपत हो गया। स्मरणीय है कि पानीपत की धरती पर हुए मराठाओं के अब्दाली से युद्ध में महाराष्ट्र का कोई ऐसा घर बचा होगा जिसका सदस्य युद्ध में शहीद और घायल न हुआ हो।

Advertisement

जाट सम्राट की सलाह मानी गई होती तो नहीं होता युद्ध भारतीय इतिहास के अनुसार मराठा सेना के मराठा पेशवा बाजाजी राव में राजनीतिक महत्वकांक्षा के चलते उत्तर भारत के ज्ञाता मराठा सरदारों की अनदेखी कर अपने चचेरे भाई सादशिव राव भाऊ व अपने पुत्र विश्वास राव को उत्तर भारत में अब्दाली से युद्ध करने भेजा था। वहीं भाऊ जहां दंभी प्रवृति के थे, विश्वास राव स्वयं कोई निर्णय लेने में सक्षम नहीं थे। भाऊ ने तैश में आकर महाराजा भरतपुर सूरजमल के साथ जहां संधि तोड़ी, वहीं अब्दाली से युद्ध करने के लिए गर्मी का मौसम आने तक का इंतजार नहीं किया। मराठा सेना के पास रसद नहीं थी, सेना घास फूंस खाकर काम चला रही थी।

दो मोती टूट गए, 73 स्वर्ण मुद्रा खो गई अब्दाली की सेना के साथ हुए युद्ध में मराठा सेना को जो क्षति हुई थी, इस संबंध में एक पत्र मराठा पेशवा बालाजी राव को भेजा गया था, जिसमें लिखा था कि दो मोती टूट गए, यानि पेशवा बालाजी राव के पुत्र व मराठा सेना के सेनापति विश्वास राव व इसके संरक्षक व पेशवा के चचेरे भाई सदाशिव राव भाऊ युद्ध में शहीद हो गए। 73 स्वर्णमुद्रा खो गई यानि युद्ध में 73 मराठा सरदार भी युद्ध में वीरगति को प्राप्त हुए। चांदी व तांबें का भी अपार नुकसान हुआ यानि सैनिक व पशु धन का भी युद्ध में बडी संख्या में बलिदान हुआ। दूसरी ओर, अब्दाली का भी युद्ध में भीषण नुकसान हुआ। इस युद्ध में हुई क्षति से दुखी अहमद शाह अब्दाली दिल्ली नहीं गया बल्कि पानीपत से ही सीधे अफगानिस्तान चला गया।

महाराजा भरतपुर ने दी मराठाओं को शरण युद्ध होने के बाद महाराजा भरतपुर सूरजमल ने मराठा सेना को अपने राज्य में शरण दी और घायलों का उपचार करवाया। मराठा, महिलाओं को अब्दाली की फौज के कहर से बचाया। माहौल सामान्य होने पर महाराजा सूरजमल ने मराठा सेना व महिलाओं को चांदी का एक सिक्का, भोजन व वस्त्र देकर अपनी फौज के संरक्षण में उन्हें महाराष्ट्र भिजवाया।

Advertisement

Share this story

Advertisement

Related posts

आखिर  फादर स्टेन स्वामी मर ही गए , एनआईए अदालत को कहता रहा  बीमारी के कोई ‘ठोस सबूत’ नहीं हैं

admin

बीजेपी में शुरू हुआ विवाद,यूपी  ही नहीं ,गुजरात,एमपी ,उत्तराखंड,गोवा ,और कर्नाटक तक फैला 

admin

कलायत के गाँव कुराड़ में 7 वर्षीय नाबालिग बच्ची  को जलाकर मारा,दुष्कर्म कर हत्या की आशंका

atalhind

Leave a Comment

URL