Atal hind
करनाल जॉब टॉप न्यूज़ हरियाणा

हरियाणा की सीएम सिटी करनाल में आशा वर्करों पर बरसाई लाठियां

हरियाणा की सीएम सिटी करनाल में आशा वर्करों पर बरसाई लाठियां
करनाल(अटल हिन्द ब्यूरो ) आशा वर्कर यूनियन से जुड़ी सैकड़ों आशा वर्करों ने सीएमओ  कार्यालय से प्रेम नगर तक जोरदार विरोध प्रदर्शन किया। आशा वर्कर सीएम आवास का घेराव करने जा रही थी। सीएम आवास से कुछ दूरी पर पुलिस ने आशा वर्करों व अन्य कर्मचारी नेताओं के साथ धक्का मुक्की की और फिर लाठीचार्ज किया। इसमें कई आशाओं को चोटें लगीं। विरोध स्वरूप यूनियन ने ऐलान कर दिया कि 21 अक्तूबर को प्रदेशभर में जिला स्तर पर प्रदर्शन करके मुख्यमंत्री के पुतले फूंके जाएंगे।
गुस्साई आशा वर्कर प्रदेश सरकार व पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की । धक्का मुक्की की और  लाठीचार्जबाद में बीडीपीओ ने 21 अक्तूबर को डीसी से वार्ता करवाने का आश्वासन दिया। इस मौके पर सीटू के जिला सचिव जगपाल राणा ने कहा कि सात अगस्त से आशा वर्कर्स आंदोलन कर रही हैं।हरियाणा सरकार कभी किसानों को पिटती है ,कभी बेरोजगार नौजवानों को पिटती है ,मजदूरों को पिटती है, कर्मचारियों को पिटती है और अब महिलाओं को भी नहीं बख्शा ,जिसे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
 21 अक्टूबर को पूरे प्रदेश में मुख्यमंत्री के पुतले जलाकर और 22 अक्टूबर को गोहाना नई अनाज मंडी में राज्य स्तरीय रैली करके जवाब दिया जाएगा। इस अवसर पर सुमन सुभरी उपप्रधान रोशनी, लक्ष्मी, सुमन, सुरेशो देवी, सुनीता, जगपाल राणा, रोशन लाल गुप्ता व ओमप्रकाश माटा ने आशा वर्करों को संबोधित किया।उन्होंने बताया की हमने26 अगस्त को मुख्यमंत्री के ओएसडी कृष्ण बेदी के आश्वासन पर प्रदेशभर में आशा वर्कर्स ने हड़ताल (strike) स्थगित करके ,आंदोलन जारी रखने का निर्णय लिया था। सरकार ने बार-बार केवल आश्वासन दिए हैं। उन्होंने कहा कि आज जब आशाएं मुख्यमंत्री आवास पर मीटिंग की जानकारी लेने आशाएं जा रही थी तो उन पर लाठी चार्ज करके हरियाणा सरकार ने अपना असली चेहरा दिखा दिया है।

 

ये हैं मुख्य मांगें मानदेय में की गई कटौती को तुरंत बाहल किया जाए। सभी आशा वर्कर्स को कोरोना महामारी में काम करने के लिए ₹4000 जोखिम भत्ता दिया जाए ! प्रदेश भर में सभी आशाओं को मुफ्त स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाए। कोरोना महामारी में दिए गए ₹1000 की 50 प्रतिशत राशि हरियाणा सरकार द्वारा तुरंत दी जाए। सरकारी स्वास्थ्य के ढांचे को मजबूत करते हुए सभी अस्पतालों में डॉक्टर, दवाइयां और जरूरी मशीनें उपलब्ध करवाई जाए द्य आम जनता को मुफ्त इलाज की सुविधा दी जाए। आशा वर्करों को पक्का कर्मचारी बनाया जाए, जब तक पक्का नहीं किया जाता तब तक मजदूर मानते हुए न्यूनतम वेतन लागू किया जाए और न्यूनतम वेतन 24 हजार घोषित किया जाए। आशाओं को ईएसआई ,पीएफ की सुविधा दी जाए। आशा वर्कर के मानदेय को महंगाई भत्ते के साथ जोड़ा जाए

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

  कैथल  में दर्दनाक हादसा ,कर्मी की जान करंट से मौत,एक्‍सईएन सहित 4 पर केस,2 सस्‍पेंड

Sarvekash Aggarwal

कैथल के  एक किसान की टिकरी बॉर्डर पर  मौत

admin

सिरसा में कथित सेवादारों के चलते जरूरतमंदों का भोजन जा रहा है कोठियों वालों के पेट में

Sarvekash Aggarwal

Leave a Comment

URL