भाजपा ने किस किस को रुलाया ,रादौर में उठी बगावती चिंगारी ,श्यामसिंह राणा के अलावा कोई उम्मीदवार नहीं मंजूर 

विधायक श्यामसिंह राणा का टिकट कटने पर समर्थको ने दिखाएं बगावती तेवर, विधायक के साथ भावुक हुए समर्थक
मुख्यमंत्री का पुतला फूंका, विरोध में की नारेबाजी
राणा बोले-पार्टी के साथ रहेगें, समर्थको का गुस्सा बरकरार बोले-श्यामसिंह राणा के अलावा कोई उम्मीदवार नहीं मंजूर
रादौर, 1 अक्तूबर (रविन्द्र सैनी): विधायक श्यामसिंह राणा का रादौर से टिकट कटने के बाद उनके समर्थको में पार्टी के इस निर्णय के प्रति भारी रोष देखा जा रहा है। पार्टी के फैसले के बाद मंगलवार को माता सावित्री बाई फुले चौंक के समीप स्थित भाजपा कार्यालय में आयोजित बैठक में श्यामसिंह राणा के समर्थक भावुक दिखाई दिएं। जिन्हें देखकर विधायक राणा भी भावुक हो गएं। बाद में विधायक श्यामसिंह राणा व उनके बेटे नेपाल सिंह राणा ने समर्थको से बातचीत की। इस दौरान उन्होंने पार्टी हाईकमान के फैसले के खिलाफ न जाने के निर्देश समर्थको को दिएं। लेकिन समर्थको का गुस्सा शांत नहीं हुआ। समर्थको ने पार्टी हाईकमान व मुख्यमंत्री पर नाराजगी व्यक्त करते हुए नारेबाजी की। जिसके बाद कुछ समर्थको ने विरोध स्वरूप मुख्यमंत्री का पुतला भी फूंका और पार्टी का झंडा भी जलाया। हालांकि श्यामसिंह राणा ने सभी समर्थको को पार्टी के फैसले के साथ चलने के निर्देश तो दिएं लेकिन समर्थको का गुस्सा शांत नहीं हुआ। समर्थको ने श्यामसिंह राणा से कांग्रेस पार्टी या किसी अन्य पार्टी के अलावा आजाद उम्मीदवार के तौर पर भी चुनावी मैदान में उतरने की मांग की। कार्यकर्ताओ ने कहा कि हाईकमान का यह फैसला और प्रत्याशी कर्णदेव कांबोज उन्हें कबूल नहीं है। श्यामसिंह राणा से जुड़ा हर कार्यकर्ता कर्णदेव कांबोज का विरोध करेगा और जब वह गांव में वोट मांगने आएंगें तो उन्हें गांव में घुसने नहीं दिया जाएंगा। जिसके बाद वहां प्रत्याशी कर्णदेव कांबोज के विरोध में भी नारे लगे। इस अवसर पर विधायक श्यामसिंह राणा ने पत्रकारो से बातचीत करते हुए कहा कि पार्टी ने जो फैसला लिया है वह उन्हें मंजूर है। चुनाव तो पार्टी के सिंबल पर लड़ा जाता है। उन्होंने 5 वर्ष जनता के बीच रहकर अपना फर्ज अदा किया। लोगो ने उन्हें विधायक बनाया था इसलिएं उन्होंने उनके लिए कार्य किएं। मुख्यमंत्री को सभी कार्यकर्ताओ के बारे जानकारी है और वह किसी के साथ गलत नहीं होने देगें। आज कार्यकर्ताओ में जोश भी है और रोष भी। लेकिन यह समय अपना जोश व रोष संभाल कर रखने का है। चुनावी दौर में टिकट घोषणा के बाद भाजपा में सुनाई दे रहे बगावत के सुर एक बड़ा संदेश भी रहे रहे है। कयास लगाएं जा रहे है कि भाजपा प्रत्याशी के लिए मुश्किल भी पैदा कर सकते है। मौके पर अर्जुन पंडित, विरेन्द्र चानना, सुरेन्द्र चीमा, सुखदेव नागल, पुष्पेन्द्र गुर्जर, ऋषिपाल दोहली, राजन पासी, हैप्पी खेड़ी, अमनदीप छोटाबांस, राजकुमार घिलौर, साहब सिंह नाचरौन, मोहित राणा, राकेश रपड़ी, जरनैल सरपंच, देशराज, दिलबाग राणा, कर्मसिंह, गोपाल अलाहर इत्यादि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: