AtalHind
उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय

वाराणसी: घाटों पर सांप्रदायिक पोस्टर लगाने वाले पांच लोगों पर मामला दर्ज, कोई गिरफ़्तारी नहीं

पांच लोगों में से दो विहिप और बजरंग दल से संबंध रखते थे. वीडियो में वे यह स्वीकार करते भी देखे गए थे. पुलिस ने दोनों की पहचान राजन गुप्ता और निखिल त्रिपाठी ‘रुद्र’ के रूप में की है.

वाराणसी: घाटों पर सांप्रदायिक पोस्टर लगाने वाले पांच लोगों पर मामला दर्ज, कोई गिरफ़्तारी नहीं

Advertisement

नई दिल्ली: वाराणसी में गंगा के विभिन्न घाटों पर कथित तौर पर पोस्टर चिपकाकर गैर-हिंदुओं को घाटों से दूर रहने की चेतावनी देने के मामले में पुलिस ने पांच लोगों के खिलाफ प्राथमिकी (एफआईआर) दर्ज की है.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, भेलूपुर पुलिस थाने में 9 जनवरी रविवार को मामला दर्ज किया गया है. हालांकि, अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है.

उल्लेखनीय है कि पिछले सप्ताह विश्व हिंदू परिषद (विहिप) और बजरंग दल के कथित सदस्यों ने घाटों पर ‘गैर-हिंदुओं का प्रवेश प्रतिबंधित है’ लिखे हुए पोस्टर चिपका दिए थे. इन पोस्टर को लगाते हुए उनके फोटो और वीडियो भी सोशल मीडिया पर डाले गए थे.

Advertisement

इन पांच लोगों में से दो विहिप और बजरंग दल से संबंध रखते थे. वीडियो में वे यह स्वीकार करते भी देखे गए थे. पुलिस ने दोनों की पहचान राजन गुप्ता और निखिल त्रिपाठी ‘रुद्र’ के रूप में की है.

द वायर  ने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि विहिप की वाराणसी विंग के सचिव राजन गुप्ता ने एक वीडियो में कहा था, ‘ये पोस्टर अपील नहीं, बल्कि उन लोगों के लिए चेतावनी है जो सनातन धर्म का पालन नहीं करते हैं.’

काशी के घाटों और मंदिरों को हिंदू धर्म और संस्कृति का प्रतीक बताते हुए गुप्ता ने कहा था, ‘अन्य धर्म के लोगों को यहां से दूर रहना चाहिए.’

Advertisement

उन्होंने यह भी कहा था कि अगर यहां आने वाले लोगों की हिंदू धर्म में आस्था है तो उनका स्वागत है, और अगर आस्था नहीं है तो हम उन्हें यहां से भगा देंगे.

वहीं, बजरंग दल के वाराणसी संयोजक निखिल त्रिपाठी ‘रुद्र’ ने कहा था, ‘गंगा हमारी मां है, यह पिकनिक स्पॉट नहीं है. जो गंगा को पिकनिक स्पॉट मानते हैं, उन्हें इससे दूर रहना चाहिए. अगर वे खुद दूर नहीं रहते तो बजरंग दल ऐसा करेगा.’

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, विहिप ने रविवार को कहा कि दोनों सदस्यों  को संगठन से बाहर कर दिया गया है.

Advertisement

रविवार को पुलिस सह-आयुक्त (भेलूपुर) प्रवीण कुमार सिंह ने इस अखबार को बताया कि जांचकर्ता मामले में शामिल अन्य लोगों की पहचान पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं.

भेलूपुर थाना प्रभारी रमाकांत दुबे ने कहा कि पुलिस ने गुप्ता और त्रिपाठी को नोटिस दिया है और शांति बनाए रखने के उद्देश्य से उन्हें पांच-पांच लाख रुपये के निजी मुचलके जमा करने के आदेश दिए हैं.

विहिप के काशी (वाराणसी) प्रांत मंत्री आनंद सिंह ने बताया कि गुप्ता और त्रिपाठी को संगठन से हटाकर उनसे सभी जिम्मेदारियां छीन ली गई हैं.

Advertisement

स्थानीय कांग्रेस नेता राघवेंद्र चौबे ने  बताया कि उनकी पार्टी ने पुलिस को दक्षिणपंथियों की इस उपद्रवी हरकत की सूचना दी थी. उन्होंने कहा, ‘मैंने ही वरुणा जोन के डीजीपी को फोन करके नफरत फैलाने वाली इस हरकत के बारे में सूचित किया था.’

वरिष्ठ पत्रकार विजय विनीत ने  फोन पर बताया कि गंगा और उसके घाट कभी एक धर्म के नहीं रहे. उन्होंने बताया कि कैसे उस्ताद बिस्मिल्लाह खान गंगा में स्नान के बाद ही नमाज अदा करते थे.

उन्होंने इस घटना पर चिंता जताते हुए कहा, ‘राजनीतिक फायदे के लिए कोई धर्म के नाम पर वाराणसी को बांट कैसे सकता है?’

Advertisement

बता दें कि वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है और यह हरकत विधानसभा चुनावों से ठीक पहले हुई है.नई दिल्ली: वाराणसी में गंगा के विभिन्न घाटों पर कथित तौर पर पोस्टर चिपकाकर गैर-हिंदुओं को घाटों से दूर रहने की चेतावनी देने के मामले में पुलिस ने पांच लोगों के खिलाफ प्राथमिकी (एफआईआर) दर्ज की है.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, भेलूपुर पुलिस थाने में 9 जनवरी रविवार को मामला दर्ज किया गया है. हालांकि, अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है.

उल्लेखनीय है कि पिछले सप्ताह विश्व हिंदू परिषद (विहिप) और बजरंग दल के कथित सदस्यों ने घाटों पर ‘गैर-हिंदुओं का प्रवेश प्रतिबंधित है’ लिखे हुए पोस्टर चिपका दिए थे. इन पोस्टर को लगाते हुए उनके फोटो और वीडियो भी सोशल मीडिया पर डाले गए थे.

Advertisement

इन पांच लोगों में से दो विहिप और बजरंग दल से संबंध रखते थे. वीडियो में वे यह स्वीकार करते भी देखे गए थे. पुलिस ने दोनों की पहचान राजन गुप्ता और निखिल त्रिपाठी ‘रुद्र’ के रूप में की है.

 रिपोर्ट में बताया था कि विहिप की वाराणसी विंग के सचिव राजन गुप्ता ने एक वीडियो में कहा था, ‘ये पोस्टर अपील नहीं, बल्कि उन लोगों के लिए चेतावनी है जो सनातन धर्म का पालन नहीं करते हैं.’

काशी के घाटों और मंदिरों को हिंदू धर्म और संस्कृति का प्रतीक बताते हुए गुप्ता ने कहा था, ‘अन्य धर्म के लोगों को यहां से दूर रहना चाहिए.’

Advertisement

उन्होंने यह भी कहा था कि अगर यहां आने वाले लोगों की हिंदू धर्म में आस्था है तो उनका स्वागत है, और अगर आस्था नहीं है तो हम उन्हें यहां से भगा देंगे.

वहीं, बजरंग दल के वाराणसी संयोजक निखिल त्रिपाठी ‘रुद्र’ ने कहा था, ‘गंगा हमारी मां है, यह पिकनिक स्पॉट नहीं है. जो गंगा को पिकनिक स्पॉट मानते हैं, उन्हें इससे दूर रहना चाहिए. अगर वे खुद दूर नहीं रहते तो बजरंग दल ऐसा करेगा.’

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, विहिप ने रविवार को कहा कि दोनों सदस्यों  को संगठन से बाहर कर दिया गया है.

Advertisement

रविवार को पुलिस सह-आयुक्त (भेलूपुर) प्रवीण कुमार सिंह ने इस अखबार को बताया कि जांचकर्ता मामले में शामिल अन्य लोगों की पहचान पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं.

भेलूपुर थाना प्रभारी रमाकांत दुबे ने कहा कि पुलिस ने गुप्ता और त्रिपाठी को नोटिस दिया है और शांति बनाए रखने के उद्देश्य से उन्हें पांच-पांच लाख रुपये के निजी मुचलके जमा करने के आदेश दिए हैं.

विहिप के काशी (वाराणसी) प्रांत मंत्री आनंद सिंह ने बताया कि गुप्ता और त्रिपाठी को संगठन से हटाकर उनसे सभी जिम्मेदारियां छीन ली गई हैं.

Advertisement

स्थानीय कांग्रेस नेता राघवेंद्र चौबे ने द वायर  को बताया कि उनकी पार्टी ने पुलिस को दक्षिणपंथियों की इस उपद्रवी हरकत की सूचना दी थी. उन्होंने कहा, ‘मैंने ही वरुणा जोन के डीजीपी को फोन करके नफरत फैलाने वाली इस हरकत के बारे में सूचित किया था.’

वरिष्ठ पत्रकार विजय विनीत ने द वायर  को फोन पर बताया कि गंगा और उसके घाट कभी एक धर्म के नहीं रहे. उन्होंने बताया कि कैसे उस्ताद बिस्मिल्लाह खान गंगा में स्नान के बाद ही नमाज अदा करते थे.

उन्होंने इस घटना पर चिंता जताते हुए कहा, ‘राजनीतिक फायदे के लिए कोई धर्म के नाम पर वाराणसी को बांट कैसे सकता है?’

Advertisement

बता दें कि वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है और यह हरकत विधानसभा चुनावों से ठीक पहले हुई है.नई दिल्ली: वाराणसी में गंगा के विभिन्न घाटों पर कथित तौर पर पोस्टर चिपकाकर गैर-हिंदुओं को घाटों से दूर रहने की चेतावनी देने के मामले में पुलिस ने पांच लोगों के खिलाफ प्राथमिकी (एफआईआर) दर्ज की है.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, भेलूपुर पुलिस थाने में 9 जनवरी रविवार को मामला दर्ज किया गया है. हालांकि, अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है.

उल्लेखनीय है कि पिछले सप्ताह विश्व हिंदू परिषद (विहिप) और बजरंग दल के कथित सदस्यों ने घाटों पर ‘गैर-हिंदुओं का प्रवेश प्रतिबंधित है’ लिखे हुए पोस्टर चिपका दिए थे. इन पोस्टर को लगाते हुए उनके फोटो और वीडियो भी सोशल मीडिया पर डाले गए थे.

Advertisement

इन पांच लोगों में से दो विहिप और बजरंग दल से संबंध रखते थे. वीडियो में वे यह स्वीकार करते भी देखे गए थे. पुलिस ने दोनों की पहचान राजन गुप्ता और निखिल त्रिपाठी ‘रुद्र’ के रूप में की है.

द वायर  ने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि विहिप की वाराणसी विंग के सचिव राजन गुप्ता ने एक वीडियो में कहा था, ‘ये पोस्टर अपील नहीं, बल्कि उन लोगों के लिए चेतावनी है जो सनातन धर्म का पालन नहीं करते हैं.’

काशी के घाटों और मंदिरों को हिंदू धर्म और संस्कृति का प्रतीक बताते हुए गुप्ता ने कहा था, ‘अन्य धर्म के लोगों को यहां से दूर रहना चाहिए.’

Advertisement

उन्होंने यह भी कहा था कि अगर यहां आने वाले लोगों की हिंदू धर्म में आस्था है तो उनका स्वागत है, और अगर आस्था नहीं है तो हम उन्हें यहां से भगा देंगे.

वहीं, बजरंग दल के वाराणसी संयोजक निखिल त्रिपाठी ‘रुद्र’ ने कहा था, ‘गंगा हमारी मां है, यह पिकनिक स्पॉट नहीं है. जो गंगा को पिकनिक स्पॉट मानते हैं, उन्हें इससे दूर रहना चाहिए. अगर वे खुद दूर नहीं रहते तो बजरंग दल ऐसा करेगा.’

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, विहिप ने रविवार को कहा कि दोनों सदस्यों  को संगठन से बाहर कर दिया गया है.

Advertisement

रविवार को पुलिस सह-आयुक्त (भेलूपुर) प्रवीण कुमार सिंह ने इस अखबार को बताया कि जांचकर्ता मामले में शामिल अन्य लोगों की पहचान पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं.

भेलूपुर थाना प्रभारी रमाकांत दुबे ने कहा कि पुलिस ने गुप्ता और त्रिपाठी को नोटिस दिया है और शांति बनाए रखने के उद्देश्य से उन्हें पांच-पांच लाख रुपये के निजी मुचलके जमा करने के आदेश दिए हैं.

विहिप के काशी (वाराणसी) प्रांत मंत्री आनंद सिंह ने बताया कि गुप्ता और त्रिपाठी को संगठन से हटाकर उनसे सभी जिम्मेदारियां छीन ली गई हैं.

Advertisement

स्थानीय कांग्रेस नेता राघवेंद्र चौबे ने द वायर  को बताया कि उनकी पार्टी ने पुलिस को दक्षिणपंथियों की इस उपद्रवी हरकत की सूचना दी थी. उन्होंने कहा, ‘मैंने ही वरुणा जोन के डीजीपी को फोन करके नफरत फैलाने वाली इस हरकत के बारे में सूचित किया था.’

वरिष्ठ पत्रकार विजय विनीत ने द वायर  को फोन पर बताया कि गंगा और उसके घाट कभी एक धर्म के नहीं रहे. उन्होंने बताया कि कैसे उस्ताद बिस्मिल्लाह खान गंगा में स्नान के बाद ही नमाज अदा करते थे.

उन्होंने इस घटना पर चिंता जताते हुए कहा, ‘राजनीतिक फायदे के लिए कोई धर्म के नाम पर वाराणसी को बांट कैसे सकता है?’

Advertisement

बता दें कि वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है और यह हरकत विधानसभा चुनावों से ठीक पहले हुई है.ज्ञात हो कि प्रदेश में 10 फरवरी से लेकर सात मार्च तक सात चरणों में मतदान होगा और नतीजे दस मार्च को आएंगे. 

Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

यूएन के विशेष दूतों ने कहा- भारत  के आईटी नियम अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार नियमों का उल्लंघन करते हैं

admin

मुख्‍यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को धमकी- 15 अगस्त को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

admin

यूपी पुलिस के फेक एनकाउंटर मामलों को दबाया गया, एनएचआरसी ने भी नियमों का उल्लंघन किया: रिपोर्ट

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL