मेवात में हिंदूओं (Hindus)पर हमले व उत्पीड़न असहनीय

मेवात में हिंदूओं पर हमले व उत्पीड़न असहनीय

हिंसक घटनाओं के विरोध में सौंपे गए हैं ज्ञापन

हिंदू परिवार पलायन करने को विवश हो रहे विवश

प्रशासनिक-पुलिस अधिकारियों को अविलंब बदलें

फतह सिंह उजाला

Attack and persecution of Hindus in Mewat unbearable

Memorandum has been submitted against violent incidents

Hindu families are being forced to flee

Change administrative-police officers without delay

 


पटौदी।
 मेवात में लोक डाउन के दौरान लगतार हिंदुओं पर हो रहे हमलों के विरोध स्वरूप देश के गृहमंत्री, हरियाणा के मुख्यमंत्री व गृह मंत्री के नाम अलग-अलग ज्ञापन सौंपे गए। यह ज्ञापन पटौदी में उपमण्डल अधिकारी को तथा मानेसर में तहसीलदार को सौंपे गए हैं । ज्ञापन सौंपने के दौरान धारा 144 के साथ में सोशल डिस्टेंस सहित मास्क लगाने का पूरी तरह से पालन भी किया गया।

विश्व हिंदू पािषद एवं सरपंच एकता मंच के जिलाध्यक्ष अजित सिंह ने बताया कि मेवात में अल्पसंख्यक हिंदू समाज के खिलाफ चल रहे सुनियोजित जिहादी उत्पीड़न का कड़ा विरोध दर्ज कराने के लिए विभिन्न हिन्दू संघठनों व सामाजिक संस्थाओं के द्वारा देश और प्रदेश सरकार के मंत्रियों को ज्ञापन सौंपे गए है। इस अवसर पर अजित सिंह के साथ मोनू मानेसर अध्यक्ष बजरग दल, नरेश , अजीत  जिला अध्यक्ष विश्व हिंदू परिषद, राजेन्द्र अध्यक्ष टेसवा व पवन सरपंच खानपुर मौजूद थे।

अजित सिंह ने बताया कि ज्ञापन में कहा गया है कि मेवात के अल्पसंख्यक हिंदू समाज पर लगातार हो रहे हमलों एवं प्रताड़ना के परिणाम स्वरूप हिंदू परिवार पलायन करने को विवश हो रहे हैं । उन्होंने बताया कि ज्ञापन के माध्यम से केंद्र और राज्य सरकार अवगत कराया गया है कि मेवात के हिंदुओं का सरकार एवं प्रशासन से विश्वास का उठना गहरी चिंता का विषय । विभिन्न संगठनों ने यह मांग भी की है कि मेवात के प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों को अविलंब बदलने की आवश्यकता है , हिंदू समाज के पीड़ित वर्ग को न्याय दिलाने मैं उक्त अधिकारी सक्षम नजर नहीं आ रहे हैं । यह भी आरोप लगरयर कि मेवात के अधिकारी दोषियों पर कार्यवाही करने की बजाय पीड़ित पक्ष पर दबाव बनाकर समझौता करवाने के फिराक में रहते हैं

ज्ञापन के माध्यम से केंद्र और राज्य सरकार से , मेवात में निष्पक्ष एवं निर्भीक अधिकारियों की नियुक्ति करने की मांग भी की गई है। ज्ञापन के माध्यम से हरियाणा सरकार को कहा गया है कि यदि मेवात में अल्पसंख्यक हिंदू समाज का उत्पीड़न नहीं रोका गया तथा वहां घटी घटनाओं की उच्चस्तरीय न्यायिक जांच नहीं की गई तो लोकतांत्रिक तरीके से इसका कड़ा विरोध किया जाने से भी संकोच नहीं किया जाएगा। मेवात में दिन प्रति दिन गंभीर होती आ रही इस समस्या के समाधान के लिए अविलंब कठोर  उठाने की आवश्यकता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Our COVID-19 India Official Data
Translate »
error: Content is protected !! Contact ATAL HIND for more Info.
%d bloggers like this: