Atal hind
Uncategorized

हरियाणा में प्रवासी मजदूरों पर जानलेवा हमला

हरियाणा में प्रवासी मजदूरों पर जानलेवा हमला , हमलावरों को गिरफ्तार नहीं कर रही पुलिस : रणधीर राय

 

Deadly attack on migrant laborers in Haryana, police not arresting attackers: Randhir Rai

लॉक डाउन में मानेसर में यूपी व बिहार के मजदूरों पर जानलेवा हमला, हमलावरों को गिरफ्तार नहीं कर रही पुलिस : रणधीर राय. प्रवासी मजदूरों की सुरक्षा और रोजी-रोटी का ख्याल नहीं किया गया तो बड़े पैमाने पर मजदूरों का हो सकता है पलायन

 

 

 

गुरुग्राम(अटल हिन्द ब्यूरो ) आईएमटी मानेसर के अलियर गांव के मजदूरों के साथ ग्रामीणों द्वारा मारपीट की घटना पर जनसेवा एवं सांस्कृतिक चेतना मंच के अध्यक्ष रणधीर राय ने कड़ा आक्रोश व्यक्त करते हुए पुलिस प्रशासन से आरोपियों को तुरंत गिरफ्तार करने की मांग की है। रणधीर राय ने कहा है कि ग्रामीणों ने जिस प्रकार से निर्दोष मजदूरों पर घर में घुसकर लोहे के रड से जानलेवा हमला किया उससे बिहार के सिवान और छपरा के दो मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गए। उनका इलाज प्राइवेट अस्पताल में चल रहा है।

 

 

उधर यह जहां घटना हुई उस बिल्डिंग में किराए के मकान में करीब 45 मजदूर रहते हैं जिन्हें अभी भी बराबर धमकियां मिल रही है। जबकि पुलिस की ओर से हमलावरों को गिरफ्तार नहीं किए जाने से हमलावरों का मनोबल बढ़ा हुआ है और आशंका है कि वे फिर से वहां रह रहे मजदूरों पर हमला कर सकते हैं। रणधीर राय ने कहा है कि अगर पुलिस उन मजदूरों की सुरक्षा और रोजी-रोटी का इंतजाम नहीं कर सकती है तो उन्हें वापस यूपी और बिहार स्थित उनके घर भेजने की व्यवस्था करे।

 

 

रणधीर राय ने पुलिस की कार्रवाई पर असंतोष जाहिर करते हुए मांग की है कि पुलिस को आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 307 का मुकदमा दर्ज कर उन्हें अविलंब जेल भेजा जाना चाहिए। उन्होंने कहा है कि आज भी मानेसर के अलियर गांव में प्रभावित मजदूर अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं और वे लोग यूपी और बिहार की सरकारों से वीडियो भेज कर सुरक्षित वापस अपने गांव भेजे जाने की मांग कर रहे हैं।

 

 

 

 

उन्होंने आरोप लगाया है कि आरोपियों को राजनैतिक संरक्षण मिला हुआ है। इस वजह से पुलिस प्रशासन उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं कर रही है। ऐसे में गुडग़ांव पुलिस के खिलाफ लोगों का आक्रोश बढ़ सकता है।घटना के संबंध में जानकारी देते हुए रणधीर राय ने बताया कि ग्रामीण महंगे दर पर अपनी दुकान से मजदूरों को राशन लेने का दबाव बना रहे थे। जब मजदूरों ने वहां से राशन लेना बंद कर दिया तब उन्होंने मजदूरों को सबक सिखाने के उद्देश्य से इस तरह की घटना को अंजाम दिया। उन्होंने चिंता जाहीर करते हुए कहा है कि प्रवासी मजदूरों की सुरक्षा और रोजी-रोटी का ख्याल नहीं किया गया तो बड़े पैमाने पर मजदूरों का गुरुग्राम से पलायन हो सकता है जो हरियाणा के लिए अच्छा संकेत नहीं होगा।

Leave a Comment