Atal hind
जॉब टॉप न्यूज़ हरियाणा

हरियाणा में एक हजार कर्मचारियों की नौकरी पर लटकी तलवार

हरियाणा में एक हजार कर्मचारियों की नौकरी पर लटकी तलवार

चंडीगढ़ (अटल हिन्द ब्यूरो )हरियाणा में ग्रुप डी में लगे करीब एक हजार कर्मचारियों को नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा। दरअसल हाईकोर्ट द्वारा 1993 की खेल ग्रेडेशन पॉलिसी के तहत जारी सर्टिफिकेट (Certificate) को अमान्य करार देने के बाद स्पोर्ट्स कोटे से लगे एक हजार कर्मचारियों की नौकरी पर तलवार लटक गई है।

हाईकोर्ट ने दिए अपने अहम फैसले में 1993 और 25 व 30 नवंबर की खेल ग्रेडेशन पालिसी के तहत जारी सर्टिफिकेट को ग्रुप डी की भर्ती के लिए मान्य नहीं माना। कोर्ट ने केवल 25 मई,2018 की खेल ग्रेडेशन पालिसी के तहत जारी ग्रेडेशन सर्टिफिकेट को ही मान्य करार दिया है।

कोर्ट के फैसले अनुसार जिन डी ग्रुप के कर्मचारियों का चयन पिछले साल स्पोर्ट्स कोटे में हुआ था, उन्हें 25 मई,2018 को अधिसूचित खेल ग्रेडेशन पालिसी के तहत ग्रेडेशन सर्टिफिकेट लेने के लिए आवेदन करना होगा और संबंधित अथारिटी को आवेदन और दावे पर एक महीने के भीतर फैसला करना अनिवार्य होगा।

सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा ने इस मामले में हरियाणा सरकार के रवैए पर आश्चर्य व्यक्त करते हुए कड़ी नाराजगी जताई है। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष लांबा, महासचिव सतीश सेठी व उप प्रधान सीलक राम मलिक ने कहा कि ऐसा पहली बार हुआ है कि बिना खर्ची-बिना पर्ची भर्ती करने का दावा करने वाली सरकार अपने ही कर्मचारी चयन आयोग द्वारा की गई भर्ती के खिलाफ हाईकोर्ट गई है।

उन्होंने कहा कि एक साल में जितनी भर्तियां हुई ग्रुप डी के इन कर्मचारियों के भाई व बहनों को 5 नंबर नहीं दिए, क्योंकि इनको कर्मचारी माना गया और कर्मचारियों के परिजनों के 5 अंक काट लिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि चयन आयोग व विभागों ने डाकूमेंटस वेरीफिकेशन करने के बाद ही ज्वाइनिंग करवाई थी। अगर इनके सर्टिफिकेट मान्य नही थे तो इन्हे क्यों ज्वाइन करवाया गया।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

छात्रा सिमरन और खुशी की ऊंची उड़ान,दोनों छात्राएं गरीब परिवार की 

admin

92 लाख पेंशन,दो बार पेश किया फर्जी कागजात पिता की मौत के आठ साल बाद तक बेटे ने ली

Sarvekash Aggarwal

कैथल सीआईए-1 पुलिस ने  मोस्टवांटिड अपराधी अवैध पिस्तौल व जिंदा कारतूस सहित गिरफतार किया 

admin

Leave a Comment

URL