Atal hind
Uncategorized

मंगलुरु में प्रदर्शन, कवर कर रहे 30 पत्रकारों को पुलिस ने हिरासत में लिया

नागरिकता कानून के खिलाफ मंगलुरु में प्रदर्शन, कवर कर रहे 30 पत्रकारों को पुलिस ने हिरासत में लिया
मंगलुरू: नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) का उत्तर भारत ही नहीं बल्कि दक्षिण भारत में भी काफी विरोध हो रहा है. बीते गुरुवार कर्नाटक के मंगलुरु में प्रदर्शन के दौरान दो लोगों की मौत हो गई. कथित तौर पर पुलिस की गोलीबारी में दोनों की मौत हुई. अब खबर मिल रही है कि केरल के चार स्थानीय चैनल – न्यूज 24, मीडिया वन, एशियानेट और मातृभूमि केरल के पत्रकारों और क्रू मेंबर्स को मंगलुरु में रिपोर्टिंग करने से रोका गया है.

शुक्रवार सुबह मंगलुरु पुलिस कमिश्नर के दफ्तर से जारी एक बयान में कहा गया कि कुछ लोग मान्यता प्राप्त पत्रकार नहीं हैं. वह लोग किसी मीडिया संस्थान से जुड़े नहीं हैं और उनकी रिपोर्टिंग सवालों के घेरे में है. वेरिफिकेशन की कार्यवाही किए जाने के बाद उनपर कार्रवाई की जाएगी. बताते चलें कि इन चार चैनलों के पत्रकार प्रदर्शन के दौरान मारे गए लोगों के परिजनों से बातचीत कर रहे थे. इस दौरान पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी वहां आए और पत्रकारों से कहा कि वह लोग अपने मान्यता प्राप्त आईडी कार्ड दिखाएं. जिसके बाद पुलिस ने सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त आईडी कार्ड नहीं दिखा पाने पत्रकारों को हिरासत में लेकर पूछताछ की. बताया जा रहा है कि पुलिस ने पत्रकारों को धमकी भरे लहजे में भी हिदायत दी.

 

मिली जानकारी के अनुसार, इससे जुड़े एक वीडियो में एक सीनियर पुलिस ऑफिसर चैनल पर लाइव मौजूद रिपोर्टर को रोकते हुए नजर आ रहे हैं. वह रिपोर्टर से आईडी की मांग करते हैं. आईडी कार्ड दिखाए जाने के बाद पुलिस अधिकारी पत्रकार से कहते हैं, ‘यह मान्यता प्राप्त नहीं है. सरकार ने इसे जारी नहीं किया है. बाहर निकलो.’ बताया जा रहा है कि करीब 30 पत्रकारों को सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त न होने पर पुलिस ने हिरासत में लिया.

गौरतलब है कि नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में बीते गुरुवार देश के 13 प्रमुख शहरों में प्रदर्शन किया गया. लखनऊ में प्रदर्सन ने हिंसक रूप ले लिया और यहां एक शख्स की मौत हो गई. लखनऊ में धारा 144 लागू है और इंटरनेट व एसएमएस सेवाओं पर रोक लगा दी गई है. शुक्रवार को भीम आर्मी ने दिल्ली में मार्च निकालने की बात कही है. पुलिस ने राजधानी में किसी भी तरह की रैली व प्रदर्शन की इजाजत नहीं दी है.

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Leave a Comment

URL