AtalHind
टॉप न्यूज़

मनोहर सरकार के नौकरी विभाग में गोलमाल का RTI से खुलासा हरियाणा लोक सेवा आयोग में कब कौन डिप्टी सेक्रेटरी रहा:

HPSC

HPSC में सचिवालय सेवा के अधिकारी के लिए बनाया था डिप्टी सेक्रेटरी का पद, परंतु तैनात होते रहे HCS

मनोहर सरकार के नौकरी विभाग में  गोलमाल का RTI से खुलासा हरियाणा लोक सेवा आयोग में कब कौन डिप्टी सेक्रेटरी रहा: :

Advertisement

HPSC में सचिवालय सेवा के अधिकारी के लिए बनाया था डिप्टी सेक्रेटरी का पद, परंतु तैनात होते रहे HCS

hpsc

चंडीगढ़(अटल हिन्द ब्यूरो ) हरियाणा लोक सेवा आयोग ( hpsc ) में गत माह 17 नवंबर तक डिप्टी सेक्रेटरी ( उप सचिव ) के पद पर तैनात रहे 2016 बैच के एचसीएस Hcs ( हरियाणा सिविल सेवा ) अधिकारी अनिल नागर ( Anil Nagar ) जिन्हें 18 नवंबर से तीन सप्ताह तक निलंबित ( Suspend ) रखने के बाद इसी माह 7 दिसंबर को हरियाणा सरकार के मुख्य सचिव संजीव कौशल ( Chief Secretary Sanjeev Kaushal ) द्वारा जारी आदेश से प्रदेश की सरकारी सेवा से ही बर्खास्त कर दिया गया है। वह आयोग में जिस पर पर तैनात थे उसे इसी वर्ष 8 जून को ही स्थायी तौर पर एचसीएस अधिकारी हेतु प्रदेश के तत्कालीन मुख्य सचिव विजय वर्धन द्वारा स्वीकृत किया गया था।यह खुलासा आयोग द्वारा एक आरटीआई ( Rti ) आवेदन में गए गए जवाब से हुआ है। पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ( Punjab and Haryana High Court ) के एडवोकेट हेमंत कुमार ने इसी माह 1 दिसंबर को एचपीएससी में एक आरटीआई याचिका दायर कर दो बिंदुओं पर जानकारी मांगी थी।

Advertisement

पहले बिंदु में आयोग में डिप्टी सेक्रेटरी के पद के सृजन करने बारे और उसकी वर्तमान स्थिति बारे जांनकारी मांगी गयी जिस पद पर बीते कई वर्षों से एचसीएस अधिकारी ( Hcs Officeer तैनात किए जा रहे हैं। हालांकि एचपीएससी द्वारा वर्ष 1997 में अपने कार्यालय हेतु बनाए गए ग्रुप ए सेवा नियमो में डिप्टी सेक्रेटरी के पद का कोई उल्लेख ही नहीं है।दूसरे बिंदु में आज तक आयोग में डिप्टी सेक्रेटरी के पद पर तैनात सभी एचसीएस अधिकारियों के नाम और उनके आयोग में इस पद पर कार्यकाल सम्बन्धी सूचना मांगी गई। एचपीएससी के अधीक्षक एवं राज्य जन सूचना अधिकारी ( एसपीआईओ ) द्वारा 8 दिसंबर को उक्त आरटीआई के विषय में दिए जवाब में लिखा गया है कि हरियाणा सकरार द्वारा 21 फरवरी 2014 को आयोग में डिप्टी सेक्रेटरी का टेम्परेरी (अस्थायी ) पद स्वीकृत किया गया था। प्रदेश के तत्कालीन मुख्य सचिव एससी चौधरी द्वारा उक्त तारिख को जारी एक आदेश में उल्लेख किया गया है कि आयोग में डिप्टी/अंडर सेक्रेटरी का एक अस्थायी पद एचएसएस-1 (हरियाणा सेक्रेटेरिएट सर्विस- 1 ) के मौजूदा या रिटायर्ड अधिकारियों हेतु स्वीकृत किया जाता है।ज्ञात रहे कि एचएसएस-1 में हरियाणा सचिवालय सेवा में अंडर सेक्रेटरी ( अवर सचिव ) और डिप्टी सेक्रेटरी (उप सचिव ) के पद पर कार्यरत हरियाणा सचिवालय सेवा के ग्रुप ए अर्थात क्लास वन अधिकारी होते हैं जो एचसीएस अधिकारियों से भिन्न होते हैं।हालांकि आज से छः महीने पहले 8 जून 2021 को प्रदेश के तत्कालीन मुख्य सचिव, विजय वर्धन द्वारा इस सम्बन्ध में जारी आदेश द्वारा एचपीएससी में डिप्टी सेक्रेटरी के अस्थायी पद को एचसीएस अधिकारी हेतु स्थायी तौर पर स्वीकृत किया गया।

हेमंत ने बताया कि इस प्रकार आयोग द्वारा आरटीआई जवाब से स्पष्ट हो जाता है कि हालांकि फरवरी, 2014 में भूपेंद्र हुड्डा सरकार ( Bhupinder hooda Government ) के दौरान एचपीएससी में डिप्टी/अंडर सेक्रेटरी का अस्थायी पद हरियाणा सचिवालय सेवा- क्लास वन के सेवा में मौजूद या रिटायर्ड अधिकारियों हेतु बनाया गया है जबकि उस पद पर आज तक एचएसएस-1 के स्थान पर एचसीएस अधिकारियों की ही तैनाती होती रही है एवं छः माह पूर्व ही जून, 2021 में उपरोक्त डिप्टी सेक्रेटरी के पद को एचसीएस हेतु स्थायी तौर पर स्वीकृत किया गया। हालांकि आज तक इस पद को हरियाणा सरकार द्वारा एचसीएस कैडर में शामिल पदों की सूची में शामिल ही नहीं किया गया है।

दूसरे बिंदु के सम्बन्ध में आयोग द्वारा हेमंत को सूचना दी गई कि आयोग में सर्वप्रथम 21 फरवरी 2014 से 7 जुलाई 2015 तक अमरजीत सिंह, एचसीएस बतौर डिप्टी सेक्रेटरी तैनात रहे। उनके बाद करीब सवा वर्ष यह पद रिक्त रहा और 2 नवंबर 2016 से 10 जनवरी 2019 तक मनीष कुमार लोहान, एचसीएस उक्त पद पर रहे। उसके बाद 24 जनवरी 2019 से 3 जून 2019 तक एचसीएस अधिकारी नरहरि सिंह बांगर ( वर्तमान में आईएएस अधिकारी ) इस पद पर तैनात रहे। 3 जून 2019 से 10 जून 2019 तक योगेश कुमार मेहता, एचसीएस और 10 जून 2019 से 23 फरवरी 2021 तक प्रदुमन सिंह, एचसीएस और 1 मार्च 2021 से 17 नवंबर 2021 तक अनिल नागर, एचसीएस इस पद पर तैनात रहे। गत माह 18 नवंबर से एचपीएससी में डिप्टी सेक्रेटरी का पद रिक्त है।

Advertisement

 

RTI से खुलासा : HPSC में सचिवालय सेवा के अधिकारी के लिए बनाया था डिप्टी सेक्रेटरी का पद, परंतु तैनात होते रहे HCS

चंडीगढ़() हरियाणा लोक सेवा आयोग ( hpsc ) में गत माह 17 नवंबर तक डिप्टी सेक्रेटरी ( उप सचिव ) के पद पर तैनात रहे 2016 बैच के एचसीएस Hcs ( हरियाणा सिविल सेवा ) अधिकारी अनिल नागर ( Anil Nagar ) जिन्हें 18 नवंबर से तीन सप्ताह तक निलंबित ( Suspend ) रखने के बाद इसी माह 7 दिसंबर को हरियाणा सरकार के मुख्य सचिव संजीव कौशल ( Chief Secretary Sanjeev Kaushal ) द्वारा जारी आदेश से प्रदेश की सरकारी सेवा से ही बर्खास्त कर दिया गया है। वह आयोग में जिस पर पर तैनात थे उसे इसी वर्ष 8 जून को ही स्थायी तौर पर एचसीएस अधिकारी हेतु प्रदेश के तत्कालीन मुख्य सचिव विजय वर्धन द्वारा स्वीकृत किया गया था।यह खुलासा आयोग द्वारा एक आरटीआई ( Rti ) आवेदन में गए गए जवाब से हुआ है। पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ( Punjab and Haryana High Court ) के एडवोकेट हेमंत कुमार ने इसी माह 1 दिसंबर को एचपीएससी में एक आरटीआई याचिका दायर कर दो बिंदुओं पर जानकारी मांगी थी।

Advertisement

पहले बिंदु में आयोग में डिप्टी सेक्रेटरी के पद के सृजन करने बारे और उसकी वर्तमान स्थिति बारे जांनकारी मांगी गयी जिस पद पर बीते कई वर्षों से एचसीएस अधिकारी ( Hcs Officeer तैनात किए जा रहे हैं। हालांकि एचपीएससी द्वारा वर्ष 1997 में अपने कार्यालय हेतु बनाए गए ग्रुप ए सेवा नियमो में डिप्टी सेक्रेटरी के पद का कोई उल्लेख ही नहीं है।दूसरे बिंदु में आज तक आयोग में डिप्टी सेक्रेटरी के पद पर तैनात सभी एचसीएस अधिकारियों के नाम और उनके आयोग में इस पद पर कार्यकाल सम्बन्धी सूचना मांगी गई। एचपीएससी के अधीक्षक एवं राज्य जन सूचना अधिकारी ( एसपीआईओ ) द्वारा 8 दिसंबर को उक्त आरटीआई के विषय में दिए जवाब में लिखा गया है कि हरियाणा सकरार द्वारा 21 फरवरी 2014 को आयोग में डिप्टी सेक्रेटरी का टेम्परेरी (अस्थायी ) पद स्वीकृत किया गया था। प्रदेश के तत्कालीन मुख्य सचिव एससी चौधरी द्वारा उक्त तारिख को जारी एक आदेश में उल्लेख किया गया है कि आयोग में डिप्टी/अंडर सेक्रेटरी का एक अस्थायी पद एचएसएस-1 (हरियाणा सेक्रेटेरिएट सर्विस- 1 ) के मौजूदा या रिटायर्ड अधिकारियों हेतु स्वीकृत किया जाता है।ज्ञात रहे कि एचएसएस-1 में हरियाणा सचिवालय सेवा में अंडर सेक्रेटरी ( अवर सचिव ) और डिप्टी सेक्रेटरी (उप सचिव ) के पद पर कार्यरत हरियाणा सचिवालय सेवा के ग्रुप ए अर्थात क्लास वन अधिकारी होते हैं जो एचसीएस अधिकारियों से भिन्न होते हैं।हालांकि आज से छः महीने पहले 8 जून 2021 को प्रदेश के तत्कालीन मुख्य सचिव, विजय वर्धन द्वारा इस सम्बन्ध में जारी आदेश द्वारा एचपीएससी में डिप्टी सेक्रेटरी के अस्थायी पद को एचसीएस अधिकारी हेतु स्थायी तौर पर स्वीकृत किया गया।

हेमंत ने बताया कि इस प्रकार आयोग द्वारा आरटीआई जवाब से स्पष्ट हो जाता है कि हालांकि फरवरी, 2014 में भूपेंद्र हुड्डा सरकार ( Bhupinder hooda Government ) के दौरान एचपीएससी में डिप्टी/अंडर सेक्रेटरी का अस्थायी पद हरियाणा सचिवालय सेवा- क्लास वन के सेवा में मौजूद या रिटायर्ड अधिकारियों हेतु बनाया गया है जबकि उस पद पर आज तक एचएसएस-1 के स्थान पर एचसीएस अधिकारियों की ही तैनाती होती रही है एवं छः माह पूर्व ही जून, 2021 में उपरोक्त डिप्टी सेक्रेटरी के पद को एचसीएस हेतु स्थायी तौर पर स्वीकृत किया गया। हालांकि आज तक इस पद को हरियाणा सरकार द्वारा एचसीएस कैडर में शामिल पदों की सूची में शामिल ही नहीं किया गया है।

हरियाणा लोक सेवा आयोग में कब कौन डिप्टी सेक्रेटरी रहादूसरे बिंदु के सम्बन्ध में आयोग द्वारा हेमंत को सूचना दी गई कि आयोग में सर्वप्रथम 21 फरवरी 2014 से 7 जुलाई 2015 तक अमरजीत सिंह, एचसीएस बतौर डिप्टी सेक्रेटरी तैनात रहे। उनके बाद करीब सवा वर्ष यह पद रिक्त रहा और 2 नवंबर 2016 से 10 जनवरी 2019 तक मनीष कुमार लोहान, एचसीएस उक्त पद पर रहे। उसके बाद 24 जनवरी 2019 से 3 जून 2019 तक एचसीएस अधिकारी नरहरि सिंह बांगर ( वर्तमान में आईएएस अधिकारी ) इस पद पर तैनात रहे। 3 जून 2019 से 10 जून 2019 तक योगेश कुमार मेहता, एचसीएस और 10 जून 2019 से 23 फरवरी 2021 तक प्रदुमन सिंह, एचसीएस और 1 मार्च 2021 से 17 नवंबर 2021 तक अनिल नागर, एचसीएस इस पद पर तैनात रहे। गत माह 18 नवंबर से एचपीएससी में डिप्टी सेक्रेटरी का पद रिक्त है।

Advertisement

 

Share this story

Advertisement
Advertisement

Related posts

पब्लिक है और पब्लिक सब कुछ समझती भी है

atalhind

भारत की पुलिस कितने लोगों जान से मारती होगी ? ,जैसे पीलीभीत में 10 सिखों को सरेआम मार दिया था

atalhind

हरियाणा के पटौदी में सौतेले बाप ने दो वर्ष की मासूम से किया दुष्कर्म

atalhind

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL