Atal hind
चण्डीगढ़  टॉप न्यूज़ व्यापार हरियाणा

हरियाणा में गेहूं खरीद 1अप्रैल से आढ़तियों को सरकार देगी आढ़त किसानों का नहीं कटेगा कोई पैसा

हरियाणा में गेहूं खरीद 1अप्रैल से आढ़तियों को सरकार देगी आढ़त किसानों का नहीं कटेगा कोई पैसा

CHANDIGARH NEWS(ATAL HIND)हरियाणा प्रदेश में 1 अप्रैल से मंडियों में गेहूं की सरकारी खरीद शुरू होगी। इस बार खरीद के लिए हरियाणा सरकार(HARYANA GOVT.) ने बड़ा कदम उठाया है। फसल की खरीद पर आढ़तियों को उनकी आढ़त राज्‍य सरकार देगी और इसे किसानाें के भुगतान से नहीं काटा जाएगा। इसक के साथ ही राज्‍य सरकार को उम्मीद है कि इस बार राज्य की मंडियों में आठ से 10 अप्रैल के बीच ही गेहूं बिक्री के लिए पहुंच सकेगी। प्रदेश में इस बार 125 लाख मीट्रिक टन गेहूं की पैदावार होने की उम्मीद है, जिसमें से 81 से 85 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद सरकार द्वारा की जाएगी। प्रदेश में कल से गेहूं की सरकारी खरीद आरंभ हो जाएगी। सरकार ने गेहूं खरीद की समस्त तैयारियां पूरी कर ली हैं। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दावा किया है कि किसानों की फसल का समस्त पैसा उनके खातों में ट्रांसफर किया जाएगा।
चंडीगढ़ में मीडिया कर्मियों के सवालों का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोग उन्हें प्रयोगधर्मी कहते हैं। मैं भी यह मानता हूं कि मैं प्रयोगधर्मी हूं। नए प्रयोग करने में हम बिल्कुल भी नहीं हिचकिचाएंगे और न ही पहले कभी हिचकिचाए हैं। उन्होंने कहा कि आढ़तियों को उनकी आढ़त सरकार देगी। कुछ लोग ऐसा भ्रम पैदा कर रहे हैं कि आढ़ती की आढ़त किसान की पेमेंट से काटी जाएगी। उन्‍होंने कहा कि कुछ आढ़तियों ने जिला उपायुक्तों से कहा है कि उन्होंने जरूरी कार्यों के लिए किसानों को एडवांस राशि दे रखी है। वैसे तो यह किसान और आढ़ती के बीच का मामला है, लेकिन किसान बहुत ईमानदार होते हैं। किसान अपने खातों में आई पेमेंट से आढ़तियों का पैसा हर सूरत में वापस करेंगे।

सरसों कम आने की उम्मीद प्राइवेट मार्केट में रेट ज्यादा
मुख्यमंत्री ने एक सवाल के जवाब में कहा कि राज्य में करीब 400 मंडियों में गेहूं की खरीद होगी। इस बार प्राइवेट मार्केट में सरसों के रेट किसानों को बहुत ज्यादा मिल रहे हैं। इसलिए उम्मीद है कि सरसों की फसल किसान प्राइवेट बाजार में ही बेचेंगे। यदि उन्हें कम रेट मिले तो सरकार एमएसपी पर सरसों की खरीद करेगी। उन्होंने स्पष्ट किया कि किसानों के खाते में सीधे पेमेंट देने के विरोध स्वरूप यदि आढ़ती गेहूं की खरीद नहीं करेंगे तो सरकार किसी तरह का व्यवधान नहीं आने देगी और गेहूं खरीद के लिए अस्थाई (टेंपरेरी) खरीद लाइसेंस प्रदान किए जाएंगे।
72 घंटे में पेमेंट नहीं तो नौ फीसदी ब्याज पक्का
मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने कहा कि इस बार सरकार ने गेहूं खरीद के लिए एसओपी (गाइड लाइन) तैयार की है। इस बार गेहूं बिकने के बाद जे फार्म कटने के 72 घंटे के भीतर किसानों को उनके खातों में पेमेंट भेज दी जाएगी। ऐसा नहीं होने पर नौ फीसदी ब्याज मिलेगा।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

  नारनौल महिला थाना एसएचओ का घर साफ चोरो ने 27 मिनट में कर दिया  

Sarvekash Aggarwal

कैथल में नर्स की बड़ी करतूत ,सरकारी अस्पताल कैथल के साथ साथ देश भगत यूनिवर्सिटी  मंडी गोबिंदगढ़ फतेहगढ़ साहिब में लगा रही थी हाजरी ,हुई टर्मिनेट 

admin

ग्रहण दर्शन ना करें 🌗 ये नहीं देखना चाहिए और ग्रहण की छाया भी हम पर न पड़े इसका ध्यान रखना चाहिए।

Sarvekash Aggarwal

Leave a Comment

URL