AtalHind
उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय

मानवाधिकार उल्लंघन में बीजेपी के योगी का यूपी शीर्ष पर- मोदी सरकार

मानवाधिकार उल्लंघन में बीजेपी के योगी का यूपी  शीर्ष पर- मोदी सरकार नई दिल्लीः बीते तीन वित्त वर्षों से 31 अक्टूबर 2021 तक राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) द्वारा सालाना तौर पर दर्ज किए गए लगभग 40 फीसदी मानवाधिकार उल्लंघन के मामले अकेले उत्तर प्रदेश से हैं.

द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक, केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा आठ दिसंबर को राज्यसभा में पेश किए गए आंकड़ों से यह जानकारी प्राप्त हुई.

Advertisement

दरअसल डीएमके सांसद एम. षणमुगम ने सदन में पूछा था कि क्या देश में मानवाधिकार उल्लंघन के मामले बढ़े हैं. इस पर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने कहा कि एनएचआरसी ने मानवाधिकार उल्लंघनों के संबंध में जानकारी इकट्ठा की है और इनकी जांच की.राय ने अपने जवाब में एनएचआरसी द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़े भी पेश किए.

एनएचआरसी द्वारा दर्ज मानवाधिकार उल्लंघन के कुल मामले 2018-2019 में 89,584 से घटकर 2019-2020 में 76,628 और 2020-2021 में यह संख्या घटकर 74,968 हो गई.

आंकड़ों के मुताबिक, 2021-2022 से 31 अक्टूबर तक 64,170 मामले दर्ज हुए थे.

Advertisement

कुल मामलों में से उत्तर प्रदेश में 2018-2019 में 41,947, 2019-2020 में 32,693 मामले, 2020-2021 में 30,164 मामले और 2021-31 अक्टूबर 2022 तक 24,242 मामले दर्ज हुए.

वहीं, 2018-2019 में दिल्ली में 6,562 मामले, 2019-2020 में 5,842 मामले, 20202-2021 में 6,067 मामले और 31 अक्टूबर 2021 तक 4,972 मामले दर्ज किए गए.

Advertisement
Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

स्वायत्त संस्था की आपत्ति के बाद भी केंद्र ने रामदेव को शिक्षा बोर्ड की मंज़ूरी दी: रिपोर्ट

admin

आरटीआई कार्यकर्ता और पत्रकार बुद्धिनाथ झा उर्फ ​​अविनाश झाकी बर्बर हत्या

admin

शिक्षा में मामले में भारत अब्बल ,सिर्फ़ आठ प्रतिशत ग्रामीण बच्चे नियमित ऑनलाइन क्लास ले पा रहे हैं: रिपोर्ट,

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL