Atal hind
टॉप न्यूज़ हेल्थ

माइग्रेन (आधे सिर का दर्द)*लक्षण,कारण और उपचार*

माइग्रेन (आधे सिर का दर्द)*लक्षण,कारण और उपचार*
*************************
*लक्षण* :-
    सिर के आधे हिस्से में दर्द होता है,कभी बांए तो कभी दांए तरफ होता है।यह कुछ घंटे से लेकर कुछ दिन तक भी रह सकता है।माइग्रेन का दौरा महीने में एक बार से कई बार पढ़ सकता है। सर दर्द के समय कुछ लोगों को (बावन)उल्टी की इच्छा होना,मन चिड़चिड़ापन  होता है। माइग्रेन अधिकांशतः नियमित समय पर होता है। इस स्थिति में अधिक  रोशनी और शोर शराबा अच्छा नहीं लगता है।धूप में जाने से भी सर दर्द हो सकता है।
*कारण* :-
  माइग्रेन का सबसे बड़ा कारण स्ट्रेस (तनाव) जंक फूड, गलत खानपान, चाय, कॉफी बार -बार पीना, पेट साफ नही होना,
अधिक  गैस बनना, पुराना कब्ज, हार्मोनल असंतुलन होना। शारीरिक एवं मानसिक तनाव, अधिक औषधियों का सेवन, शरीर में पोषक तत्वों की कमी, मादक पदार्थों का अत्यधिक सेवन, लिवर में खराबी, उचित श्रम का अभाव,नजला, जुकाम,रहना।
 *उपचार*:-
   प्रतिदिन सुबह -सांय तुलसी  पत्ते का रस, शहद के साथ ले। दूब घास का रस ले,पीपल के कोमल पत्तो को चबाकर रस ले।नाक से भाप ले।गर्म पाद स्नान (हॉट फुटबाथ )ले ।
*रसाहार*:-
 गाजर, चुकंदर, ककड़ी, पत्ता गोभी रस,खीरा, नारियल पानी, तरबूज का रस पीए।
*अपक्काहार*:-
  फल, सलाद,अंकुरित धनिया, पुदीना, मैथी,अंजीर,आंवला, नींबू ,संतरा,अनार ,अमरूद ले।
 रोज सुबह खाली पेट एक सेव ले।
 माइग्रेन की सबसे लाभकारी औषधि देसी गाय का घी है,घी को हल्का गर्म करके सोते समय दोनों नासाछिद्र में एक-एक बूंद डालें। जिस साइड में दर्द है उस साइड का ब्रीदिंग करें ।डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज करें ।अंगूर का जूस ले, सोयाबीन की रोटी खाए, सरसों के तेल की बोतल का ढक्कन खोल कर जिस साइड दर्द है, उसी साइड में बोतल का मुह रख कर स्वास खींचे।
 दूध जलेबी ले, चाय कॉफी नही ले ।सुबह का पहला आहार मीठा होना चाहिए। मीठा दलिया सुबह ले सकते हैं।ऑट्स के साथ काजू, किसमिस और दूध ले सकते हैं। बालासन में लेट कर डीप ब्रीदिंग करें,दोनों साइड लेटकर बारी- बारी से करें।गहरी सांस तालु तक ले जाए और धीरे-धीरे बाहर  निकाले।
 चेस्ट ब्रीदिंग( छाती में स्वास भरना और बाहर निकालना),  बालासन में लेट कर भ्राभरी प्राणायाम दोनों साइड करना है। मुंह बंद कर के अंदर ही अंदर ‘म’ बोलना है।बादाम तेल की मालिश करें सुबह-सांय 2- 2 बून्द तेल की नासिका में डाल सकते हैं।संतरे के छिलके का रस उस नासाछिद्र में  दो बून्द डाले जिस और दर्द नहीं हो। छोटी पीपली का चूर्ण शहद के साथ चाटना लाभदायक होता है। सुबह खाली पेट पक्का केला मैस करके उसमें छोटी इलायची और देशी गाय का घी डालकर ले,इससे पीत शांत होता है और दर्द कम होता है। 7 नग किशोरी बादाम (छोटे बादाम)व 1 नग अखरोट रात्रि में मिट्टी के बर्तन में भिगोदो, सुबह छिलका उतारकर ओखली में कूट ले उसमें ठंडा दूध थोड़ा -थोड़ा डालकर 10 मिनिट तक घोट कर एक कप दूध सुबह खाली पेट पीना है।घोट कर पीने से इसकी गुणवत्ता बढ़ जाती है। इसके बाद डेड घंटे तक  कुछ नहीं खाना है।रात को सोने से पहले एक बार और लेना है।
 *षट्कर्म क्रिया*:-
 जलनेति-प्रति दिन,सूत्रनेति-  कुछ दिनों तक प्रतिदिन फिर सप्ताह में दो या तीन दिन करे, कुंञल -कुछ दिनों तक प्रतिदिन फिर, सप्ताह में दो से तीन दिन, शंख प्रक्षालन – महीने में एक बार, लघु शंख प्रक्षालन- सप्ताह में एक बार करे।जलनेति करने से तीस प्रतिशत माइग्रेन ठीक हो जाता है ।
2.*सूक्ष्म व्यायाम*:-
(A) बुद्धि तथा  ध्रीति शक्ति विकासक  (ध्यान चोटी पर लगाएं) गर्दन पीछे करके आसमान की और देखे व 25 बार डीप ब्रीदिंग करे।
(B)स्मरण शक्ति विकासक – चार फुट की दूरी पर देखकर 25 बार डीप ब्रीदिंग करे और ध्यान तालु
पर रखे।
(C) मेधा शक्ति विकासक – दोनों पैर आपस में मिलाकर कंधा सीधा रखें, आंखें बंद करके ठोडी गले पर लगाकर खड़े हो जाएं। गले के पीछे मेधा चक्र पर ध्यान रखें ।पच्चीस बार डीप ब्रीदिंग
करें।
3.*आसन*:- पवनमुक्तासन,सूर्य नमस्कार, शशांकासन, आगे- पीछे वाली आसन,सर्वांगासन,  शीर्षासन, शवासन करे।
 4.*प्राणायाम*:-
 भ्रष्तिका धीरे -धीरे करे।कपाल भांति,नाड़ी शोधन,शीतली शीतकारी,चंद्रभेदी,भ्रामरी,
ओम चेंटिंग करे।
5.*योगनिद्रा*:-
 योगनिद्रा सुबह-सांय पंद्रह मिनिट करें,मेडिटेशन पंद्रह मिनट करें।
6.ब्रेन का भोजन शुद्ध हवा है। 7.समय-समय पर कृतिम जीवन से दूर कुछ समय प्रकृति के साथ बिताए।
8. जल्दी सोएं और जल्दी उठे।देर तक सोए रहने से आप स्फूर्ति व स्वास्थ्य के आनंद से वंचित रहेंगे तथा दिन भर सर का भारी पन महसूस होगा।
9. माइग्रेन में बाँया स्वर चलाना चाहिए, बाँया स्वर चलाने के लिए दांए नासाछिद्र को पंद्रह मिनट के लिए रुई से बंद कर दे।
10.सर्दी जुखाम में बाँया स्वर नहीं चलाना चाहिए ।
सुशीला बिस्वास
योगाचार्य, प्राकृतिक चिकित्सक व रिफ्लेक्सोलाजिस्ट,
निदेशक,योग सेवा संस्थान
न्यू जानकी पूरी,नई दिल्ली।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

हरियाणा के मंत्री ओपी यादव पर दर्ज एफआइआर की जांच शुरू एसपी से हुआ था मंत्री का विवाद

admin

प्रशांत भूषण दोषी करार  जुर्म की सज़ा का एलान होगा 20   अगस्त को 

admin

enjoy-सेक्स में ज़्यादा इंजॉय के लिए लोग ग्लिटर कैप्सूल का इस्तेमाल

Sarvekash Aggarwal

Leave a Comment

URL