AtalHind
टॉप न्यूज़राजनीति

सरप्राइज देना बीजेपी की आदत बन चुकी है, मोहन यादव से पहले चौंका चुके हैं ये नाम, देखें लिस्ट

सरप्राइज देना बीजेपी की आदत बन चुकी है, मोहन यादव से पहले चौंका चुके हैं ये नाम, देखें लिस्ट

फिर चौंका सकते हैं मोदी-शाह, इन छह में से एक हो सकती है संभावना

चंडीगढ़ (अटल हिन्द टीम )

पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी की जीत वाले राज्यों में सीएम चेहरे की घोषणा का बेसब्री से इंतजार हो रहा था। बीजेपी ने ने छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में सीएम के रूप में नया चेहरा घोषित कर सबको चौंका दिया है। इससे पहले भी बीजेपी ने हरियाणा से लेकर हिमाचल प्रदेश में चौंकाया था।

BJP V/S CM सरप्राइज देना बीजेपी की आदत बन चुकी है,

सीक्रेसी के साथ सरप्राइज

बीजेपी आलाकमान की तरफ से राज्यों में सीएम चुनने को लेकर पिछले कुछ सालों में बदलाव आया है। पार्टी की तरफ से से सीक्रेसी के साथ सरप्राइज अब आम हो गया है।

छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ में नए मुख्यमंत्री के नाम का ऐलान, Vishnudev Sai होंगे सीएम

Vishnudev Sai

छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में प्रचंड जीत दर्ज करने के बाद बीजेपी ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के रुप में प्रदेश के आदिवासी नेता विष्णुदेव साय पर दांव लगाया है।

भाजपा ने यहां चुनाव से पहले किसी को सीएम के चेहरे को पेश नहीं किया था। पूरा चुनाव प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के चेहरे पर लड़ा गया। लेकिन जीत के बाद एक हफ्ते तक रायपुर से दिल्ली तक सीएम के चेहरे को लेकर मंथन का दौर चला।

Advertisement

अब पार्टी ने इस रेस में आदिवासी समाज से आने वाले विष्णुदेव साय के नाम पर मुहर लगा दी है।

कौन हैं विष्णुदेव साय?

विष्णुदेव राय छत्तीसगढ़ की कुनकुरी इलाके के कांसाबेल से लगे बगिया गांव के रहने वाले मूलत: किसान हैं। राज्य में आदिवासी समुराय की आबादी सबसे अधिक है और वे इसी समुदाय का प्रतिनिधित्व करते हैं।

Advertisement

उनकी गिनती रमन सिंह के करीबी लोगों में होती है। 1989 में अपने गांव बगिया से पंच पद से राजनीतिक जीवन की शुरुआत करने वाले विष्णुदेव साय 1990 में निर्विरोध सरपंच निर्वाचित हुए थे।

इसके बाद तपकरा से विधायक चुनकर 1990 से 1998 तक वे मध्यप्रदेश विधानसभा के सदस्य रहे। इसके बाद 1999 में वे 13 वीं लोकसभा के लिए रायगढ़ लोकसभा क्षेत्र से सांसद निर्वाचित हुए।

इसके बाद भाजपा ने उन्हें 2006 में पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया।

Advertisement

इसके बाद 2009 में 15 वीं लोकसभा के लिए हुए चुनाव में वे रायगढ़ लोकसभा क्षेत्र से फिर से सांसद बने।

इसके बाद 2014 में 16 वीं लोकसभा के लिए वे फिर से रायगढ़ से सांसद बने।

इस बार केंद्र में मोदी की सरकार ने उन्हें केंद्रीय राज्यमंत्री, इस्पात खान, श्रम, रोजगार मंत्रालय बनाया।

Advertisement

वे 27 मई 2014 से 2019 तक इस पद पर रहे। पार्टी ने 2 दिसंबर 2022 को उन्हें राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य और विशेष आमंत्रित सदस्य बनाया।

इसके बाद विष्णुदेव साय 8 जुलाई 2023 को भाजपा ने राष्ट्रीय कार्यसमिति का सदस्य बनाया। विष्णुदेव साय 2020 में भी बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष रहे हैं। सांसद और केंद्रीय मंत्री भी रहे हैं।

संघ के करीबी नेताओं में उनकी गिनती होती है। विष्णुदेव साय की इसी मजबूत प्रोफाइल की वजह से उन्हें पार्टी ने सबसे बड़ा पद दिया है।

Advertisement

मध्यप्रदेश,

पार्टी ने अपनी पिछली सरप्राइज वाली परिपाटी को बरकरार रखा। शिवराज सिंह चौहान, ज्योतिरादित्य सिंधिया से लेकर सांसदों के नाम की अटकलों के बीच मोहन यादव का नाम बड़ा सरप्राइज है। बीजेपी ने फिर अपनी परिपाटी को कायम रखा। वहीं, छत्तीगढ़ में विष्णु देव साय भी नए चेहरे के रूप में सामने आए।मध्यप्रदेश में नए मुख्यमंत्री का एलान हो चुका है। विधायक दल की बैठक में मोहन यादव को नेता चुना गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्यपाल को इस्तीफा दे दिया। राज्यपाल ने यादव को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया है। 13 या 14 दिसंबर को नई सरकार शपथ ले लेगी।मोहन यादव पहुंचे सीएम हाउस
राज्यपाल से मुलाकात के बाद मोहन यादव ने केंद्रीय पर्यवेक्षकों को एयरपोर्ट पहुंचकर विदा किया। इसके बाद वे मुख्यमंत्री निवास पहुंचे। वहां कार्यवाहक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनका स्वागत किया। इस बीच, राजभवन ने मोहन यादव को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया है। 13 या 14 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कार्यक्रम तय होते ही शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन होगा। फिलहाल 13 दिसंबर को लाल परेड ग्राउंड पर शपथ ग्रहण समारोह होने की सूचना मिल रही है। समय बाद में तय होगा। उनके साथ कितने मंत्री शपथ लेंगे, यह भी एक-दो दिन में तय हो जाएगा |

पहली बार चुनाव जीतने वाले MANOHAR LAL को बनाया सीएम

हरियाणा -पहली बार चुनाव जीते हरियाणा के करनाल से मनोहर लाल खट्टर को पार्टी ने 2014 में सीएम बनाया था। जाटों के मजबूत इतिहास वाले राज्य में गैर जाट सीएम चेहरा देकर बीजेपी ने चौंकाया था।मुख्यमंत्री बनाने से पहले हरियाणा की जनता ने कभी इसका नाम भी नहीं सुना था ,2014 के चुनाव जितने के बाद बीजेपी खासकर संघ के ख़ास मनोहर लाल हरियाणा की जनता के बीच तो लोकप्रिय नहीं हो पाए लेकिन अपने कुछ जन विरोधी फैंसलों क्व चलते देश भर में सुर्ख़ियों ने जरूर रहे

यूपी : आखिरी क्षण में Yogi Adityanath  के नाम की घोषणा

Yogi Adityanath

2017 में जब बीजेपी ने जब यूपी में बंपर जीत हासिल की थी तो उस समय सीएम के रूप में राजनाथ सिंह से लेकर मनोज सिन्हा का नाम चल रहा था। आखिरी क्षणों में अचानक पार्टी ने योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाने का फैसला लिया था।

जेपी नड्डा, धूमल पीछे…Jai Ram Thakur की एंट्री

Jai Ram Thakur

2017 में बीजेपी ने हिमाचल प्रदेश में जब चुनाव जीता तो उस समय जेपी नड्डा से लेकर प्रेम कुमार धूमल का नाम सीएम के रूप में चल रहा था। हालांकि, बीजेपी ने जयराम ठाकुर के रूप में चौंकाने वाला नाम रखा था।

गुजरात : कहीं नहीं था Bhupendra bhai Patel का नाम

गुजरात : कहीं नहीं था Bhupendra bhai Patel का नाम

गुजरात में जब विजय रूपाणी की जगह भूपेंद्र पटेल के नाम की घोषणा हुआ तो कई लोगों ने उनका नाम तक नहीं सुना था। 2021 में उनके पास अचानक फोन आया और पार्टी कार्यालय बुलाया गया। वहां विधायकों के साथ एक बैठक होनी थी।

उत्तराखंड: Trivendra Singh Rawatके रूप में सरप्राइज

Trivendra Singh Rawat

2017 में बीजेपी जब उत्तराखंड में 70 में से 57 सीटों के साथ चुनाव जीती तो सीएम कौन होगा ये सवाल काफी चर्चा में था। उस समय पार्टी ने त्रिवेंद्र सिंह रावत के रूप में नया चेहरा पेश किया था।

Advertisement

Related posts

वे पांच कारण, जिनकी वजह से विजय रूपाणी को मुख्यमंत्री पद गंवाना पड़ा

admin

सरपंचपति खत्म कर रहे महिलाओं की राजनीति

atalhind

पटौदी बार एसोसिएशन इलेक्शन जातीय समीकरण तय करेंगे प्रधान और सचिव की हार-जीत

admin

Leave a Comment

URL