हरियाणा पुलिस ने “डीएसपी के रीडर“ को मोर बनाया

हरियाणा पुलिस ने “डीएसपी के रीडर“ को मोर बनाया

Lockdown: Haryana Police makes “DSP reader” Mor
Yamunanagar(atal hind) Chinese virus Corona (Covid-19) की जंग से लड़ने के लिए पुलिस दिन रात सड़कों पर है। ऐसे में अब सड़कों पर निकलने वाले खुद को ही पुलिस बताकर पुलिस को गुमराह कर रहे हैं। पुलिस ने डीएसपी के एक फर्जी रीडर को जमकर सबक सिखाया।यह मामला यमुनानगर में उस वक्त सामने आया, जब पुलिस जा रही गाड़ियों को चेक कर रही थी।यमुनानगर के प्यारा चैक परएक संदेहजनक कार को रोका गया।इस कार पर ब्लेक फिल्म चढ़ी हुई थी।पुलिस ने युवक से गाड़ी के कागज दिखाने को कहा, तो उसने खुद को डीएसपी बराड़ा का रीडर बताया।पूछताछ में युवक कोई भी कागज नहीं दिखा पाया।न ही अपना पुलिस का कार्ड दिखा पाया।पुलिस ने तुरन्त उसका चालान कर दिया।एक और व्यक्ति की गाड़ी पर ब्लेक फिल्म थी, उस पर भी कारवाई की गई।यह व्यक्ति अपने आपको लायंस क्लब का सदस्य और इस माहौल में लोगों की मदद करने वाला बता रहा था।उसके पास प्रशासन की परमिशन नहीं थी।पुलिस ने उसकी गाड़ी का भी चालान किया।एसएचओ ट्रैफिक ललित कुमार ने बताया कि आज वे अपनी टीम के साथ प्यारा चैक पर थे। तभी उन्हें एक गाड़ी आती दिखाई दी। इस कार पर ब्लेक फिल्म लगी थी। जब उन्होंने उससे पूछा, तो उस युवक ने खुद को बराड़ा के डीएसपी का रीडर बताया।एसएचओ के मुताबिक वह युवक दावे के मुताबिक स्वयं को डीएसपी का रीडर साबित नहीं कर पाया। न ही कोई दस्तवेज दिखा पाया। एक अन्य कार भी ब्लेक फिल्म थीं। दोनों कारों का नियमानुसार चालान किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *