Atal hind
Uncategorized

माज़ा ने मैसूरू में उपभोक्ताओं को ‘मैंगोलिशियस मोमेंट’ प्रदान कर बढ़ाया दशहरे का जोश

माज़ा ने मैसूरू में उपभोक्ताओं को ‘मैंगोलिशियस मोमेंट’ प्रदान कर बढ़ाया दशहरे का जोश

मैसूरू में दशहरा बड़े अलग तरीके से मनाया जाता है। तरह-तरह के भव्य समारोह, मेले और सांस्कृतिक प्रस्तुतियाँ त्यौहारी मौसम की इस मस्ती और रोमांच को दोगुना कर देती हैं। इस साल, शहर में भारत में सबसे पसंदीदा और आइकॉनिक मैंगो बेवरेज में से एक माज़ा के साथ यह त्‍योहार और मीठा हो गया। दस दिन के उत्‍सव के दौरान उपभोक्ताओं ने रोमांचक कियोस्क, संवादपरक खेलों और सोशल मीडिया से जुड़ी पहलों के माध्यम से माज़ा के मैंगोलिशियस मोमेंट्स का खूब आनंद उठाया।

माज़ा ने शहर के प्रसिद्ध फ्लॉवर शो के आगंतुकों को सुंदर दृश्य दिखाने के लिये महल की थीम का कियोस्क बनाया था, जहाँ उपभोक्ताओं ने रियायती कीमत में इस मैंगो बेवेरज का मजा लिया। कियोस्क के भीतर बने फोटो बूथ में उपभोक्ता रोचक सेल्फी ले सकते थे। इसके अलावा, चमकीले पीले रंग के माज़ा वाहनों ने मैसूरू के रामनगर, चन्नापटना, मद्दुर, मांड्या और श्रीरंगपटना कस्बों की यात्रा की और उपभोक्ताओं को संवादपरक खेलों तथा सोशल मीडिया की गतिविधियों से जोड़ा। यही नहीं, माज़ा, कोका-कोला और किनले ने शहर में ब्राण्डेड गुब्बारों और द्वारों से सजावट भी की थी।

त्यौहार से जुड़ी पहलों पर टिप्पणी करते हुए कोका-कोला इंडिया में ज्यूस कैटेगरी के डायरेक्‍ट-मार्केटिंग श्रीदीप केसवन ने कहा, ‘‘माज़ा हमेशा से भारत में त्यौहारों का प्रमुख भाग रहा है और यह जश्न की मिठास तथा उल्लास को बढ़ा देता है। माज़ा के शुद्ध आम और मैसूरू की समृद्धि संस्कृति का संयोजन करते हुए, हमने खोजपरक कियोस्क और रोमांचक इवेंट तैयार किये, ताकि त्यौहारी जोश को जीवंत किया जा सके। हम यह देखकर रोमांचित थे कि सभी प्रकार के उपभोक्ताओं ने त्‍योहारी उत्‍सव के दौरान “मैंगोलिशियस मोमेंट्स” का आनंद उठाया।’’

वर्ष 2023 तक 1 बिलियन अमेरिकी डॉलर का घरेलू मैंगो जूस ब्रैंड बनने के सफर में अगला कदम उठाते हुए, माज़ा एक मास्टर ब्रांड में तब्दील हो रहा है। यह अलग-अलग मौकों के लिए अलग-अलग स्वाद के मैंगो जूस बाजार में पेश कर रहा है। 1970 में लॉन्च किए गए माज़ा की विरासत काफी आकर्षक रही है। यह पिछले 42 सालों से भी अधिक समय से देश का सबसे पसंदीदा मैंगो जूस बना हुआ है।

कोका-कोला इंडिया के विषय में
कोका-कोला इंडिया देश की अग्रणी पेय कंपनियों में से एक है, जो उपभोक्ताओं के लिये स्वास्थ्यवर्द्धक, सुरक्षित, उच्च गुणवत्ता के, तरोताजा करने वाले पेय विकल्पों की पेशकश करती है। वर्ष 1993 में अपने पुनःप्रवेश के बाद से कंपनी पेय उत्पादों से उपभोक्ताओं को तरोताजा कर रही है, जैसे कोका-कोला, कोका-कोला ज़ीरो, डाइट कोक, थम्स अप, थम्स अप चार्ज्ड, थम्स अप चार्ज्ड नो शुगर, फैन्टा, लिम्का, स्प्राइट, माज़ा, वियो “फ्लेवर्ड मिल्क”, मिनट मेड रेन्ज ऑफ ज्यूसेस, मिनट मेड स्मूथी और मिनट मेड विटिंगो, हॉट और कोल्ड चाय और कॉफी विकल्‍पों की जॉर्जिया श्रृंखला, एक्वैरियस और एक्वैरियस ग्लूकोचार्ज, श्वीप्‍स, स्मार्ट वाटर, किनले और बोनएक्वा पैकेज्ड ड्रिंकिंग वाटर और किनले क्लब सोडा। कंपनी अपने खुद के बॉटलिंग परिचालन और अन्य बॉटलिंग पार्टनर्स के साथ, करीब 2.6 मिलियन रिटेल दुकानों के मजबूत नेटवर्क के माध्यम से करोड़ों उपभोक्ताओं के जीवन का हिस्सा बन चुकी है, जिसकी प्रति सेकंड 500 सर्विंग्स की दर है। इसके ब्राण्ड देश में सबसे चहेते और सबसे अधिक बिकने वाले पेयों में शुमार हैं- थम्स अप और स्प्राइट, सबसे अधिक बिकने वाले दो स्पार्कलिंग पेय हैं।

कोका-कोला इंडिया का सिस्टम 25,000 लोगों को प्रत्यक्ष और 150,000 से अधिक लोगों को अप्रत्यक्ष रोजगार देता है। भारत में कोका-कोला सिस्टम सामुदायिक पहलों के माध्यम से स्थायी समुदाय निर्मित करने में छोटा-सा योगदान दे रहा है, जैसे सपोर्ट माय स्‍कूल, वीर, परिवर्तन, और उन्नति और कंपनी पर्यावरण पर अपने द्वारा होने वाले प्रभाव को स्वयं कम करती है।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Leave a Comment

URL