AtalHind
क्राइमगुरुग्राम

पुलिस को गुमराह कर , रची बंधक बनाकर डकैती की मनगढ़ंत कहानी

पुलिस को गुमराह कर , रची बंधक बनाकर डकैती की मनगढ़ंत कहानी

चोरी की वारदात को बंधक बना डकैती का रूप दिया गया

रखवाली के लिए लगाए कर्मचारी ड्यूटी के दौरान उस स्थान से अलग सो गए

Advertisement

मोबाईल फोन्स को स्विच ऑफ कर सिम निकाल पास ही खेत में छुपाया

अटल हिन्द /फतह सिंह उजाला
पटौदी 13 दिसंबर । मंगलवार 12 दिसंबर को बिजली विभाग के पोल/खंबे खड़े करने वाली कंपनी के एक अधिकारी ने थाना फरुखनगर, में एक लिखित शिकायत दी । जिसमें बताया गया कि 11/12. दिसंबर की रात को कुछ अज्ञात व्यक्तियों द्वारा कंपनी के समान की रखवाली के लिए लगाए गए कर्मचारियों को बंधक बनाकर लोहा सरिया व ड्यूटी पर तैनात कर्मचारियों के मोबाईल फोन लूट लिए गए। प्राप्त शिकायत पर थाना फरुखनगर में भादस की धारा 395 के तहत मामला दर्ज किया गया।

पुलिस प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया मामले की गंभीरता को देखते हुए इस केस की तफ़तीश हेतु थाना की टीम के अतिरिक्त उप-निरीक्षक अमित कुमार, प्रभारी अपराध शाखा फरुखनगर, को भी लगाया गया। इस पुलिस टीम द्वारा उपरोक्त अभियोग में जॉंच करते हुए ज्ञात हुआ कि कंपनी के सामान की रखवाली के लिए लगाए गए कर्मचारी ड्यूटी के दौरान उस स्थान से अलग सो गए थे, इसी दौरान किसी अज्ञात व्यक्तियों द्वारा सरिया व अन्य सामान चोरी करने की वारदात को अंजाम दिया गया था। सुरक्षा/रखवाली के लिए लगाए गए कर्मचारियों ने अपनी कमियों/लापरवाही को छुपाने व पुलिस को गुमराह करने के लिए बंधक बनाकर डकैती की मनगढ़ंत कहानी रची और पुलिस को झूठी शिकायत देकर डकैती से सम्बंधित धाराओं के तहत अभियोग अंकित कराया।

Advertisement

उपरोक्त घटना डकैती की नहीं बल्कि साधारण चोरी की है। पुलिस द्वारा गहन पूछताछ में कर्मचारियों ने बताया कि इनके मोबाईल फोन चोरी नहीं हुए। मोबाईल फोन्स को इन्होंने स्विच ऑफ करके तथा सिम कार्ड निकालकर पास में ही खेत में छुपा दिया था। जिनको पुलिस टीम द्वारा बरामद कर लिया गया है। उपरोक्त मामले में पुलिस को गुमराह करने के लिए झूठे तथ्य बताकर अभियोग अंकित कराने पर सुरक्षा/देखरेख करने वाले कर्मचारियों व उनका सहयोग करने वालों के विरुद्ध भी नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी।

Advertisement

Related posts

Ambala-कार ने भेड़ों को कुचला, 25 भेड़ों की मौत, एक व्यक्ति घायल

editor

हरियाणा सरकार , एचएसआईडीसी या फिर सुप्रीम कोर्ट, कब बनेगी पॉलिसी !

atalhind

फोन पर बात कर रही  थी  मां  , बेटे ने मार  डाला 

atalhind

Leave a Comment

URL