Atal hind
उत्तर प्रदेश क्राइम टॉप न्यूज़ राष्ट्रीय

यूपी सरकार ने लगाई हाथरस की मृतक बेटी की कीमत  25 लाख रुपए, घर और नौकरी,क्या ऐसे होगा इन्साफ

लखनऊ. हाथरस गैंगरेप (Hathras Gangrape) मामले से देश भर में लोग आक्रोशित हैं। बुधवार को पीएम मोदी (PM Modi) ने

भी मामले का संज्ञान लेते हुए सीएम योगी (CM Yogi) से बात की और कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। सीएम योगी

ने भी बिना विलंब के मामले की जांच के लिए एसआईटी टीम का गठन किया। इसके उपरांत उन्होंने पीड़िता के परिवार से वीडियो

कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। करीब आधे घंटे चली बातचीत में उन्होंने परिवार को 25 लाख रुपए की आर्थिक सहायता व

परिवार को हर संभव मदद देने का भरोसा दिया।

यूपी, बलरामपुर में भी अब आधी रात अंतिम संस्कार। सनातन धर्म की सभी परंपराओं को कुचलते हुए रात में

ही अंतिम संस्कार कर दिया। पुलिस ने खड़े होकर क्रियाकर्म करवा दिया। हाथरस से सबक लिया और इस बार

परिवार वालों को टांग लाए, गरीब-दलित है. अब सबूत वही है जो पुलिस बताए। रात शवदाह, यूपी पुलिस का

नया कल्चर

यूपी सरकार ने लगाई हाथरस की मृतक बेटी की कीमत  25 लाख रुपए, घर और नौकरी,क्या ऐसे होगा इन्साफ

 

नई दिल्ली(अटल हिन्द ब्यूरो )बदलते भारत का स्वरूप हत्या ,बलात्कार आम बात हो गई मनीषा हाथरस ऐसी अकेली लड़की नहीं है जिसके साथ दरिंदगी हुई हो दरिंदे तो नवजात बच्चियों को भी नहीं छोड़ते ये तो फिर भी 19 साल की थी। यूपी सरकार ने इन्साफ कर दिया मृतक बेटी की कीमत लगाई 25 लाख रुपए, घर और नौकरी ,हाथरस की बेटी का बर्बरता से बलात्कार किया गया। अस्पताल में वह कई दिनों तक जिंदगी और मौत की जंग लड़ती रही। आखिर कार मौत ने बाजी मार ली और यूपी के हाथरस में सामूहिक बलात्कार की शिकार हुई 19 वर्षीय युवती ने दम तोड़ दिया। उसके शरीर के साथ बर्बरता की गई बुरी तरह से उसका बलात्कार करने के बाद उसे अधमरी हालत में पहुंचा दिया गया । उसके अपराधियों को तो सजा न्यायाल से मिलेगी ऐसी उम्मीद की जा सकती है। लेकिन क्या उन लोगों को भी सजा मिलेगी जो मरने के बाद भी उसके प्रति अपने संवेदना नहीं दिखा सके। वह जो उस बेटी के साथ हुए गैंगरेप और बर्बरता की पीड़ा को महसूस नहीं कर सके यहां तक कि वह संवेदना या इस भावना से भी कोसो दूर दिखे। हाथ रस की वह निर्दोष बेटी एक ओर चिता पर जल रही थी तो दूसरी ओर वहां का पुलिस महकमा मुस्कुरात नजर आ रहा था। यह मुस्कुराहट किस बात की थी यह तो कहना मुश्किल है लेकिन इससे यह तो दिखता है कि पीड़िता के प्रति यूपी पुलिस की कोई संवेदना नहीं थी। यह शर्मसार करनेवाली तस्वीर यूपी पुलिस की सामने आई है जिसकी लीपापोती करने में प्रशासन और महकमा जुटा है।

शव खराब हो रहा था,  परिजनों की सहमति से हुआ अंतिम संस्कार
हाथरस गैंगरेप पीड़िता का पुलिस द्वारा रात में ही जबरन अंतिम संस्कार कराने का ममला तूल पकड़ता जा रहा है। विपक्ष इस मामले में योगी सरकार और पुलिस प्रशासन पर आरोप लगा रहे हैं। इसे देखते हुए आज यूपी के एडीजी लॉ एंड आर्डर  प्रशांत कुमार ने सफाई दी। उन्होंने बयान दिया कि पीड़िता का अंतिम संस्कार रात में परिजनों की सहमति से ही कराया गया था। रैप पीड़िता बयान दिया है। उन्होंने कहा कि पीड़िता की डेडबॉडी खराब हो रही थी। इसी वजह से परिजनों ने भी रात को ही अंतिम संस्कार कर देने पर सहमति जताई थी। इसी के बाद पुलिस की मौजूदगी में देर रात अंतिम संस्कार कर दिया गया। पिड़िता के भाई और पिता से मेरी बात हुई थी। परिजनों की उपस्थिति मेंही अंतिम संस्कार किया गया।


हाथरस गैंगरेप मामला -पीड़िता के परिजनोंको सीएम ने दिए 25 लाख रुपए, घर और नौकरी
हाथरस मेंगैंगरेप मामले में यूपी पुलिस और प्रशासन की किरकिरी हुई है। यूपी में प्रशासन और पुलिस का राज नजर नहीं आता। अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। दलित युवती के साथ हुई बर्बरता और हत्या के बाद आज यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पीड़िता के परिजनों से बात की । उन्होंने आरोपियों के प्रति कड़ी कार्रवाई करने का आश्वासन दिया। इसी बीच उत्तर प्रदेश सरकार ने पीड़िता के परिजनों को 25 लाख रुपए की मदद, घर और सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया है। बता दें कि पीड़िता का पुलिस द्वारा जबरन रात में ही अंतिम संस्कार कराने के बाद लोगों मेंरोष व्याप्त है। आक्रोश के चलते आप प्रदर्शन भी किए गए। यही नहीं अंतिम संस्कार में यूपी पुलिस की असंवेदनशीलता को लेकर विपक्ष आज पूरे दिन सरकार पर हमलावर रहा। वहींएडीजी प्रशांत कुमार ने कहा कि शव पीड़िता के परिजनों की सहमति के बाद ही शव का अंतिम संस्कार किया गया। शव खराब हो रहा था इसलिए रात में ही अंतिम संस्कार किया गया। घर के लोगों ने सहमति जातई थी कि रात को ही अंतिम संस्कार कर देना उचित होगा।

हाथरस घटना पर बुंदेला बोले-जो हो गया सो हो गया…

झांसी। बुन्देलखण्ड विकास बोर्ड उ़ प्र के उपाध्यक्ष/ भाजपा की राष्ट्रीय कार्य समिति के सदस्य फिल्म अभिनेता राजा बुन्देला ने उप्र के हाथरस की दर्दनाक घटना पर बयान दिया कि जो हो गया सो हो गया, अब पीड़ित परिवार को सही मुआवजा व पकड़े गए आऱोपियों को कठोर सजा मिलनी चाहिए। झांसी में सर्किट हाउस में पत्रकारों के सवालों का जवाब देेेते हुए बुंदेला ने यह बात कही।

 

प्रशासनिक अधिकारियों की मंशा थी कि सुबह होने से पहले शव का अंतिम संस्कार करा दिया जाए, जबकि परिवार वालों का कहना था कि वह सुबह होने पर अंतिम संस्कार करेंगे।

 

दिल्ली से बिटिया का शव भारी सुरक्षा के बीच रात करीब पौने एक बजे गांव लाया गया। एंबुलेंस जैसे ही गांव पहुंची परिजनों में कोहराम मच गया। परिवार वाले बिटिया का शव घर के अंदर ले जाने की मांग करने लगे।महिलाएं एंबुलेंस के सामने लेट गईं। रात करीब सवा दो बजे तक मान-मनौव्वल का दौर चलता रहा। बाद में पुलिस प्रशासन ने बलपूर्वक एंबुलेंस के सामने लेटी महिलाओं को हटाया। इस दौरान धक्कामुक्की और खींचतान भी हुई। वहां पर चीख-पुकार मचने लगी। इसके बाद शव को श्मशान ले जाया गया और करीब ढाई बजे बिटिया के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। लेकिन पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने सुरक्षा व्यवस्था का हवाला देते हुए अंतिम संस्कार करने की बात कही। इस पर गांव वालों को गुस्सा और भड़क गया। एंबुलेंस से शव जबरन उतरवाने की कोशिश शुरू कर दी। पुलिस और लोगों के बीच खींचतान और हायतौबा मचने लगी। मौके पर मौजूद डीएम और एसपी ने भी ग्रामीणों और परिवार वालों को समझाया। लेकिन कोई भी मानने को तैयार नहीं था। इधर, जैसे ही चालक एंबुलेंस को गांव के श्मशान की ओर ले जाने लगा, वैसे महिलाएं एंबुलेंस के सामने लेट गईं और हंगामा करना शुरू कर दिया।रात करीब 1.45 बजे तक हंगामा चलता रहा। अफसरों और गांव वालों के बीच नोकझोंक होती रही। प्रशासनिक अधिकारियों की मंशा थी कि सुबह होने से पहले शव का अंतिम संस्कार करा दिया जाए जबकि परिवार वालों का कहना था कि उनके यहां रात में अंतिम संस्कार नहीं होता है। वह सुबह होने पर अंतिम संस्कार करेंगे। ग्रामीणों के अड़ने पर एंबुलेंस फिर वापस लाई गई लेकिन अफसरों ने शव उतारने से मना कर दिया तो महिलाएं फिर एंबुलेंस के सामने लेट गईं। हालांकि, अफसर पीड़िता के पिता को भरोसे में लेकर अंतिम संस्कार रात में कराने के प्रयास में लगे थे।इधर, रात में लगातार हंगामा बढ़ता देखकर गांव में आसपास के जिलों से भी फोर्स पहुंच गया है। पूरा गांव छावनी में तब्दील हो गया है। साथ ही गांव से दो किलोमीटर की परिधि में आने-जाने वाले सभी रास्तों में बैरियर लगाकर फोर्स को तैनात कर दिया गया है। किसी भी बाहरी व्यक्ति को गांव में घुसने नहीं दिया जा रहा है।इसपर वहां पर जबरदस्त खींचतान मचनी शुरू हो गई। पुलिस ने लोगों को धकिया कर एंबुलेंस को श्मशान की ओर से रवाना किया। इस पर चीख-पुकार मचनी शुरू हो गई। इसके बाद शव को श्मशान ले जाया गया और करीब ढाई बजे बिटिया के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। वहीं, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी जबरन अंतिम संस्कार को लेकर हमला बोला है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि भारत की एक बेटी का दुष्कर्म -क़त्ल किया जाता है, तथ्य दबाए जाते हैं और अंत में उसके परिवार से अंतिम संस्कार का हक़ भी छीन लिया जाता है। ये अपमानजनक और अन्यायपूर्ण है। भारत की एक बेटी का रेप-क़त्ल किया जाता है, तथ्य दबाए जाते हैं और अन्त में उसके परिवार से अंतिम संस्कार का हक़ भी छीन लिया जाता है।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

चीका में युवक पर हमला, गुहला के पूर्व विधायक के बेटे पर साथियों सहित हमला करवाने के आरोप

admin

कलायत-रामगढ़ पांडवा में 1 से 13 सितंबर तक मनाया हिन्दी पखवाड़ा

admin

एसपी बड़ी नालायक है और बदमाशों से मिली हुई है – मंत्री ओ पी यादव

admin

Leave a Comment

URL