मजदूरों से ही हुई मारपीट ,कैथल पोलिस ने गिरफ्तार भी मजदूर  को ही  किया ,  विरोध में मजदूरों ने जिला प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन किया तथा कमेटी का घेराव किया।

मजदूरों से ही हुई मारपीट ,कैथल पोलिस ने गिरफ्तार भी मजदूर  को ही  किया ,  विरोध में मजदूरों ने जिला प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन किया तथा कमेटी का घेराव किया।

The workers were beaten up, Kaithal Police arrested the worker as well, in protest, the workers demonstrated against the district administration and surrounded the committee.

 

kaithal, 3 नवम्बर (atal hind )
रविवार को अज्ञात किसानों द्वारा मजदूरों को पीटने, आढ़तियों के द्वारा सडक़ों पर धान की ढेरियां उतारने के विरोध में मजदूरों ने जिला प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन किया तथा कमेटी का घेराव किया। मजदूरों के हड़ताल पर चले जाने के विरोध में मंडी में आये किसानों ने भी सरकार व जिला प्रशासन के खिलाफ मंडी में प्रदर्शन किया। देर सांय आढ़तियों कें द्वारा तोल चालू करने पर मजदूरों ने बंद करवाना चाहा तो मजदूरों, पुलिस व मंडी के आढ़तियों में तकरार भी हुई। उसके बाद दी कैथल डीलर एसोसिएशन व मजदूरों के साथ हुई बातचीत में हड़ताल समाप्त की गई।


प्रदर्शन करनेवाले मजदूरों ने बताया की मंडी के आढ़ती सडक़ों पर धान उतरवाते है और उनको लदान के समय परेशानी उठानी पड़ती है। जिसको लेकर उन्होंने मार्केट कमेटी, जिला प्रशासन व मंडी के प्रधान ने आस वासन दिया था कि वे आढ़तियों को सडक़ों पर धान की ढेरियां डालने से रोकेंगे। मंडी में 5 बजे से 11 बजे तक किसानों की ट्रालियां नही आने दी जायेगी, उनको बाहर ही पुलिस के कर्मचारी रोक कर रखेंगे। उन्होंने कहा की गत रात्रि पुलिस के कर्मचारियों के द्वारा किसानों से कुछ नाजायज रुपये लेकर ट्रालियों को छोड़ दिया और ट्रालियां मंडी में प्रवेश करने लगी। उन्होंने बताया की मंडी के अशोका गेट पर कुछ किसानों ने शराब के नशे में अपनी ट्रालियां मंडी में ले जाने के लिये उनको लदान करने से रोका और लदान करने वाले मजदूरों व मुंशी के साथ मारपीट की। वे दो पुलिस कर्मचारियों को बुलाकर भी लाये की किसानों को लड़ाई करने से रोके, परन्तु उन्होंने साफ मना कर दिया। आज उन्होंने मार्केट कमेटी के अधिकारियों से सडक़ों पर धान गेरने वाले आढ़तियों के चालान काटने की मांग रखी। जिस पर कमेटी के अधिकारियों ने कहा की हम चालान नही काटेंगे, परन्तु मुनादी करवा देंगे कि कोई आढ़ती सडक़ों पर धान नही डालेगा। प्रदर्शन की सुचना पाकर नई अनाज मंडी चौंकी प्रभारी रणवीर भी कमेटी में आ गया। उन्होंने बताया की चौंकी प्रभारी ने कमेटी में उनको बात करते समय धमकाया। जिस पर मजदूरों ने मंडी में हड़ताल की काल कर दी। देखते ही देखते मंडी में तुल रहे किसानों के धान को बीच में ही रोक दिया गया। उसके बाद दोपहर बाद किसानों ने भी सरकार, जिला प्रशासन तथा मार्केट कमेटी के खिलाफ प्रदर्शन किया। किसानों ने आरोप लगाया की गत सप्ताह हड़ताल हुई और कल मंडी बंद थी। आज फिर हड़ताल हो गई। फसल बिकने के बाद उनकी फसल नही तुल रही। उनको अपना घरबार छोडक़र मंडी में रातें गुजारनी पड़ रही है। कमेटी के चेयरमैन राजपाल तंवर ने उनको समझा बुझा कर भेज दिया गया।


देर सांय मार्केट कमेटी में मामले को सुलझाने के लिये नायब तहसील दार दिलावर सिंह आये हुये थे और कुछ आढ़तियों ने किसानों की फसल को तुलवाना शुरू किया तो मजदूरों ने रोक दिया। इस पर पुलिस प्रशासन, आढ़ती व मजदूर की आपस में कुछ कहा सुनी हुई और पुलिस सुलतान सिंह को मंडी से पकडक़र मार्केट कमेटी ले आई और उसको बताया की जिला प्रशासन ने मजदूरों की सारी मांगे मान ली है। किसी ने मजदूरों को बताया की उनके एक आदमी को पुलिस ने पकड़ लिया है तो मंडी के सैकड़ों मजदूर कमेटी में आये। इसी के साथ जिला मंडी प्रधान अश्वनी शोरेवाला ने कमेटी में आकर मजदूर सुलतान सिंह मंडी में भेज दिया। अश्वनी शोरेवाला ने बताया की उनकी एसोसिएशन व मजदूरों के बीच समझौता हो गया है। मजदूर जो माल अब तुलवाना चाहेंगे तुलवाना सकते है, बाकी का सुबह तुल जायेगा। यह मजदूरों की मर्जी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: