AtalHind
करनाल (Karnal)

सड़क की चौड़ाई कम, वाहन पलटने से नुकसान झेल रहे राईस मिलर्स

सड़क की चौड़ाई कम, वाहन पलटने से नुकसान झेल रहे राईस मिलर्स
– सौंकड़ा, नड़ाना, लल्याणी और कुड़क रोड़ पर आए दिन हादसे का शिकार हो रहे चालक, चौड़ाई बढ़ाने की मांग
तरावड़ी शहर के लल्याणी रोड पर पलटा जीरी से भरा ट्रक।
तरावड़ी, 8 दिसम्बर (Atal Hind)। तरावड़ी शहर में सबसे बड़ी अनाज मंडी और दर्जनों राईस मिल होने के कारण यहां से हर वर्ष सरकार को करोड़ों रुपए का राजस्व होता है, लेकिन सुविधाओं के नाम पर तरावड़ी शहर जीरो है, यहां लाेगों को सुविधाएं नही मिल रही हैं। शहर में चावल उद्योग होने के चलते शहर का नाम विदेशों में भी मशहूर है। बावजूद इसके उद्योगपत्ति सरकार और प्रशासन की लापरवाही के चलते आए दिन नुकसान झेल रहे हैं। शहर के सौंकड़ा रोड, नड़ाना रोड और लल्याणी-कुड़क रोड पर सबसे ज्यादा राईस मिल हैं, यहीं से चावल देश और विदेशों में निर्यात होता हैं, लेकिन सड़कों की खस्ता हालत के चलते राईस मिलर्स खासे परेशान हैं। यही नही सीजन के दौरान किसानों को भी नुकसान झेलना पड़ता है। तरावड़ी शहर में अधिकतर राईस मिलों के सामने रोड की चौड़ाई कम होने के कारण हादसे की आशंका बनी रहती है। रोड का चौड़ीकरण करने के लिए भी कोई पहल नहीं की जा रही है। शहर के सौंकड़ा रोड, नड़ाना रोड व लल्याणी-कुड़क रोड़ पर सड़क पर कई जगह कटाव हो चुका है, जिसके कारण भी आए दिन वाहन चालक हादसे का शिकार हो रहे हैं। राईस मिलर्स संचालकों द्वारा कई बार शिकायतों के बाद भी प्रशासन ना ही सड़क की चौड़ाई बढ़ाने पर ध्यान दे रहा है और ना ही कटावों की मरम्मत कराई जा रही है।
Advertisement
राईस मिलर्स एंड डीलर्स एसोसिएशन के प्रधान नरेश बंसल।
बाक्स
विभाग नही उठाता सड़क को दुरुस्त करने की जहमत :- नरेश बंसल
समस्या से अवगत करवाते हुए राईस मिलर्स एंड डीलर्स एसोसिएशन के प्रधान नरेश बंसल ने कहा कि तरावड़ी शहर को चावलों की नगरी के नाम से जाना जाता है। यहां से चावल विदेशो में निर्यात होता हैं, लेकिन राईस मिलों के सामने सड़कों की हालत खस्ता है। उन्होंने कहा कि जहां पर राईस मिल हैं, वहां से हर दिन सैकड़ों की संख्या में गाड़ियां गुजरती हैं। इसके बाद भी सड़क को दुरुस्त करने की जरूरत प्रशासन महसूस नहीं कर रहा है। सड़क का चौड़ीकरण और मरम्मत का काम करवाने के लिए कई बार संबधित विभाग को लिखा, लेकिन समस्या हल नही हुई।
तरावड़ी अनाज मंडी के प्रधान शीशपाल गुप्ता।
बाक्स
मंडी प्रधान शीशपाल गुप्ता बोले :- सीजन में होती है बड़ी परेशान
तरावड़ी अनाज मंडी आढ़ती एसोसिएशन के प्रधान शीशपाल गुप्ता ने कहा कि तरावड़ी शहर में सबसे बड़ी अनाज मंडी हैं। यहां से अधिकतर ग्रामीण किसान इसी अनाज मंडी से जुड़े हैं। लेकिन तरावड़ी शहर के अधिकतर गांवों से अनाज मंडी को जोड़ने वाली सभी सडकों की हालत खस्ता है। उन्होंने बताया कि न तो सड़क चौड़ी है और न ही मजबूत। सीजन के समय सैंकड़ों किसान वाहन लेकर अनाज मंडी आते हैं, लेकिन सड़क की चौड़ाई कम होने से जाम की समस्या उत्पन्न हो जाती है।
राईस मिलर्स एंड डीलर्स एसोसिशन के महासचिव राकेश हंस।
बाक्स
वाहन पलटने से राईस मिलर्स को झेलना पड़ रहा नुकसान :- राकेश हंस
राईस मिलर्स एंड डीलर्स एसोसिएशन के महासचिव राकेश हंस ने कहा कि तरावड़ी शहर में ज्यादा राईस मिल होने के कारण हमेशा ट्रैफिक का दबाव रहता है। सड़कों की हालत खस्ता और चौड़ाई कम होने के कारण हादसे का खतरा बना हुआ है। सभी जगहों पर रोड के सकरा होने के साथ ही सड़क पर हुआ कटाव कई जगह बढ़कर गड्ढाें में तब्दील हो गया है। यहां वाहन पलटने की समस्या आए दिन रहती है। उन्होंने सरकार और जिला प्रशासन से मांग की है कि सड़कों की चौड़ाई को बढ़ाया जाए और रेलिंग लगाई जाए, ताकि वाहन न पलटें, क्योंकि वाहन पलटने के कारण राईस मिलर्स को नुकसान झेलना पड़ रहा है।
Advertisement
Advertisement

Related posts

करीब 884 करोड़ रुपये की राशि से करनाल-यमुनानगर नई रेल लाईन परियोजना का होगा निर्माण,

admin

तरावड़ी के केसरीनंदन क्लीनिक में छापेमार कार्रवाई

admin

DUBAI के मेले से दुनिया के कई देशाें में बिखरेगी तरावड़ी के चावलों की सुगंध

editor

Leave a Comment

URL