हरियाणा में कौन विधायक कहां और किस निगम पर फिट बैठेगा सबकी निगाहें टिकी हैं

हरियाणा में CMO की नई नियुक्तियों पर निगाह, बोर्ड-निगमों में Adjust होंगे विधायक

Chandigarh (atalhind )hariyana भाजपा-जजपा गठबंधन की सरकार में मुख्यमंत्री कार्यालय में होने वाली नियुक्तियों पर सबकी निगाह टिकी हुई है। मुख्यमंत्री कार्यालय में OSD, Media advisor और Political secretary (राजनीतिक सचिव) के पद पर कुछ और नियुक्तियां इसी सप्ताह होने की संभावना है। इन नियुक्तियों में चुनाव हार चुके कुछ मंत्रियों को Adjust किया जा सकता है। मुख्यमंत्री कार्यालय में OSD के पद नियुक्ति के लिए भी कई अधिकारी और नेता लाबिंग करने में जुटे हुए हैं।

हरियाणा सरकार ने अभी तक सिर्फ आधा दर्जन बोर्ड एवं निगमों के Chairman नियुक्त किए हैं। राज्य में हालांकि 70 के आसपास बोर्ड एवं निगम हैं, लेकिन इनमें 40 बोर्ड एवं निगम ऐसे हैं, जिनकी नियुक्तियों को अहम माना जा सकता है। प्रदेश सरकार अपनी साझीदार जजपा को भी कुछ बोर्ड एवं निगम सौंप सकती है, ताकि दुष्यंत चौटाला अपनी पसंद के प्रमुख कार्यकर्ताओं को इनमें Adjust कर सके। इसके लिए दुष्यंत से नाम मांगे गए हैं।

भाजपा में इस बार बोर्ड एवं निगमों के Chairman उन कार्यकर्ताओं को बनाया जा सकता है, जो पार्टी के लिए पूरी तरह से समर्पित हैं। ऐसे कार्यकर्ताओं की सूची तैयार की जा रही है। भाजपा चार निर्दलीय विधायकों और एक पूर्व OSD को Chairman बना चुकी है। कुछ और विधायकों को बोर्ड एवं निगमों का Chairman बनाया जा सकता है, ताकि उन्हें भी सत्ता में होने का अहसास हो सके। ऐसे विधायकों के नामों को संगठन के स्तर पर चिन्हित किया जा रहा है।

भाजपा की प्राथमिकता पहले उन पूर्व मंत्रियों व पूर्व विधायकों को Adjust करने की है, जो इस बार 75 पार के नारे में तर नहीं पाए। पूर्व सहकारिता राज्य मंत्री मनीष ग्रोवर को मुख्यमंत्री की ओर से अहम जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। उन्हें CM का Political secretary नियुक्त करने की संभावना है।

मनीष ग्रोवर को दिल्ली बैठाने की तैयारी है, जबकि पूर्व मंत्री कृष्ण कुमार बेदी और पूर्व Chairman अजय गौड़ को पहले ही Political secretary बनाया जा चुका है। बेदी और गौड़ को तीन-तीन दिन के लिए CM अपने करनाल स्थित कैंप आफिस की भी जिम्मेदारी सौंप सकते हैं। हालांकि बेदी करनाल का दौरा कर हालात का जायजा भी ले चुके हैं।

CMO में होने वाली Media advisor की नियुक्ति पर फिलहाल सबकी निगाह टिकी हुई है। इस पद पर कई लोगों की नजर है। पिछली भाजपा सरकार में Media advisor रहे अमित आर्य को दोबारा नियुक्ति देकर सरकार ने दिल्ली की जिम्मेदारी सौंप दी है। अभी चंडीगढ़ मुख्यालय में Media advisor की नियुक्ति होनी बाकी है। इस पद पर पूर्व मंत्री कविता जैन के पति और CM के निवर्तमान Media advisor राजीव जैन को जिम्मेदारी मिलने की पूरी संभावना है।

अपने राजनीतिक तुजुर्बे की वजह से राजीव जैन बंसीलाल की सरकार में भी Media advisor रह चुके हैं। राजीव जैन और अमित आर्य ने सरकार के पिछले कार्यकाल में अपनी जिम्मेदारी का बखूबी निर्वाह किया है। माना जा रहा है कि इसी सप्ताह नई नियुक्तियां हो जाएंगी, क्योंकि CMO का कामकाज रुका हुआ है। CMO में दो नए OSD भी नियुक्त होने की चर्चा है। सरकार इस बार Media advisor के बजाय OSD (मीडिया) नियुक्त करने पर भी विचार कर रही है। इसके अलावा ट्रांसफरों के लिए अलग से OSD नियुक्त किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *