Atal hind
टॉप न्यूज़ भिवानी हरियाणा

ये हरियाणा है यहाँ के अफसर कुछ भी कर सकते है ,गोलमाल है भई सब गोलमाल है 

ये हरियाणा है यहाँ के अफसर कुछ भी कर सकते है ,गोलमाल है भई सब गोलमाल है
यहाँ सब चलता है ये हरियाणा है , अफसरशाही  कुछ भी कर सकते है
आरटीआई में हुआ खुलासा: स्वास्थ्य अधिकारियों से मिलीभगत कर अंचल मल्टीस्पेशियलिटी अस्पताल में बनाया था कोविड सेंटर
भिवानी, 10 अक्तूबर।(अटल हिन्द ब्यूरो )स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से मिलीभगत कर अंचल मल्टीस्पेशियलिटी अस्पताल में डॉ विनोद अंचल ने गलत तथ्यों के आधार पर कोविड-19 सेंटर बनवाया था। इसका खुलासा एक आरटीआई के जवाब में हुआ है। स्वास्थ्य शिक्षा सहयोग संगठन के प्रदेश अध्यक्ष बृजपाल सिंह परमार ने सिविल सर्जन को 05 अगस्त को शिकायत दी थी, जिसमें दिनोद गेट स्थित अंचल मेटरनिटी नर्सिंग होम के अवैध भवन में कोविड-19 सेंटर चलाए जाने पर कार्रवाई की मांग की गई थी। इस शिकायत पर स्वास्थ्य विभाग ने क्या कार्रवाई की इसी की जानकारी के लिए बृजपाल सिंह परमार ने एक आरटीआई भी सिविल सर्जन कार्यालय में 04 सितंबर को लगाई थी।
 बृजपाल सिंह परमार ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग से आरटीआई के मिले जवाब में स्वास्थ्य अधिकारियों ने जांच में पाया कि गलत तथ्यों के आधार पर डॉ विनोद अंचल ने मल्टीस्पेशियलिटी अस्पताल बताकर उसमें कोविड सेंटर बनवाया था। स्वास्थ्य विभाग ने आरटीआई के जवाब में बताया कि डॉ विनोद ने लिखित में अनुरोध पत्र 18 जुलाई को दिया था। जिसमें बाल चिकित्सा, जनरल सर्जरी, गायनालॉजिस्ट की सुविधा है, इसके अलावा जनरल मेडिशन और अन्य सुविधाओं के लिए कार्यवाही की हुई है। डॉ विनोद ने अनुरोध पत्र में यह भी बताया था कि उसके पास 10 बैड कोविड के लिए रिजर्व किए जा सकते हैं और दो सप्लाई व वेंटीलेटर की व्यवस्था भी है। इसके बाद डीसीएचसी ने इस अस्पताल में कोविड सेंटर बना दिया था।
लेकिन बृजपाल सिंह परमार ने अवैध भवन में कोविड सेंटर की शिकायत सिविल सर्जन को दी थी। इसी में कार्रवाई करते हुए आयुषमान अधिकारी को पत्राचार किया गया, जिसमें आयुषमान अधिकारी ने बताया कि अंचल अस्पताल में मरीजों को आयुष्मान भारत स्कीम के अंतर्गत जनरल मेडिशन का इलाज नहीं दे सकते हैं। इसी के बाद स्वास्थ्य विभाग ने 11 अगस्त को ईमेल के जरिए उच्चाधिकारियों को सूचित किया गया कि यह अस्पताल आयुषमान में फिजिशियन में योग्य नहीं है। इसके बाद डीसीएचसी पोर्टल से हटा दिया जाए। स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ मिलीभगत कर कोविड सेंटर के जरिए कोरोना मरीजों को मिलने वाले बजट को हड़प करने की रणनीति बनाई गई थी।
नहीं है अस्पताल की कोई एनओसी, अवैध भवन में चल रहा है अधिकारियों से मिलीभगत का खेल
बृजपाल सिंह परमार ने बताया कि बकरे की मां कब तक खैर मनाएगी क्योंकि दिनोद गेट स्थित अंचल मेटरनिटी नर्सिंग होम अवैध भवन में चल रहा है, जिसकी किसी भी संबंधित विभाग से कोई एनओसी तक नहीं है, ऐसे में बिना जांच पड़ताल के स्वास्थ्य अधिकारियों से मिलीभगत कर गलत तथ्यों के आधार पर कोविड-19 के मरीजों का उपचार के लिए सेंटर हासिल किया गया।
इस पूरे प्रकरण में स्वास्थ्य अधिकारियों की भी मिलीभगत और मरीजों की जान से खिलवाड़ की बड़ी लापरवाही उजागर हुई हैं, वहीं अवैध भवन मामले में उच्च न्यायालय द्वारा कार्रवाई किए जाने के आदेशों पर भी प्रशासनिक व नगर परिषद अधिकारियों की मिलीभगत जगजाहिर हो चुकी हैं, क्योंकि उच्च न्यायालय ने शहरी निकाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव व जिला उपायुक्त व नगर परिषद अधिकारियों को भी अवमानना का नोटिस जारी किया हुआ है। जिसकी सुनवाई अब 12 अक्तूबर को उच्च न्यायालय में होगी।
फर्जी तरीके से आयुषमान भारत स्कीम का भी अस्पताल में लिया गलत लाभ
बृजपाल सिंह परमार ने बताया कि अंचल मेटरनिटी नर्सिंग होम में कमर्शियल यानी एक शोरूम के नक्शे के आधार पर बिना अनुमति के शामलात भूमि कब्जा कर अवैध भवन में अस्पताल का संचालन किया और फिर फर्जी तरीके से स्वास्थ्य अधिकारियों से मिलीभगत कर एक अगस्त 2019 को आयुषमान भारत योजना स्कीम हथियाई।
स्वास्थ्य विभाग के डिप्टी सिविल सर्जन डॉ कृष्ण कुमार, जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डॉ देवेंद्र शर्मा व आयुषमान भारत के नोडल अधिकारी डॉ संदीप कुमार ने अवैध भवन को ही आयुषमान भारत योजना स्कीम के लिए फिट करार दे दिया और इसे मंजूरी दिलाने के लिए मामला भी सिफारिश कर ऊपर भेज दिया। इसी आधार पर अवैध भवन में आशुषमान भारत योजना के तहत मरीजों का इलाज किया जाने लगा।
बृजपाल ने बताया कि अवैध भवन में दस चिकित्सक भी फर्जी तौर पर पैनल में दर्शाये हुए हैं। इसमें संगठन ने आशुषमान योजना में सरकारी राशि का गबन किए जाने और अवैध भवन में अस्पताल चलाकर लोगों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ किए जाने की शिकायत भी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री व आशुषमान भारत योजना के उच्चाधिकारियों को दी है। इसमें अस्पताल संचालक के खिलाफ आपराधिक व धोखाधड़ी के तहत केस दर्ज किए जाने की भी मांग की गई है।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना में भी किया था घोटाला
बृजपाल सिंह ने बताया कि अंचल मेटरनिटी नर्सिंग होम के संचालक अंचल दंपति ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना में भी घोटाला किया था। जिसकी स्वास्थ्य विभाग ने जांच कराई थी। जिसमें पाया था कि अस्पताल के अंदर ऑप्रेशन थियेटर नहीं होने के बावजूद भी 350 मरीजों का कागजों में ऑप्रेशन दिखाकर बजट हड़प लिया था। अस्पताल में बेड की क्षमता 15 थी, जबकि एक ही दिन में राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत 28 मरीजों के ऑप्रेशन दर्शाये गए थे। जांच हुई तब सभी मरीजों के ब्लड ग्रूप भी एक जैसे ही मिले। इसी के बाद स्वास्थ्य बीमा योजना स्कीम को 04 नवंबर 2016 को सस्पेंड कर दिया गया था।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

फोटो खिंचवाने के चक्कर में कैथल के विधायक और समर्थकों  ने प्रशासनिक अधिकारीयों की मौजूदगी में चेहरे से हटाए मास्क 

admin

पलायन से पैदा हुए हैं रोजगार (Employment)के अवसर, हरियाणा के युवा उठाएं इसका फायदा – दुष्यंत चौटाला*

Sarvekash Aggarwal

मदद के लिए आगे आए युवा,50 गलियों को सेंटाइज किया

Leave a Comment

URL