पानीपत लाठीचार्ज मामला करनाल एसपी के नेतृत्व में जांच शुरू हुई,

पानीपत लाठीचार्ज मामला .करनाल एसपी के नेतृत्व में जांच शुरू हुई,

आरोपियों के लाई डिटेक्टर टेस्ट के लिए पुलिस ने कोर्ट में डाली एप्लीकेशन

पानीपत(अटल हिन्द ब्यूरो )

Panipat lathicharge case. Investigation started under the leadership of Karnal SP,
Police put application in court for lie detector test of accused

पानीपत के बिंझौल में तीन बच्चों की मौत और फिर प्रदर्शन कर रहे लोगों पर लाठीचार्ज मामले की जांच करनाल पुलिस ने शुरू कर दी है। शनिवार को करनाल के एसपी सुरेंद्र सिंह भौरिया(SP surender भौरिया) के आदेश पर डीएसपी जगदीप दूहन व उनकी टीम जांच के लिए पहुंची। पानीपत पहुंची टीम ने तथ्य जुटाए। डीएसपी का कहना था कि उन्होंने आरोपियों के लाई डिटेक्टर टेस्ट के लिए भी कोर्ट में एप्लीकेशन दे दी है। वहीं दूसरी तरफ मृतक के परिजनों ने गृह मंत्री अनिल विज से अम्बाला में जाकर मुलाकात भी की है।
बता दें कि यह पूरा मामला हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज के पास पहुंच गया था। विज ने शुक्रवार को इसका संज्ञान लेते हुए इस मामले की जांच एसपी करनाल को सौंप दी थी। एसपी करनाल के आदेश पर पहुंचे। डीएसपी जगदीप दूहन व उनकी टीम शनिवार को पहले लघु सचिवालय पहुंचे। यहां उन्होंने इस केस से जुड़े तथ्य जुटाए और पानीपत की एसपी से मुलाकात की। इसके बाद वे बिंझौल गांव में पहुंचे, वहां उन्होंने डाई हाउस का दौरा किया,जहां बच्चे पतंग की डोर लेने गए थे। फिर नहर पर पहुंचे,जहां बच्चों के शव मिले थे। इसके बाद उन्होंने मीडिया से बातचीत की और कहा कि उन्होंने पुलिस फाइलों का अवलोकन किया और घटनास्थल पर जाकर जांच की है। इसके साथ-साथ आरोपियों का लाई डिटेक्टर टेस्ट करवाने के लिए कोर्ट में एप्लीकेशन लगा दी है। पूरे मामले की निष्पक्षता से जांच की जा रही है। किसी भी कीमत पर आरोपियों को बख्शा नहीं जाएगा।

Explain that the entire matter had reached the Haryana Home Minister Anil Vij. Vij took cognizance of it and handed over the investigation to SP Karnal. SP reached Karnal’s order. DSP Jagdeep Doohan and his team reached the First Small Secretariat on Saturday. Here he gathered the facts related to this case and met the SP of Panipat. After this he reached the village of Banjhaul, where he visited the Die House, where the children went to take the kite door. Then arrived at the canal, where the bodies of the children were found. After this, he spoke to the media and said that he visited the police files and went to the scene and investigated. Along with this, an application has been made in the court to conduct a lie detector test of the accused. The entire case is being investigated impartially. The accused will not be spared at any cost.

पूरा मामला
पानीपत के बिंझौल गांव का 10 वर्षीय वंश, 9 वर्षीय वरुण और 8 वर्षीय लक्ष्य 7 जुलाई को गांव से पतंग के लिए डोर लेने एक डाई हाउस में गए थे। आरोप है कि जब वह पतंग के लिए डोर खोज रहे थे तो डाई हाउस के मैनेजर ने उनको देख लिया। फिर उसने बच्चों की हत्या कर दी और डाई हाउस के पीछे बहने वाली माइनर में फेंक दिया। 8 जुलाई को तीनों के शव माइनर में मिले थे।

पुलिस ने भीड़ खदेड़ने के लिएवाटर कैनन का भी सहारा लिया था
इसको लेकर गुरुवार 30 जुलाई को पीड़ित अपने कश्यप समाज के लोगों के साथ सुबह ट्रैक्टर-ट्रॉलियों से लघु सचिवालय के सामने धरना-प्रदर्शन करने आए थे। उनकी मांग थी कि आरोपी गिरफ्तार किए जाएं। गुस्साए लोगों ने जीटी रोड पर दोनों ओर जाम लगा दिया। पहले पुलिस अफसरों और फिर एसडीएम ने समझाया। डीएसपी संदीप की गाड़ी का घेराव किया तो पुलिस ने रोका। धक्का-मुक्की के बाद पुलिस ने लाठियां बरसा दीं। पुलिस समाज के नेताओं को उठाकर गाड़ी में डालकर ले गई। भड़के लोगों ने पुलिस पर पथराव किया। लघु सचिवालय से लाल बत्ती तक पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को बल प्रयोग कर खदेड़ा। राहगीरों पर भी लाठियां बरसाईं। इसमें काफी संख्या में लोग घायल हो गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: