बड़ी खबर-हरियाणा सचिवालय से जुड़े शराब घोटाले के तार?,अभय चौटाला ने विज का समर्थन किया

सोनीपत शराब घोटोला में आने लगा सियासी रंग
हरियाणा सचिवालय से जुड़े शराब घोटाले के तार?
ईडी और इनकम टैक्स को मामले की जांच करेंगी
अभय चौटाला ने विज के कदमों का किया समर्थन

 

Political color started coming in Sonipat liquor scandal
Telegram of alcohol scam related to Haryana Secretariat
ED and income tax will investigate the case
Abhay Chautala supported Vij’s move

–राजकुमार अग्रवाल —

चंडीगढ़ (अटल हिन्द ब्यूरो )। हरियाणा के सोनीपत जिले के खरखौदा स्थित गोदाम में हुए शराब घोटाला अब सियासी रंग लेता नजर आ रहा है। पूरा मामला हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज और राज्य के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के बीच झूलता दिख रहा है। दुष्यंत के पास आबकारी विभाग का कार्यभर है। अब मामले में विपक्षी नेता भी कूद पड़े हैं। इनेलो नेता अभय चौटाला ने अनिल विज द्वारा उठाए गए कदमों का समर्थन किया है। दूसरी ओर,इस घोटाले के तार हरियाणा के सिविल सचिवालय तक जुड़ गए हैैं। इस मामले में हरियाणा सरकार की एसआइटी गठित होने से पहले ही एडीजीपी संदीप खिरवार ने पहले ही एसआइटी का गठन कर दिया है। रोहतक के पुलिस अधीक्षक (एसपी) राहुल शर्मा के नेतृत्व में बनाई गई एसआइटी ने अपनी जांच शुरू कर दी है। दूसरी ओर सोनीपत पुलिस ने चंडीगढ़ पुलिस के साथ मिलकर चंडीगढ़ में आरोपित भूपेंद्र सिंह की कोठी पर दबिश दी। वहीं,शनिवार देर शाम भूपेंद्र सिंह ने सोनीपत के खरखौदा थाने में सरेंडर कर दिया। पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है। पुलिस का कहना है कि पूछताछ के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। मामले की जांच एसआईटी कर रही है। भूपेंद्र पर शराब तस्करी के एक दर्जन से अधिक मामले दर्ज हैं। मोबाइल फोन से कई वीआईपी नंबर मिले हैं। प्राथमिक जांच में मोबाइल फोन के माध्यम से कई राज खुलने की बातें कही जा रही हैं। भूपेंद्र सिंह वह विवादित व्यक्ति है,जिसके गोदाम में पुलिस द्वारा जब्त की गई तथा आबकारी विभाग की शराब रखी गई थी,जिसे बाद में लाकडाउन के दौरान बेच दिया गया। पुलिस के पहुंचने से पहले ही भूपेंद्र सिंह यहां से बच निकलने में कामयाब रहा। उसे पुलिस के छापे की भनक पहले ही लग गई थी। पुलिस ने उसके घर से तीन मोबाइल फोन,90 लाख रुपये नगद और ज्वैलरी बरामद की है। हरियाणा पुलिस को लगता है कि मोबाइल फोन से उसे काफी सुराग मिल सकते हैं।अब पुलिस तीनों फोन का रिकार्ड खंगालेंगी। फोन में आए मैसेज के अलावा भेजे गए मैसेज और काल डिटेल जुटाई जाएगी। पुलिस मोबाइल फोन के जरिये यह भी पता लगाएगी कि शराब बिक्री के दौरान भूपेंद्र सिंह की किन-किन लोगों से बातचीत हुई। हरियाणा के गृह विभाग से जुड़े सूत्रों ने संकेत दिए कि भूपेंद्र सिंह की पुलिस के भी कई बड़े अफसरों से सीधी बातचीत होती थी। भूपेंद्र सिंह कई बार हरियाणा सिविल सचिवालय में भी देखा गया है। वह अधिकारियों से मिलने के लिए ही आया करता था। भूपेंद्र सिंह पर दो जिलों में पहले से ही 11 मुकदमे चल रहे हैं। गृह मंत्री अनिल विज ने डीजीपी मनोज यादव से भूपेंद्र सिंह के खिलाफ चल रहे सभी मामलों की जानकारी तलब की है। साथ ही यह भी पूछा है कि सोनीपत पुलिस ने आखिर भूपेंद्र सिंह के गोदाम में किसकी मंजूरी से पकड़ी गई शराब को रखा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Our COVID-19 India Official Data
Translate »
error: Content is protected !! Contact ATAL HIND for more Info.
%d bloggers like this: