हरियाणा  हजारों मुर्गियों ने दम तोड़ा, उप्र ने मदद को बढ़ाए हाथ ?

हरियाणा  हजारों मुर्गियों ने दम तोड़ा, उप्र ने मदद को बढ़ाए हाथ ?
chandigarh(atal hind)हरियाणा के पंचकूला, अंबाला, यमुनानगर, कुरूक्षेत्र, जींद, सिरसा व फतेहाबाद करीब एक दर्जन जिलों में पोल्ट्री फार्म का कारोबार होता है। पंचकूला में सर्वाधिक पोल्ट्री फार्म हैं।
कोरोना वायरस के चलते हरियाणा के पोल्ट्री फार्मों से जहां पड़ोसी राज्यों व पड़ोसी देशों में अंडों की सप्लाई कई दिनों से बंद है। अब पोल्ट्री फार्मों में मुर्गी दाना (फीड) भी खत्म हो चुकी है। जिसके चलते हजारों की संख्या में मुर्गियों की मौत हो चुकी है।
इसका मुख्य कारण उत्तर प्रदेश और बिहार से होने वाली मक्का व मुर्गी फीड की सप्लाई बंद होना बताया जाता है।
गुरुवार को कुछ पोल्ट्री फार्म संचालकों ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल को इस समस्या से अवगत कराया, तो उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से फोन पर बात की।
लाकडाउन की वजह से सैकड़ों ट्रक उत्तर प्रदेश में ही फंसे हुए हैं, जिनकी वजह से हरियाणा में मुर्गियों के फीड की सप्लाई नहीं हो रही है।
हरियाणा के आग्रह को मानते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने राज्य में फंसे हुए तमाम ट्रक रिलीज कर दिए हैं, जो हरियाणा की तरफ रवाना हो चुके हैं।
हरियाणा सरकार ने पोल्ट्री फार्म संचालकों को वैकल्पिक व्यवस्था के तौर पर बाजरा भी उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है।
राज्य सरकार ने पिछले दिनों करीब दो हजार रुपये क्विंटल की दर पर राज्य के लोगों से बाजरे की खरीद की थी।
सरकार ने पोल्ट्री फार्म संचालकों को तीन दिन के लिए 1550 रुपये क्विंटल की दर से यह बाजरा उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *